WTO प्रमुख ने आपूर्ति व्यवस्था को कार्बन मुक्त बनाने के लिये कदम उठाने को कहा

WTO
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) 2023 की वार्षिक बैठक के दौरान बृहस्पतिवार रात उन्होंने कहा, देश अपेक्षाकृत स्वच्छ तैयार माल पर अधिक शुल्क लगाते हैं लेकिन प्रदूषण फैलाने वाले कच्चे माल और मध्यवर्ती वस्तुओं पर अधिक।

विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) की महानिदेशक नगोजी ओकोंजो इवेला ने शुक्रवार को कहा कि कार्बन डाई ऑक्साइड (सीओ2) उत्सर्जन को 2030 तक आधा करने के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिये आपूर्ति व्यवस्था को कार्बन मुक्त करना होगा और इसके लिये कार्बन कीमतों, आयात शुल्क और नियामक संबधी मुद्दों में तत्काल सुधार की जरूरत है। विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) 2023 की वार्षिक बैठक के दौरान बृहस्पतिवार रात उन्होंने कहा, देश अपेक्षाकृत स्वच्छ तैयार माल पर अधिक शुल्क लगाते हैं लेकिन प्रदूषण फैलाने वाले कच्चे माल और मध्यवर्ती वस्तुओं पर अधिक।

अपेक्षाकृत प्रदूषण पैदा करने वाले उत्पादों के पक्ष में व्यापार नीतियां बनने से प्रतिवर्ष अस्पष्ट रूप से 550-800 अरब डॉलर के कार्बन डाई ऑक्साइड उत्पादन की सब्सिडी देनी पड़ती है। इवेला ने कहा कि इन चीजों को दूर करने से वैश्विक कार्बन उत्सर्जन कम करने के साथ-साथ वैश्विक आय भी बढ़ेगी। उन्होंने कहा, दुनियाभर में लगभग 70 कार्बन कीमत निर्धारण की योजनाएं हैं, जिससे अनिश्चितता और चिंताएं बढ़ रही हैं और डब्ल्यूटीओ कार्बन कीमतों को नियंत्रित करने के लिए विश्व बैंक, आर्थिक सहयोग एवं विकास संगठन और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के साथ मिलकर काम कर रहा है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़