NCLT ने रिलायंस कैपिटल के लिए दूसरी नीलामी 23 जनवरी तक टालने को कहा

NCLT
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
अनिल अंबानी प्रवर्तित रिलायंस कैपिटल की पहले चरण की नीलामी की विजेता कंपनी टॉरेंट इन्वेस्टमेंट ने 12 मार्च को एनसीएलटी की मुंबई पीठ में ‘चुनौती तंत्र’ के लिए ऋणदाताओं के प्रस्ताव पर रोक लगाने की मांग की थी, जिस पर 19 जनवरी को सुनवाई होनी थी।

राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) ने बुधवार को ऋणदाताओं से बृहस्पतिवार को प्रस्तावित रिलायंस कैपिटल की दूसरी नीलामी को 23 जनवरी तक टालने के लिए कहा है क्योंकि अभी तक दोनों पक्षों की बहस पूरी नहीं हुई है। अनिल अंबानी प्रवर्तित रिलायंस कैपिटल की पहले चरण की नीलामी की विजेता कंपनी टॉरेंट इन्वेस्टमेंट ने 12 मार्च को एनसीएलटी की मुंबई पीठ में ‘चुनौती तंत्र’ के लिए ऋणदाताओं के प्रस्ताव पर रोक लगाने की मांग की थी, जिस पर 19 जनवरी को सुनवाई होनी थी।

न्यायमूर्ति श्याम बाबू गौतम और न्यायमूर्ति प्रदीप नरहरि देशमुख की अगुवाई वाले न्यायाधिकरण ने ‘चुनौती तंत्र’ की तारीख बढ़ाकर 23 जनवरी कर दी है। उस समय तक सभी पक्षों की सुनवाई पूरी हो जाएगी। इस मामले पर बृहस्पतिवार को सुनवाई जारी रहेगी। प्रशासक की ओर से रवि कदम ने कहा कि ऋणदाताओं की समिति (सीओसी) के पास नई समाधान योजना लाने का अधिकार है। उन्होंने कहा, ‘‘पूर्व की सभी बोलियां अभी तक वैध हैं, लेकिन सीओसी किसी बेहतर प्रस्ताव का इंतजार कर रही है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़