SBI Clerk परीक्षा की तैयारी करने के लिए फॉलो करें ये टिप्स, सफलता है निश्चित

SBI Clerk परीक्षा की तैयारी करने के लिए फॉलो करें ये टिप्स, सफलता है निश्चित

एसबीआई क्लर्क परीक्षा तीन चरणों में आयोजित की जाती है - प्रीलिम्स, मेन्स और भाषा प्रवीणता परीक्षा (LPT)। एसबीआई क्लर्क परीक्षा के लिए उम्मीदवार को किसी भी स्ट्रीम में ग्रेजुएट होना चाहिए। एसबीआई क्लर्क बनने के लिए उम्मीदवार को सबसे पहले प्रीलिम्स परीक्षा में उत्तीर्ण होना अनिवार्य है।

एसबीआई क्लर्क परीक्षा तीन चरणों में आयोजित की जाती है - प्रीलिम्स, मेन्स और भाषा प्रवीणता परीक्षा (LPT)। एसबीआई क्लर्क परीक्षा के लिए उम्मीदवार को किसी भी स्ट्रीम में ग्रेजुएट होना चाहिए। एसबीआई क्लर्क बनने के लिए उम्मीदवार को सबसे पहले प्रीलिम्स परीक्षा में उत्तीर्ण होना अनिवार्य है। जो परीक्षार्थी प्रीलिम्स परीक्षा पास कर लेते हैं वे मेन्स परीक्षा में बैठने के लिए योग्य होते हैं। इसके साथ ही किसी विशेष राज्य के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवारों का स्थानीय भाषा परीक्षण भी होता है।

इसे भी पढ़ें: फार्मेसी के क्षेत्र में हैं अपार संभावनाएं, ऐसे बना सकते हैं कॅरियर

प्रीलिम्स परीक्षा 

एसबीआई क्लर्क की प्रारंभिक यानी प्रीलिम्स परीक्षा ऑनलाइन आयोजित की जाती है। प्रीलिम्स परीक्षा प्रश्नपत्र में तीन खण्ड होते हैं - न्यूमेरिकल एबिलिटी, रीज़निंग एबिलिटी और इंलिश लैंग्वेज। इसमें 100 अंकों के 100 वैकल्पिक प्रश्न पूछे जाते हैं, जिसके लिए अभ्यर्थियों को कुल 1 घंटे का समय दिया जाता है। प्रीलिम्स और मेन्स परीक्षा में गलत उत्तर के लिए नेगेटिव मार्किंग होती है। हर गलत उत्तर पर प्रश्न के लिए निर्धारित उनके के 1/4 अंक काटे जाते हैं। प्रश्नपत्र हिंदी और अंग्रेजी भाषाओं में उपलब्ध होता है। 

मेन्स परीक्षा 

जो परीक्षार्थी प्रीलिम्स परीक्षा पास कर लेते हैं उन्हें मेन्स परीक्षा देनी होती है। प्रीलिम्स की तरह ही मेन्स परीक्षा भी ऑनलाइन मोड में आयोजित की जाती है। मेन्स परीक्षा में कुल चार खण्ड होते हैं - जनरल इंग्लिश, क्वांटिटेटिव एप्टीट्यूड, रीज़निंग और कंप्यूटर एप्टीट्यूड और जनरल/फाइनेंस अवेयरनेस। मेन्स परीक्षा 200 अंक की होती है जिसमें चारों खंडों को मिलाकर कुल 190 प्रश्न पूछे जाते हैं। इन प्रश्नों को हल करने के लिए 2 घंटे 40 मिनट का समय मिलता है। हर गलत उत्तर पर प्रश्न के लिए निर्धारित उनके के 1/4 अंक काटे जाते हैं। प्रश्नपत्र हिंदी और अंग्रेजी भाषाओं में उपलब्ध होता है।

इसे भी पढ़ें: एक्वापॉनिक्स फार्मिंग में है बेहतर भविष्य, ऑर्गनिक फल और सब्जियां उगाकर कमा सकते हैं लाखों

स्थानीय भाषा परीक्षा  

मेन्स परीक्षा के बाद स्थानीय भाषा परीक्षण होता है। यदि कोई उम्मीदवार किसी अलग राज्य से आवेदन कर रहा है, तो उसे उस राज्य की क्षेत्रीय भाषा पढ़नी, लिखनी और समझनी आनी चाहिए। यदि उम्मीदवार ने 10वीं स्तर पर स्थानीय भाषा का अध्ययन किया है और उसका प्रमाणपत्र है तो उसे स्थानीय भाषा के लिए अलग से परीक्षा नहीं देनी होती। लेकिन यदि ऐसा नहीं है तो उम्मीदवार की स्थानीय भाषा प्रवीणता परीक्षा होगी।

एसबीआई क्लर्क परीक्षा की तैयारी के लिए फॉलो करें ये टिप्स 

अपने सिलेबस को समझें

अच्छी तैयारी के लिए सिलेबस की प्रकृति, स्पष्टता और गुंजाइश की सही समझ जरूरी है। इससे आपको यह समझने में मदद मिलेगी कि क्या पढ़ना है और क्या नहीं पढ़ना है। परीक्षा में पूछे गए प्रश्न हमेशा पाठ्यक्रम के भीतर होते हैं और इसलिए पाठ्यक्रम पर कड़ी नज़र रखना जरूरी है। 

सही अध्ययन सामग्री का चुनाव

अध्ययन सामग्री चुनना कोई आसान काम नहीं है और इसके लिए उचित मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है। एसबीआई क्लर्क परीक्षा की परीक्षा में सफलता पाने के लिए सही किताबों का चुनाव करके उनसे तैयारी करें।

सभी विषयों को दें समय 

एक ही विषय पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय सभी विषयों के बीच अपने समय को समान रूप से विभाजित करने का प्रयास करें। सभी विषयों को एक व्यवस्थित तरीके से तैयार करें। एक समय सीमा तय करें और उस समय से पहले अपने सभी विषयों को समाप्त करने का प्रयास करें।

इसे भी पढ़ें: वैकल्पिक चिकित्सा के क्षेत्र में कॅरियर बनाना है तो चुनें एक्यूपंचर पद्धति को

महत्वपूर्ण कॉन्सेप्ट्स पर ध्यान दें

कठोर अध्ययन के बजाय, स्मार्ट तरीके से अध्ययन करना एक आदर्श तरीका है। स्मार्ट तरीके से पढ़ाई करने का अर्थ है परीक्षा के पैटर्न को समझना और उसके अनुसार योजना बनाना। परीक्षा के लिए महत्वपूर्ण टॉपिक्स पढ़ना स्मार्ट अध्ययन का मुख्य सिद्धांत है।

पेपर पैटर्न को समझें 

उम्मीदवारों को पिछले वर्षों के प्रश्न पत्रों को जरूर देखना चाहिए। यह प्रश्नों के प्रकार को निर्धारित करने में मदद करता है और तैयारी के लिए उपयुक्त स्टडी मटेरियल चुनने में मदद करता है। पिछले वर्षों के प्रश्नपत्रों के विश्लेषण से पाठ्यक्रम को बेहतर तरीके से समझने में मदद मिलती है और उन क्षेत्रों की पहचान करने में मदद मिलती है जिनसे अधिक प्रश्न पूछे गए हैं। उम्मीदवारों के लिए अभ्यास परीक्षण काम में आते हैं। ये परीक्षण न केवल मुख्य परीक्षा की तैयारी में सभी उम्मीदवारों की मदद करते हैं, बल्कि टाइम मैनेजमेंट सीखने में भी मदद करते हैं। 

मॉक टेस्ट पेपर और सैम्पल पेपर सॉल्व करें 

एसबीआई क्लर्क परीक्षा के लिए मार्केट में बहुत सारे मॉक टेस्ट या सैंपल पेपर उपलब्ध होते हैं जिन्हें आपको हल करने के बाद अपने प्रदर्शन का विश्लेषण या मूल्यांकन जरूर करना चाहिए, इससे पता चलता है की आप परीक्षा के लिए कितने तैयार हैं। साथ ही आपको यह भी पता चलेगा की आपको अभी किन विषयों पर अपनी पकड़ और मजबूत बनानी है।

रिवीजन जरूर करें 

अगर आपने पूरे सिलेबस की तैयारी कर ली है तो अपने नोट्स से सभी विषयों का रिवीजन भी जरूर करें। किसी भी टॉपिक का रिवीजन आपकी उस विषय को याद करने में मदद करेगा जिन विषयों का आपने कुछ महीने पहले अध्‍ययन किया होगा।

- प्रिया मिश्रा