मीडिया और मनोरंजन उद्योग 2030 तक 7.5 लाख करोड़ रुपये होने का अनुमान: ठाकुर

Anurag Thakur
ANI Photo.
सूचना एवं प्रसारण मंत्री ठाकुर ने यह भी कहा कि देश में डिजिटल ढांचे के त्वरित विस्तार और एवीजीसी (एनिमेशन, विजुअल इफेक्ट्स, गेमिंग और कॉमिक्स) क्षेत्र में आ रहे बदलाव भारत को मीडिया और मनोरंजन उद्योग में पोस्ट-प्रोडक्शन का केंद्र बनाने की क्षमता रखते हैं।

पुणे|  केंद्रीय मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने रविवार को कहा कि मीडिया और मनोरंजन पारिस्थितिकी एक तेजी से बढ़ता हुआ क्षेत्र है जिसके वर्ष 2030 तक बढ़कर 7.5 लाख करोड़ रुपये हो जाने का अनुमान है।

सूचना एवं प्रसारण मंत्री ठाकुर ने यह भी कहा कि देश में डिजिटल ढांचे के त्वरित विस्तार और एवीजीसी (एनिमेशन, विजुअल इफेक्ट्स, गेमिंग और कॉमिक्स) क्षेत्र में आ रहे बदलाव भारत को मीडिया और मनोरंजन उद्योग में पोस्ट-प्रोडक्शन का केंद्र बनाने की क्षमता रखते हैं।

ठाकुर ने यहां सिम्बायोसिस स्किल एंड प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी द्वारा आयोजित एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘मीडिया और मनोरंजन पारिस्थितिकी एक उभरता हुआ क्षेत्र है जिसके वर्ष 2025 तक सालाना चार लाख करोड़ रुपये का कारोबार करने और वर्ष 2030 तक 7.5 लाख करोड़ रुपये का उद्योग बनने का अनुमान है।’’

ठाकुर ने कहा कि सरकार ने ऑडियो-विजुअल सेवाओं को 12 चैंपियन सेवा क्षेत्रों में शामिल किया है। इसके अलावा टिकाऊ वृद्धि को संभव बनाने के लिए सरकार ने कई प्रमुख नीतिगत कदम भी उठाए हैं।

उन्होंने कहा कि मीडिया एवं मनोरंजन क्षेत्र में कई तरह की भूमिकाएं निकल कर आई हैं और उद्योग तथा अकादमिक जगत को साथ आकर ऐसे कार्यक्रम डिजाइन करने चाहिए जो इस क्षेत्र की जरूरतों के अनुरूप हों।

उन्होंने भारत में फिल्मों को बॉलीवुड एवं टॉलीवुड के रूप में पेश करने की प्रवृत्ति पर नाखुशी जताते हुए कहा, मुझे बॉलीवुड एवं टॉलीवुड जैसे शब्द पसंद नहीं हैं। इसकी जगह पर भारतीय फिल्म उद्योग शब्द का इस्तेमाल किया जाना चाहिए।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़