IT ने टाइल्स निर्माता समूह के ठिकानों पर मारे छापे, 220 करोड़ की बेनामी आय का पता लगाया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 28, 2021   10:23
IT ने टाइल्स निर्माता समूह के ठिकानों पर मारे छापे, 220 करोड़ की बेनामी आय का पता लगाया

सीबीडीटी ने एक बयान में कहा कि टाइल्स और सैनेटरीवेयर का निर्माण और बिक्री करने वाले एक समूह के ठिकानों पर छापे के दौरान 8.30 करोड़ रुपए जब्त किए गए हैं। यह दक्षिण भारत में टाइल्स के कारोबार का ‘प्रमुख’ समूह है।

नयी दिल्ली। आयकर विभाग ने टाइल्स और सैनेटरीवेयर निर्माण एवं बिक्री से जुड़े तमिलनाडु के एक समूह के ठिकानों पर छापा मारकर करीब 220 करोड़ रुपए की बेनामी आय का पता लगाया है। केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने यह जानकारी दी। उसने बताया कि ये छापे 26 फरवरी को तमिलनाडु, गुजरात और कोलकाता में कुल 20 स्थानों पर मारे गए। सीबीडीटी ने एक बयान में कहा कि टाइल्स और सैनेटरीवेयर का निर्माण और बिक्री करने वाले एक समूह के ठिकानों पर छापे के दौरान 8.30 करोड़ रुपए जब्त किए गए हैं। यह दक्षिण भारत में टाइल्स के कारोबार का ‘‘प्रमुख’’ समूह है। 

इसे भी पढ़ें: पुणे के एक कारोबारी समूह में आयकर विभाग का छापा,जब्त किये 335 करोड़ अघोषित आय 

बयान में दावा किया गया, ‘‘ छापे के दौरान पाया गया कि टाइल्स की खरीद और बिक्री का कोई लेखा-जोखा नहीं है। ऐसे लेन देन, जिनका कहीं लेखा जोखा नहीं है, उसका पता क्लाउड के सॉफ्टवेयर के जरिए लगाया गया।’’ बयान में कहा गया कि छापे के दौरान पाया गया कि 50 प्रतिशत लेन देन का कोई रिकॉर्ड नहीं है। सीबीडीटी ने कहा, ‘‘अब तक कुल 220 करोड़ बेनामी आय का पता लगा है।’’ 

इसे भी पढ़ें: कर्नाटक के मेडिकल कॉलेजों में 'नोट के बदले सीट' घोटाला, आयकर विभाग ने किया पर्दाफाश 

शनिवार देर रात जारी बयान में कहा गया कि छापे की कार्रवाई अभी चल रही है। कर विभाग के लिए नीति निर्माण करने वाले सीबीडीटी ने कहा कि वह मतदाताओं को लुभाने के लिए धन के इस्तेमान पर रोक लगाने और इस पर निगरानी रखने के लिए पूरी तरह से तैयार है। विभाग ने कहा कि वह इस बात का पता लगाने के लिए प्रतिबद्ध है कि तमिलनाडु और पुडुचेरी में बेनामी नकदी का स्रोत क्या है और इसे कहां भेजा जाता है। तमिलनाडु और पुडुचेरी में छह अप्रैल को विधानसभा चुनाव होने हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।