सेंसेक्स और निफ्टी में सात महीनों में सबसे ज्यादा गिरावट, Reliance के शेयरों में भारी गिरावट

सेंसेक्स और निफ्टी में सात महीनों में सबसे ज्यादा गिरावट, Reliance के शेयरों में भारी गिरावट

विश्लेषकों के अनुसार, तीन कृषि कानूनों को वापस लेने से दलाल स्ट्रीट पर अस्थिरता बढ़ी है। सेंसेक्स 2.72 प्रतिशत या 1,624 अंक तक गिर गया और निफ्टी 50 इंडेक्स अपने महत्वपूर्ण मनोवैज्ञानिक स्तर 17,300 से नीचे गिर गया है। सेंसेक्स 1,170 अंक गिरकर 58,466 पर और निफ्टी 50 इंडेक्स 348 अंक गिरकर 17,416 पर बंद हुआ।

सोमवार के पहले कारोबारी सत्र में घरेलू इक्विटी मार्केट में भारी गिरावट दर्ज की गई है। सेंसेक्स और निफ्टी में करीब 2 फीसदी की गिरावट आई है। देश के सबसे बड़े पेटीएम के आईपीओ की कमजोर लिस्टिंग के बाद निवेशकों को भारी नुकसान झेलना पड़ा। विश्लेषकों के अनुसार,  तीन कृषि कानूनों को वापस लेने से दलाल स्ट्रीट पर अस्थिरता बढ़ी है। सेंसेक्स 2.72 प्रतिशत या 1,624 अंक तक गिर गया और निफ्टी 50 इंडेक्स अपने महत्वपूर्ण मनोवैज्ञानिक स्तर 17,300 से नीचे गिर गया है। सेंसेक्स 1,170 अंक गिरकर 58,466 पर और निफ्टी 50 इंडेक्स 348 अंक गिरकर 17,416 पर बंद हुआ। 

कौन-कौन से शेयरों में आई गिरावट

रिलायंस इंडस्ट्रीज, बजाज फाइनेंस और कोटक बैंक के शेयरों में भारी नुकसान हुआ है। बीएसई का 30 शेयरों वाला सूचकांक सेंसेक्स 1,170.12 अंक यानी 1.96 प्रतिशत के नुकसान के साथ 58,465.89 अंक पर आ गया। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का सूचकांक निफ्टी 348.25 अंक यानी 1.96 प्रतिशत टूटकर 17,416.55 अंक पर बंद हुआ। रिलायंस इंडस्ट्रीज ने सऊदी अरामको के साथ 15 अरब डॉलर में अपने तेल रिफाइनरी और पेट्रोरसायन कारोबार में 20 प्रतिशत हिस्सेदारी का प्रस्तावित सौदा रोक दिया है। इन खबरों के बाद रिलायंस के शेयरों में चार प्रतिशत की भारी गिरावट दर्ज हुई।

इसे भी पढ़ें: Airtel यूजर्स के लिए बड़ी खबर! प्रीपेड प्लानस की बढ़ाई गई कीमत

बजाज फाइनेंस, बजाज फिनसर्व, एनटीपीसी, एसबीआई तथा टाइटन के शेयर भी नुकसान में रहे। वहीं दूसरी ओर भारती एयरटेल, एशियन पेंट्स, पावरग्रिड और इंडसइंड बैंक के शेयर लाभ में रहे। एलकेपी सिक्योरिटीज के शोध प्रमुख एस रंगनाथन ने कहा, ‘‘बीते सप्ताहांत कई घटनाक्रमों के बाद आज अंतत: बाजार में मंदड़िया रुख कायम हो गया। धातु को छोड़कर अन्य सभी खंडों के सूचकांक नीचे आए।’’ उन्होंने कहा कि कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा से सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों के शेयर प्रभावित हुए। अन्य एशियाई बाजारों में हांगकांग के हैंगसेंग में नुकसान रहा। जापान के निक्की, चीन के शंघाई कम्पोजिट और दक्षिण कोरिया के कॉस्पी में लाभ रहा। दोपहर के कारोबार में यूरोपीय बाजारों में सकारात्मक रुख था। इस बीच, अंतरराष्ट्रीय बेंचमार्क ब्रेंट कच्चा तेल 0.34 प्रतिशत की बढ़त के साथ 79.16 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया।