प्रदूषण वाले ईंधन में कटौती से भारत में बच सकती है 2. 7 लाख लोगों की जान

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: May 3 2019 3:53PM
प्रदूषण वाले ईंधन में कटौती से भारत में बच सकती है 2. 7 लाख लोगों की जान
Image Source: Google

अध्ययन के मुताबिक औद्योगिक या वाहनों से उत्सर्जन मे कोई बदलाव किए बगैर ईंधन के इन स्रोतों से उत्सर्जन का उन्मूलन करने से बाहरी (आउटडोर) वायु प्रदूषण का स्तर देश के वायु गुणवत्ता मानक से कम हो जाएगा। यह अध्ययन प्रोसीडिंग्स ऑफ नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज जर्नल में प्रकाशित हुआ है।

लॉसएंजिलिस। लकड़ी, उपले, कोयले और केरोसिन जैसे प्रदूषण फैलाने वाले ईंधन से होने वाले उत्सर्जन पर रोक लगा कर भारत सालाना करीब 2,70,000 लोगों की जान बचा सकता है। एक अध्ययन में यह दावा किया गया है, जिसमें आईआईटी दिल्ली के शोधार्थी भी शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें: एनजीटी ने प्रदूषित नदियों के लिए केंद्रीय निगरानी समिति गठित की

अध्ययन के मुताबिक औद्योगिक या वाहनों से उत्सर्जन मे कोई बदलाव किए बगैर ईंधन के इन स्रोतों से उत्सर्जन का उन्मूलन करने से बाहरी (आउटडोर) वायु प्रदूषण का स्तर देश के वायु गुणवत्ता मानक से कम हो जाएगा। 

यह अध्ययन प्रोसीडिंग्स ऑफ नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज जर्नल में प्रकाशित हुआ है। 



इसे भी पढ़ें: वायु प्रदूषण स्वास्थ्य आपातकाल की तरह, सरकार बनने पर स्वच्छ वायु कार्यक्रम को करेंगे मजबूत: राहुल

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) दिल्ली के सागनिक डे सहित शोधार्थियों के मुताबिक प्रदूषण फैलाने वाले घरेलू ईंधनों के उपयोग में कमी करने से देश में वायु प्रदूषण संबंधी मौतें करीब 13% घट जाएंगी, जिससे एक साल में करीब 2,70,000 लोगों की जान बच सकती है। 

इसे भी पढ़ें: भारत में कार पूलिंग के जरिए प्रदूषण की समस्या का निकल सकता है हल

अमेरिका के यूनिवर्सिटी ऑफ कैलीफोर्निया के प्राध्यापक क्रिक आर स्मिथ ने कहा कि घरेलू (रसोई में इस्तेमाल होने वाले) ईंधन भारत में आउटडोर वायु प्रदूषण का सबसे बड़ा स्रोत है।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video