ऊर्जा, आईटी कंपनियों के शेयरों में मुनाफावसूली से सेंसेक्स और निफ्टी स्थिर

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Mar 14 2019 6:40PM
ऊर्जा, आईटी कंपनियों के शेयरों में मुनाफावसूली से सेंसेक्स और निफ्टी स्थिर
Image Source: Google

वित्तीय कंपनियों इंडसइंड बैंक, यस बैंक, फार्मा तथा बिजली कंपनियों के शेयरों में लाभ रहा। हालांकि, आईटी, ऊर्जा और वाहन कंपनियों के शेयरों में नुकसान से बाजार को फायदा नहीं हो पाया।

मुंबई। उच्च स्तर पर निवेशकों की मुनाफावसूली तथा मिलेजुले वैश्विक रुख के बीच बृहस्पतिवार को शेयर बाजार स्थिर रुख के साथ बंद हुए। वित्तीय और बिजली कंपनियों के शेयरों में लाभ रहालेकिन आईटी और ऊर्जा कंपनियों के शेयरों में मुनाफावसूली का सिलसिला चला। बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स शुरुआती कारोबार में 150 अंक तक चढ़ने के बाद अंत में 2.72 अंक या 0.01 प्रतिशत की मामूली बढ़त के साथ 37,754.89 अंक पर बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 1.55 अंक या 0.01 प्रतिशत की मामूली बढ़त के साथ 11,343.25 अंक पर बंद हुआ। वित्तीय कंपनियों इंडसइंड बैंक, यस बैंक, फार्मा तथा बिजली कंपनियों के शेयरों में लाभ रहा। हालांकि, आईटी, ऊर्जा और वाहन कंपनियों के शेयरों में नुकसान से बाजार को फायदा नहीं हो पाया। इंडसइंड बैंक, यस बैंक, कोटक बैंक और एचडीएफसी के शेयर 2.84 प्रतिशत तक चढ़ गए। रिजर्व बैंक ने बुधवार को कहा कि वह बैंकों के साथ तीन साल की दीर्घावधि व्यवस्था के तहत डॉलर- रुपया अदला बदली व्यवस्था में पांच अरब डालर की पूंजी प्रणाली में डालेगा।
 


सेंसेक्स की अन्य कंपनियों में एनटीपीसी का शेयर सबसे अधिक 3.53 प्रतिशत चढ़ा। कोल इंडिया, ओएनजीसी और सनफार्मा के शेयर 2.41 प्रतिशत तक चढ़ गए। भारती एयरटेल, वेदांता और टाटा स्टील के शेयरों में भी लाभ रहा। वहीं दूसरी ओर रिलायंस इंडस्ट्रीज, आईसीआईसीआई बैंक, टीसीएस, इन्फोसिस और एचसीएल टेक जैसी बड़ी कंपनियों के शेयरों में गिरावट आई। सेंसेक्स की कंपनियों में एचसीएल टेक का शेयर सबसे अधिक 2.11 प्रतिशत टूट गया। हीरो मोटोकॉर्प, टाटा मोटर्स और पावरग्रिड के शेयरों में भी नुकसान रहा। 
जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा कि बाजार सीमित दायरे में रहा और स्थिर रुख के साथ बंद हुआ। विदेशी संस्थागत निवेशक बाजार में लगातार निवेश कर रहे हैं। रिजर्व बैंक के प्रणाली में पांच अरब डॉलर की पूंजी डालने की घोषणा से ऋण बढ़ेगा। बीएसई मिडकैप में 0.26 प्रतिशत की गिरावट आई जबकि स्मॉलकैप 0.09 प्रतिशत लाभ में रहा। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार फरवरी माह में थोक मुद्रास्फीति बढ़कर 2.93 प्रतिशत पर पहुंच गई। 
 
कारोबारियों ने कहा कि निवेशकों ने हालिया बढ़त वाले शेयरों में मुनाफा काटा जिससे बाजार में गिरावट आई। अंतर बैंक विदेशी विनिमय बाजार में डॉलर के मुकाबले रुपया मामूली बढ़त के साथ 69.51 प्रति डॉलर पर चल रहा था। अन्य एशियाई बाजारों में हांगकांग का हैंगसेंग 0.15 प्रतिशत, दक्षिण कोरिया का कॉस्पी 0.34 प्रतिशत चढ़ गया। शंघाई कम्पोजिट 1.20 प्रतिशत टूट गया। जापान का निक्की 0.01 प्रतिशत नीचे आया। शुरुआती कारोबार में यूरोपीय बाजार लाभ में चल रहे थे। वैश्विक स्तर पर ब्रेंट क्रूड वायदा 0.41 प्रतिशत बढ़कर 67.83 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया।
 


रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story