15 साल में पहली बार हुआ ऐसा! इस मामले में भारत से पिछड़ा ब्राजील

15 साल में पहली बार हुआ ऐसा! इस मामले में भारत से पिछड़ा ब्राजील

अरब-ब्राजील चैंबर ऑफ कॉमर्स द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़ों के अनुसार, भारत ने 15 वर्षों में पहली बार अरब राज्यों को पछाड़ते हुए खाद्य निर्यात में ब्राजील को पीछे छोड़ दिया है और इसका मुख्य कारण कोरोना महामारी है। इस महामारी के कारण साल 2020 में ट्रेड फ्लो में बाधा आई है।

एक्सपोर्ट के मामले में भारत ने एक बड़ा परचम लहराया है। आपको बता दें कि, अरब देशों को पछाड़ते हुए भारत ने फूड एक्सपोर्ट करने के मामले में ब्राजील को पीछे छोड़ दिया है। मंगलवार को रॉयटर्स को अरब-ब्राजील चैंबर ऑफ कॉमर्स द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़ों के अनुसार, भारत ने 15 वर्षों में पहली बार अरब राज्यों को पछाड़ते हुए  खाद्य निर्यात में ब्राजील को पीछे छोड़ दिया है और इसका मुख्य कारण कोरोना महामारी है। इस महामारी के कारण साल 2020 में ट्रेड फ्लो में बाधा आई है।

इसे भी पढ़ें: अब पीएफ खाते से भर सकते हैं LIC प्रीमियम, जानें शर्तें और क्या मिलेगी सुविधा

आपको बता दें कि, अरब दुनिया ब्राजील के सबसे महत्वपूर्ण व्यापार भागीदारों में से एक है, लेकिन कोरोना महामारी के चलते अरब देशों और ब्राजील के बीच की दूरी का असर ग्लोबल लॉजिस्टिक सेवाओं पर देखने को मिला है। इसी कारण से फूड एक्सपोर्ट करने के मामले में भारत से ब्राजील देश पिछड़ गया। आकंड़ो के मुताबिक, ब्राजील के 8.15 फीसदी के मुकाबले भारत ने 8.25 फीसदी हिस्से पर कब्जा बनाया है। ब्राजील द्वारा जारी किए गए डेटा के मुताबिक, 22 लीग सदस्यों द्वारा आयात किए गए उत्पादों में ब्राजील का हिस्सा 8.15% था, जबकि भारत ने उस व्यापार का 8.25% कब्जा कर लिया है। इसकी वजह से ब्राजील का 15 सालों का लाभ एकदम से खत्म हो गया है। 

इसे भी पढ़ें: आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री ने कहा, कोविड-19 के कारण 30,000 करोड़ का नुकसान

सऊदी अरब में ब्राजील के शिपमेंट में 30 दिन लगते थे लेकिन अब यहीं 60 दिनों तक का समय लग सकता है।अरब लीग को ब्राजील का कृषि निर्यात पिछले साल केवल 1.4% बढ़कर 8.17 बिलियन डॉलर हो गया। चेंबर के आंकड़ों से पता चलता है कि इस साल जनवरी और अक्टूबर के बीच, कुल बिक्री 6.78 बिलियन डॉलर रही, जो 5.5% अधिक थी।चेंबर के डेटा के मुताबिक, ब्राजील का ऐसे पिछड़ने के पीछे एक और बड़ा कारण है। चीन ने महामारी के दौरान अपनी फूड इंवेटरी को बढ़ाया जिसके कारण ब्राजील के ट्रेड में दिक्कतें बढ़ने लगीं। सऊदी अरब जैसे प्रमुख देशों के साथ ब्राजील के कुछ बिजनेस को बिल्कुल बदल कर रख दिया।