कच्चातेल की चोरी के मामले में ईडी ने 2.76 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 20, 2019   14:01
कच्चातेल की चोरी के मामले में ईडी ने 2.76 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की

राजस्थान पुलिस द्वारा सिंह और उनके सहयोगियों के खिलाफ दायर चार एफआईआर और आरोप पत्र पर संज्ञान लेने के उनके खिलाफ मनी लांडरिंग का मामला दर्ज किया है।

नयी दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मंगलवार को कहा कि उसने राजस्थान के बाड़मेर जिले में केयर्न इंडिया लिमिटेड के टैंकर ट्रकों से कच्चे तेल की कथित चोरी से जुड़े मामले में मनी लांडरिंग रोधी कानून के तहत 2.76 करोड़ रुपये की संपत्तियां कुर्क की हैं।  केंद्रीय जांच एजेंसी ने भूर सिंह नाम के व्यक्ति और कुछ अन्य के खिलाफ बाड़मेर और जोधपुर में उनकी कथित रूप से कथित रूप से अपराध की कमाई से जुटायी गयी कृषि भूमि और आवासीय सम्पत्तियों को कुर्क का अनंतिम आदेश जारी किया।

इसे भी पढ़ें: कोर्ट ने रॉबर्ट वाड्रा की अग्रिम जमानत अवधि 25 मार्च तक बढ़ाई

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने कहा कि उसने केयर्न इंडिया लिमिटेड के कच्चे तेल की बड़ी मात्रा में चोरी करने के एक कथित मामले में राजस्थान पुलिस द्वारा सिंह और उनके सहयोगियों के खिलाफ दायर चार एफआईआर और आरोप पत्र पर संज्ञान लेने के उनके खिलाफ मनी लांडरिंग का मामला दर्ज किया है। यह तेल चोरी टैंकर ट्रकों से की गई थी।

इसे भी पढ़ें: NCP की दूसरी लिस्ट जारी, पवार के पौत्र और भुजबल के भतीजे को टिकट

ईडी का दावा है कि सिंह और एक अन्य व्यक्ति गौतम राजपुरोहित ने टैंकर ट्रक मालिकों, ड्राइवरों और सहायकों के साथ मिलकर कच्चा तेल चुराया। एक बयान में कहा गया,  कच्चे तेल को आगे चलकर फर्म फ्लाई इंफ्राटेक और भंवरिया एंड ब्रदर्स के नाम से बिल बनाकर अलग-अलग पक्षों को बेचा जा रहा था। इस बीच, चुनाव आयोग ने चुनाव खर्च पर निगरानी के लिए दो पूर्व वरिष्ठ अधिकारियों को विशेष पर्यवेक्षक नियुक्त किया है। पूर्व नौकरशाह शैलेन्द्र हांडा को महाराष्ट्र और मधु महाजन को तमिलनाडु में तैनात किया गया है। इन अधिकारियों को चुनाव के दौरान आचार संहिता के उल्लंघन संबंधी शिकायतों के निस्तारण पर भी निगरानी रखने की जिम्मेदारी सौंपी गयी है। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।