शेयर बाजारों में लगातार सातवें दिन तेजी, सेंसेक्स और निफ्टी का नया रिकॉर्ड

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 18, 2021   17:48
शेयर बाजारों में लगातार सातवें दिन तेजी,  सेंसेक्स और निफ्टी का नया रिकॉर्ड

बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स दिन में कारोबार के दौरान अपने सर्वकालिक उच्चस्तर 61,963.07 अंक तक गया। अंत में यह 459.64 अंक या 0.75 प्रतिशत के लाभ से 61,765.59 अंक के नए रिकॉर्ड स्तर पर बंद हुआ।

मुंबई। शेयर बाजारों में तेजी का सिलसिला सोमवार को लगातार सातवें कारोबारी सत्र में भी जारी रहा। बैंक, सूचना प्रौद्योगिकी और धातु कंपनियों के शेयरों में जबर्दस्त लिवाली से सेंसेक्स 460 अंक और मजबूत होकर अपने सर्वकालिक उच्चस्तर पर पहुंच गया। हालांकि, फार्मा और वाहन कंपनियों के शेयरों में मुनाफावसूली का सिलसिला चला। बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स दिन में कारोबार के दौरान अपने सर्वकालिक उच्चस्तर 61,963.07 अंक तक गया। अंत में यह 459.64 अंक या 0.75 प्रतिशत के लाभ से 61,765.59 अंक के नए रिकॉर्ड स्तर पर बंद हुआ। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 138.50 अंक या 0.76 प्रतिशत के लाभ से 18,477.05 अंक पर बंद हुआ। यह इसका नया रिकॉर्ड है।

इसे भी पढ़ें: तमिलनाडु में पलार नदी के निकट रह रहे लोगों के लिए बाढ़ की चेतावनी जारी

कारोबार के दौरान यह 18,543.15 अंक के अपने सर्वकालिक उच्चस्तर तक गया। सेंसेक्स की कंपनियों में इन्फोसिस का शेयर सबसे अधिक 4.4 प्रतिशत चढ़ गया। टेक महिंद्रा, टाटा स्टील, आईसीआईसीआई बैंक, आईटीसी, मारुति, एसबीआई और एक्सिस बैंक के शेयर भी लाभ में रहे। वहीं दूसरी ओर एचसीएल टेक, महिंद्रा एंड महिंद्रा, डॉ. रेड्डीज, एशियन पेंट्स, बजाज ऑटो, एचडीएफसी बैंक और भारती एयरटेल के शेयरों में गिरावट आई। जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘‘कमजोर वैश्विक रुख और चीन के सकल घरेलू उत्पाद के निराशाजनक आंकड़ों के बावजूद भारतीय बाजार नयी ऊंचाई पर पहुंच गए।’’ जुलाई-सितंबर की तिमाही में चीन की आर्थिक वृद्धि दर घटकर 4.9 प्रतिशत रह गई है। आनंद राठी शेयर्स एंड स्टॉक ब्रोकर्स के इक्विटी शोध (बुनियादी) प्रमुख नरेंद्र सोलंकी ने कहा कि शुरुआती आंकड़ों से पता चलता कि भारतीय अर्थव्यवस्था अब पुनरुद्धार की राह पर है। इससे बाजार की धारणा मजबूत बनी हुई है। बीएसई मिडकैप और स्मॉलकैप में 0.95 प्रतिशत तक का लाभ रहा।

इसे भी पढ़ें: हेड कोच से रिटायर होने के बाद क्या करेंगे रवि शास्त्री? इस भूमिका में फिर से आ सकते हैं नजर

अन्य एशियाई बाजारों में चीन के शंघाई कम्पोजिट, दक्षिण कोरिया के कॉस्पी और जापान के निक्की में नुकसान रहा। हांगकांग का हैंगसेंग लाभ के साथ बंद हुआ। दोपहर के कारोबार में यूरोपीय बाजार भी नुकसान में थे। इस बीच, अंतरराष्ट्रीय बेंचमार्क ब्रेंट कच्चा तेल 0.82 प्रतिशत बढ़कर 85.56 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया। अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया नौ पैसे टूटकर 75.35 प्रति डॉलर पर आ गया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।