वाहन कलपुर्जा सेक्टर का बढ़ेगा उत्पादन, SIAM के साथ मिलकर कर रही यह कंपनी काम

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 22, 2021   15:39
वाहन कलपुर्जा सेक्टर का बढ़ेगा उत्पादन, SIAM के साथ मिलकर कर रही यह कंपनी काम

एक्मा के अध्यक्ष दीपक जैन ने कहा कि वाहन कलपुर्जा क्षेत्र में स्थानीय उपयोग बढ़ाने के लिये सियाम के साथ नजदीकी से काम कर रहे है।जैन ने कहा कि सरकार की हाल में घोषित उत्पादन से जुड़ी प्रोतसाहन योजना (पीएलआई) का मकसद भी घरेलू उद्योग की निर्यात प्रतिस्पर्धात्मकता को बेहतर बनाना ही है।

नयी दिल्ली। वाहन कलपुर्जे बनाने वाले उद्योग ने कहा है कि वह विभिन्न कलपुर्जों का स्थानीय स्तर पर उत्पादन और उनका इस्तेमाल बढ़ाने को लेकर वाहन विनिर्माताओं के संगठन सियाम के साथ नजदीकी से काम कर रहा है। एक्मा के अध्यक्ष दीपक जैन ने बृहस्पतिवार को इसकी जानकारी दी। दि आटोमोटिव कम्पोनेंट मैन्युफक्चरर्स एसोसियेसन (एक्मा) के दो दिवसीय कार्यक्रम एक्मा आटोमेकेनिका के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुये उन्होंने कहा की इस पहल से जहां एक ओर वाहन उद्योग की वैश्विक स्तर पर मूल्य प्रतिस्पर्धा बेहतर होगी वहीं विदेशों से हल्की गुणवत्ता वाले कलपुर्जों का आयात भी कम होगा।

इसे भी पढ़ें: कोरोना महामारी का असर, इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री 20 प्रतिशत घटी

जैन ने कहा, ‘‘दि आटोमोटिव कम्पोनेंट मैन्युफैक्चरर्स एसोसियेसन (एक्मा) और सोसायटी आफ इंडियन आटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स (सियाम) दोनों मिलकर वाहन कलपुर्जों के क्षेत्र में स्थानीयकरण को बढ़ाने पर मिलकर नजदीकी से काम कर रहे हैं।इससे वैश्विक बाजार में हमारी मूल्य प्रतिस्पर्धा और बेहतर होगी। ’’ उन्होंने कहा कि वाहन कलपुर्जों के बड़े पैमाने पर स्थानीयकरण से न केवल हमारा निर्यात बढ़ेगा बल्कि हल्की गुणवत्ता के कलपुर्जों का आयात भी कम होगा।ऐसे कलपुर्जे इसी लिये आयात किये जाते हैं ताकि मूल्य के मामले में हमारी स्थिति बेहतर हो सके।

इसे भी पढ़ें: पारले प्रॉडक्टस ने वृद्धि के रास्ते पर बढ़ने के लिये IBM के साथ हाथ मिलाया

जैन ने कहा कि सरकार की हाल में घोषित उत्पादन से जुड़ी प्रोतसाहन योजना (पीएलआई) का मकसद भी घरेलू उद्योग की निर्यात प्रतिस्पर्धात्मकता को बेहतर बनाना ही है।‘‘समूचे आटोमोटिव उद्योग के लिये 57,000 करोड़ रुपये का योजना आवंटन किया गया है। इन सभी उपायों से वाहन कलपुर्जा उद्योग का निर्यात बेहतर होगा और वाहन बिक्री बाद के बाजार में भी मांग बेहतर होगी।’’ उन्होंने कहा कि वाहन बिक्री बाद का कलपुर्जा बाजार तेजी से बढ़ता हुआ बाजार है। वर्ष 2019- 20 मेंवाहनबिक्री बाद का कलपुर्जा बाजार 9.8 अरब डालर का रहा जो कि कुल 12 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाता है जबकि वाहन कलपुर्जा उद्योग का कुल बाजार 50 अरब डालर का रहा जो कि 8 प्रतिशत की सकल वृद्धि दर्शाता है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।