सेंसेक्स 606 अंक उछलकर, निफ्टी 9,500 अंक के पार बंद

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 29, 2020   18:24
सेंसेक्स 606 अंक उछलकर, निफ्टी 9,500 अंक के पार बंद

सेंसेक्स 606 अंक उछलकर, निफ्टी 9,500 अंक के पार बंद हुआ। एचसीएल टेक्नोलॉजी, महिंद्रा एंड महिंद्रा, एचडीएफसी बैंक, टाटा स्टील, भारतीय स्टेट बैंक, बजाज फाइनेंस और इंफोसिस के शेयर भी लाभ में रहे। वहीं दूसरी तरफ एक्सिस बैंक, एशियन पेंट्स, हिंदुस्तान यूनिलीवर, टाइटन और इंडसइंड बैंक के शेयर नरम रहे।

मुंबई। वैश्विक संकेतों के उत्साहजनक रहने के बीच स्थानीय शेयर बाजारों में बुधवार को लगातार तीसरे दिन रौनक रही। सेंसेक्स 606 अंक की बढ़त लिए बंद हुआ तथानिफ्टी भी सुधार कर 9,500 अंक के पार बंद हुआ। ब्रोकरों के अनुसार वैश्विक स्तर पर विभिन्न देशों के धीरे-धीरे लॉकडाउन (बंद) खत्म करने की घोषणा से निवेशकों की धारणा मजबूत हुई। निवेशकों में इससे दुनियाभर के आर्थिक हालत सुधरने की उम्मीद जगी है। बीएसई का 30 कंपनियों का शेयर सूचकांक सेंसेक्स दिन में 783.07 अंक तक चढ़ गया था। बाद में 605.64 अंक यानी 1.89 प्रतिशत बढ़कर 32,720.16 अंक पर बंद हुआ। इसी तरह एनएसई निफ्टी 172.45 अंक यानी 1.84 प्रतिशत सुधरकर 9,553.35 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स में एचडीएफसी सबसे अधिक लाभ में रहा। यह शेयर सात प्रतिशत से अधिक चढ़ गया।

इसे भी पढ़ें: शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 300 अंक से ज्यादा मजबूत, निफ्टी फिर 9,400 अंक पर

एचसीएल टेक्नोलॉजी, महिंद्रा एंड महिंद्रा, एचडीएफसी बैंक, टाटा स्टील, भारतीय स्टेट बैंक, बजाज फाइनेंस और इंफोसिस के शेयर भी लाभ में रहे। वहीं दूसरी तरफ एक्सिस बैंक, एशियन पेंट्स, हिंदुस्तान यूनिलीवर, टाइटन और इंडसइंड बैंक के शेयर नरम रहे। आनंद राठी केइक्विटी रिसर्च (आधारभूत) विभाग के प्रमुख नरेंद्र सोलंकी ने कहा कि अमेरिकी फेडरल रिजर्व की नीतिगत घोषणा से पहले एशियायी बाजारों में तेजी के संकेतों से निवेशकों ने लिवाली बढ़ा दी थी। शंघाई, हांगकांग और सियोल जैसे प्रमुख एशियाई बाजार बढ़त के साथ बंद हुए। यूरोपीय शेयर बाजारों में भी प्रारंभिक दौर में तेजी का रुख देखा गया। अंतरराष्ट्रीय बाजार में ब्रेंट कच्चा तेल 2.99 प्रतिशत बढ़कर 23.41 डॉलर प्रति बैरल पर रहा। आरंभिक सूचना के आधार पर डॉलर के मुकाबले रुपया 52 पैसे की बढ़त के साथ 75.66 पर बंद हुआ। कोरोना वायरस से दुनियाभर में मरने वालों की संख्या 2.17 लाख के पार पहंच गयी है। भारत में 1,007 लोगों की इस बीमारी से मौत हुईहै।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।