शेयर बाजारों में 4 दिन की तेजी के सिलसिले पर ब्रेक, सेंसेक्स 561 अंक टूटा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 24, 2020   18:49
शेयर बाजारों में 4 दिन की तेजी के सिलसिले पर ब्रेक, सेंसेक्स 561 अंक टूटा

सेंसेक्स की कंपनियों में इंडसइंड बैंक का शेयर सबसे अधिक 7.43 प्रतिशत टूटा। आईसीआईसीआई बैंक, पावरग्रिड, बजाज फिनसर्व, एक्सिस बैंक और एसबीआई के शेयर भी नुकसान में रहे। दूसरी ओर एशियन पेंट्स, आईटीसी, नेस्ले इंडिया, टेक महिंद्रा, रिलायंस इंडस्ट्रीज और टीसीएस के शेयर 3.82 प्रतिशत तक चढ़ गए।

मुंबई। शेयर बाजारों में चार कारोबारी सत्रों की तेजी का सिलसिला बुधवार को थम गया। कमजोर वैश्विक रुख के बीच मासिक डेरिवेटिव्स अनुबंधों के निपटाने से पहले निवेशकों द्वारा बैंकिंग और वित्तीय वित्तीय कंपनियों के शेयरों में मुनाफावसूली से बाजार ने शुरुआती लाभ गंवा दिया और सेंसेक्स 561 अंक की बड़ी गिरावट के साथ बंद हुआ। कारोबारियों ने कहा कि कमजोर वैश्विक रुख के बीच कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों तथा रुपये में कमजोरी से बाजार में गिरावट आई। बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 561.45 अंक या 1.58 प्रतिशत के नुकसान से 34,868.98 अंक पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान यह 35,706.55- 34,794.93 अंक के दायरे में रहा। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 165.70 अंक या 1.58 प्रतिशत के नुकसान से 10,305.30 अंक पर आ गया। दिन में यह ऊपर में 10,553.15 अंक और नीचे में 10,281.95 अंक तक गया था। सेंसेक्स की कंपनियों में इंडसइंड बैंक का शेयर सबसे अधिक 7.43 प्रतिशत टूटा। आईसीआईसीआई बैंक, पावरग्रिड, बजाज फिनसर्व, एक्सिस बैंक और एसबीआई के शेयर भी नुकसान में रहे। दूसरी ओर एशियन पेंट्स, आईटीसी, नेस्ले इंडिया, टेक महिंद्रा, रिलायंस इंडस्ट्रीज और टीसीएस के शेयर 3.82 प्रतिशत तक चढ़ गए।

इसे भी पढ़ें: रेटिंग एजेंसी S&P ने कहा- भारतीय कंपनियों की रेटिंग और नीचे आने का जोखिम

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘‘सकारात्मक रुख के साथ खुलने के बावजूद वैश्विक बाजारों के नकारात्मक संकेतों से बाजार गिरावट के साथ बंद हुए। दुनिया भर, विशेष रूप से अमेरिका में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों से वैश्विक बाजारों में बेचैनी है। भारत में भी वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं, जिससे निवेशकों की धारणा प्रभावित हुई है। नायर ने कहा कि सभी क्षेत्रों के सूचकांक नुकसान में रहे। बैंक सूचकांक में सबसे अधिक गिरावट आई। वायदा एवं विकल्प निपटान की वजह से बृहस्पतिवार को भी बाजार में उतार-चढ़ाव रहेगा। बीएसई मिडकैप और स्मॉलकैप में 1.24 प्रतिशत तक का नुकसान रहा। हालांकि, अर्थव्यवस्थाएं अब खुलने लगी हैं लेकिन कोविड-19 के बढ़ते मामलों की वजह से वैश्विक बाजारों में गिरावट आई।

इसे भी पढ़ें: शेयर बाजार में तेजी, सेंसेक्स 200 अंक बढ़कर खुला

अन्य एशियाई बाजारों में हांगकांग का हैंगसेंग और जापान का निक्की नुकसान में रहे। वहीं चीन का शंघाई कम्पोजिट और दक्षिण कोरिया का कॉस्पी लाभ के साथ बंद हुए। शुरुआती कारोबार में पेरिस, फ्रैंकफर्ट और लंदन के बाजार दो प्रतिशत से अधिक टूट गए। अंतरराष्ट्रीय बेंचमार्क ब्रेंट कच्चा तेल वायदा 1.15 प्रतिशत की गिरावट के साथ 42.14 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया। अंतर बैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया छह पैसे के नुकसान से 75.72 (अस्थायी) प्रति डॉलर पर बंद हुआ। स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार देश में कोरोना वायरस के मामलों में एक दिन में सबसे अधिक 15,968 की बढ़ोतरी हुई। संक्रमण के कुल मामले 4,56,183 पर पहुंच गए हैं। एक दिन में 465 लोगों की मौत इस महामारी से हुई है। अब तक यह महामारी 14,476 लोगों की जान ले चुकी है। दुनियाभर में कोविड-19 संक्रमण के मामलों की संख्या 92 लाख पर पहुंच गई है। अब तक इस महामारी से 4,77,000 लोगों की जान गई है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।