क्या आप भी क्रिप्टोकरेंसी से मिलते-जुलते सस्ते टोकन में कर रहे हैं निवेश? पहले समझ ले यह जरूरी बात

investing in cheap tokens similar to cryptocurrencies First understand this
निधि अविनाश । Dec 30, 2021 3:21PM
ऑल्टकाइन या ऑल्टरनेट क्रिप्टोकरेंसी के नाम से जाना जाता है। बाजार में इस समय 13 हजार से ज्यादा ऑल्टकाइन मौजुद है और लोग इसमें निवेश करने पर ज्यादा मुनाफा कमाने की सोच रहे है।

भारत में क्रिप्टोकरेंसी के आते ही जैसे निवेशकों की बाढ़ आ गई।बिटकॉइन में निवेश करने के लिए निवेशकों ने अपनी दिलचस्पी काफी दिखाई। लेकिन सरकार द्वारा इस करेंसी  पर लगाई जा रही रोक निवेशकों के लिए एक चिंता का विषय भी बन गई है। साल 2008 से अब तक न जने दुनिया के कितने ही निवेशकों ने बिटकॉइन में निवेश किया और उन्हें मुनाफे भी जोरदार हुए। एक क्रेज में भारत में  क्रिप्टोकरेंसी की लोकप्रियता भी काफी बढ़ी। इसी नतीजे के बीच ऐसे कई भारी मात्रा में लोग है जो थोड़ बहुत निवेश करने की चाह रखते है। लेकिन अब उनके पास कोई ऑप्शन नहीं है। इसी को देखते हुए अब क्रिप्टो के नाम से ही मिलते-जुलते कई टोकन पेश किए जा रहे है और निवेशकों की संख्या भी इस ओर बढ़ती नजर आ रही है। 

इसे भी पढ़ें: इन 5 कामों में कैश का कम करें उपयोग, वरना आयकर विभाग का आ जाएगा नोटिस! जान लीजिए इनकम टैक्स के ये रूल्स

क्या है इन टोकन का नाम?

इन टोकन को आमतौर पर ऑल्टकाइन या ऑल्टरनेट  क्रिप्टोकरेंसी के नाम से जाना जाता है। बाजार में इस समय 13 हजार से ज्यादा  ऑल्टकाइन मौजुद है और लोग इसमें निवेश करने पर ज्यादा मुनाफा कमाने की सोच रहे है। 

इसे भी पढ़ें: रिजर्व बैंक ने पीएमसी बैंक पर मार्च, 2022 तक बढ़ाया अंकुश

क्या कहता है मार्केट एक्सपर्ट

मार्केट एक्सपर्ट के मुताबिक, निवेशकों को भारी मात्रा में या कम मात्रा में भा अगर निवेश करना है तो सबसे पहले इन ऑल्टकॉइन के बारे में जानाकरी हासिल कर लेना चाहिए कि यह कहा से आए है और यह कितने सुरक्षित है। 

आपको बता दें कि क्रिप्टोकरेंसी जैसे लोकप्रिय करेंसी ब्लॉकचेन टेक्नॉलजी पर काम करते हैं। इस ब्लॉकचेन के नियमों में बदलाव लाने के लिए एक शाखा तैयार की जाती है जो कि दो भागो में बंट जाती है। यह दो सॉफ्ट और हार्ड फॉक के नाम से होती है।बता दें कि, बिटकॉइन कैश और बिटकॉइन गोल्ड जैसे ओरिजिनल बिटकॉइन नेटवर्क में हार्ड फॉक का नतीजा हैं। 

अन्य न्यूज़