पंजाब एण्ड सिंध बैंक का चौथी तिमाही घाटा बढ़कर 236 करोड़ रुपये हुआ

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 30, 2020   16:17
पंजाब एण्ड सिंध बैंक का चौथी तिमाही घाटा बढ़कर 236 करोड़ रुपये हुआ

पंजाब एण्ड सिंध बैंक का चौथी तिमाही घाटा बढ़कर 236 करोड़ रुपये हो गई है। चौथी तिमाही (जनवरी से मार्च 2020) की अवधि में बैंक की कुल आय घटकर 2,289.43 करोड़ रुपये रह गई।एक साल पहले इसी अवधि में यह 2,304.37 करोड़ रुपये रही थी।बैंक ने नियामकीय सूचना में यह जानकारी दी है।

नयी दिल्ली। सार्वजनिक क्षेत्र के पंजाब एण्ड सिंध बैंक ने मंगलवार को कहा कि उसका 2019- 20 की चौथी तिमाही का शुद्ध घाटा बढ़कर 236.30 करोड़ रुपये हो गया।फंसे कर्ज के लिये प्रावधान बढ़ने की वजह से बैंक का घाटा बढ़ा है।एक साल पहले इसी अवधि में बैंक को 58.57 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था। चौथी तिमाही (जनवरी से मार्च 2020) की अवधि में बैंक की कुल आय घटकर 2,289.43 करोड़ रुपये रह गई।एक साल पहले इसी अवधि में यह 2,304.37 करोड़ रुपये रही थी।बैंक ने नियामकीय सूचना में यह जानकारी दी है। आलोच्य तिमाही के दौरान बैंक ने 429.75 करोड़ रुपये का परिचालन मुनाफा हासिल किया जबकिएक साल पहले इसी अवधि में बैंक ने 404.13 करोड़ रुपये का परिचालन मुनाफा कमाया था।

इसे भी पढ़ें: वैश्विक संकेतकों और भू-राजनीतिक घटनाक्रमों से तय होगी बाजार की चाल

संपत्ति गुणवत्ता के मोर्चे पर मार्च 2020 की समाप्ति पर बैंक की सकल गैर- निष्पादित परिसंपत्तियां (एनपीए) बढ़कर बैंक के कुल कर्ज का 14.18 प्रतिशत तक पहुंच गई जो कि एक साल पहले इसी अवधि में 11.83 प्रतिशत पर थीं। बैंक का शुद्ध एनपीए भी एक साल पहले के 7.22 प्रतिशत से बढ़कर 8.03 प्रतिशत पर पहुंच गया। शुद्ध परिसंपत्ति के अनुरूप इस दौरान बैंक द्वारा किया जाने वाला प्रावधान भी एक साल पहले के मुकाबले दोगुने से अधिक बढ़कर 683.80 करोड़ रुपये हो गया।एक साल पहले यह प्रावधान 312.09 करोड़ रुपये रहा था। वित्त वर्ष 2019- 20 पूरे साल के दौरान बैंक का घाटा दोगुने के करीब पहुंचकर 990.80 करोड़ रुपये रहा।इससे पिछले वित्त वर्ष में बैंक को 543.48 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था। वहीं 2019- 20 में बैंक की कुल आय भी घटकर 8,826.92 करोड़ रुपये रह गई जो कि इससे पिछले साल 9,386.95 करोड़ रुपये थी। वित्त वर्ष 2019- 20 के दौरान बैंक की ब्याज आय भी घटकर 7,929.53 करोड़ रुपये रह गई जो कि इससे पिछले वर्ष में 8,558.67 करोड़ रुपये रही थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।