जेट एयरवेज के CEO विनय दुबे सहित चार वरिष्ठ कार्यकारियों ने दिया इस्तीफा

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: May 15 2019 12:33PM
जेट एयरवेज के CEO विनय दुबे सहित चार वरिष्ठ कार्यकारियों ने दिया इस्तीफा
Image Source: Google

नकदी संकट से जूझ रही कंपनी ने मंगलवार को तीन कार्यकारियों दुबे, अग्रवाल और कंपनी सचिव कुलदीप शर्मा के इस्तीफे की घोषणा की। वहीं एक सूत्र ने घोषणा की कि मुख्य लोक अधिकारी (चीफ पीपुल आफिसर) राहुल तनेजा ने भी इस्तीफा दे दिया है।

मुंबई। जेट एयरवेज के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) विनय दुबे और डिप्टी सीईओ अमित अग्रवाल समेत चार वरिष्ठ कार्यकारियों ने इस्तीफा दे दिया है। नकदी संकट से जूझ रही कंपनी ने मंगलवार को तीन कार्यकारियों दुबे, अग्रवाल और कंपनी सचिव कुलदीप शर्मा के इस्तीफे की घोषणा की। वहीं एक सूत्र ने घोषणा की कि मुख्य लोक अधिकारी (चीफ पीपुल आफिसर) राहुल तनेजा ने भी इस्तीफा दे दिया है।

अग्रवाल को छोड़कर अन्य ने मंगलवार को इस्तीफा दिया। अग्रवाल ने सोमवार को इस्तीफा दिया था। जेट एयरेवज ने शेयर बाजारों को भेजी सूचना में कहा, ‘‘हम यह सूचित करना चाहते हैं कि मुख्य कार्यकारी अधिकारी विनय दुबे ने व्यक्तिगत कारणों से तत्काल प्रभाव से इस्तीफा दे दिया है। दुबे के आने से 15 महीने पहले मुख्य कार्यकारी क्रैमर बॉल ने इस्तीफा दिया था। इस अवधि के दौरान अग्रवाल ने कार्यवाहक सीईओ की भूमिका निभाई थी। 

इसे भी पढ़ें: जेट एयरवेज को लगा एक और झटका, CFO अमित अग्रवाल ने दिया इस्तीफा

इससे पहले दिन में जेट एयरवेज ने शेयर बाजारों को सूचित किया कि अग्रवाल ने व्यक्तिगत कारणों से अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। एयरलाइन के दो शीर्ष अधिकारियों ने ऐसे समय इस्तीफा दिया है जबकि एसबीआई की अगुवाई वाला बैंकों का गठजोड़ एयरलाइन के लिए खरीदार ढूंढने का प्रयास कर रहा है। जेट एयरवेज के ऋणदाताओं को कंपनी से 8,000 करोड़ रुपये वसूलने है। ऋणदाताओं ने कंपनी की 31.2 से 75 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचने की पेशकश की है। 



इसे भी पढ़ें: जेट में निवेश करेगी Etihad Airways, वित्तीय बोली जमा की

एसबीआई की मर्चेंट बैंकिंग इकाई एसबीआई कैप्स ने 26 बैंकों के गठजोड़ की ओर से 8 से 12 अप्रैल के दौरान रुचि पत्र मांगा था। उसे चार शुरुआती बोलियां मिली हैं। इन 26 बैंकों के पास एयरलाइन की 51 प्रतिशत हिस्सेदारी है। पहले दौर की बोली के बाद निजी इक्विटी कंपनियों इंडिगो पार्टनर्स और टीपीजी, एतिहाद एयरवेज और सॉवरेन कोष एनआईआईएफ का नाम छांटा गया था। अबू धाबी की एतिहाद एयरवेज ने जेट एयरवेज में बहुलांश हिस्सेदारी के लिए सीलबंद बोली दी है। इस बीच, तनेजा ने कहा कि एयरलाइन को छोड़ने का निर्णय काफी कठिन था। 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story