विश्वबैंक के पूंजी आधार बढ़ोत्तरी में सहयोग से ट्रंप प्रशासन का इंकार

Trump administration refuses to cooperate with World Bank capital base hike
विश्वबैंक द्वारा अपने पूंजी आधार को बढ़ाने के लिए सहयोग की मांग को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रशासन ने खारिज कर दिया है। हालांकि विश्वबैंक ने इसे अपने गरीबी दूर करने वाले वैश्विक मिशन का विस्तार करने के लिए आवश्यक बताया है।

वाशिंगटन। विश्वबैंक द्वारा अपने पूंजी आधार को बढ़ाने के लिए सहयोग की मांग को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रशासन ने खारिज कर दिया है। हालांकि विश्वबैंक ने इसे अपने गरीबी दूर करने वाले वैश्विक मिशन का विस्तार करने के लिए आवश्यक बताया है। अमेरिका के वित्त मंत्री स्टीवन म्नूचिन ने कहा कि वाशिंगटन स्थित यह संस्थान अक्षम है।

यह मौजूदा समय में हर साल आवंटित की जानी वाली करीब 60 अरब डॉलर की राशि में ही और अधिक सक्षम बन सकता है और विकास कार्यों के लिए वित्त पोषण कर सकता है। बेहतर सक्षमता के साथ यह आंतरिक तौर पर ही पूंजी आधार तैयार करा सकता है और ऋण देने की गतिविधि का विस्तार कर सकता है। इसके लिए इसे अपने 189 सदस्य देशों से और अधिक सहयोग की भी जरुरत नहीं होगी। अभी अमेरिका इसे सबसे अधिक सहयोग देता है।

विश्वबैंक और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के लिए कार्य योजना वाली डेवलपमेंट कमेटी को भेजे एक बयान में म्नूचिन ने कहा कि बैंक को उभरती अर्थव्यवस्थाओं को आवंटित की जाने वाली राशि में कटौती करने की जरुरत है क्योंकि उन्हें किसी बाहरी सहायता की जरुरत नहीं। साथ ही बैंक को बजटीय अनुशासन का पालन करने भी भी आवश्यकता है जिसमें कर्मचारियों को दिए जाने वाले वेतन और लाभ पर नियंत्रण शामिल है।

म्नूचिन ने कहा कि और अधिक पूंजी कोई समाधान नहीं है जबकि मौजूदा कोष का ही ढंग से आवंटन नहीं हो पाता है। जरुरत इस बात की है कि संसाधनों का उपयोग वहां किया जाए जहां इसकी सबसे ज्यादा आवश्यकता है ताकि इसके स्थायी परिणाम सामने आ सकें।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़