• इस तरह करें NTA UGC NET पेपर I और पेपर II की तैयरी, यहाँ जानें परीक्षा पैटर्न

सरकारी विश्वविद्यालय और कॉलेजों में सहायक प्रोफेसर और जूनियर रिसर्च फैलोशिप (JRF) के पदों के लिए योग्य उम्मीदवारों के चयन के लिए वर्ष में दो बार राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा (NET) आयोजित की जाती है। यह परीक्षा हर साल जून और दिसंबर के महीने में आयोजित की जाती है। अब यह परीक्षा राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (NTA) द्वारा आयोजित की जाती है।

सरकारी विश्वविद्यालय और कॉलेजों में सहायक प्रोफेसर और जूनियर रिसर्च फैलोशिप (JRF) के पदों के लिए योग्य उम्मीदवारों के चयन के लिए वर्ष में दो बार राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा (NET) आयोजित की जाती है। यह परीक्षा हर साल जून और दिसंबर के महीने में आयोजित की जाती है। अब यह परीक्षा राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (NTA) द्वारा आयोजित की जाती है। 

इसे भी पढ़ें: वैकल्पिक चिकित्सा के क्षेत्र में कॅरियर बनाना है तो चुनें एक्यूपंचर पद्धति को

UGC NET परीक्षा पैटर्न

UGC NET परीक्षा केवल कंप्यूटर आधारित टेस्ट (CBT) के रूप में आयोजित की जाएगी। इस ऑनलाइन टेस्ट में दो पेपर शामिल होंगे- पेपर 1 और पेपर 2। दोनों प्रश्नपत्रों में ऑब्जेक्टिव और बहुविकल्पीय प्रकार के प्रश्न होंगे। दो पेपरों के बीच कोई विराम नहीं होगा। प्रत्येक सही उत्तर के लिए उम्मीदवार को 2 अंक मिलेंगे, लेकिन गलत उत्तर के लिए कोई नकारात्मक अंकन नहीं कटेगा।


पेपर 1- कितने प्रश्न होंगे- 50 

पेपर 1 कितने अंक का होगा- 100

किस तरह के प्रश्न होंगे?

उम्मीदवार के शिक्षण / अनुसंधान की योग्यता का आकलन करने के लिए प्रश्न पूछे जाएंगे। यह मुख्य रूप से उम्मीदवार की तर्क क्षमता, समझ, विचलित सोच और सामान्य जागरूकता का परीक्षण करने के लिए डिज़ाइन किया जाएगा।

कैसे करें पेपर 1 की तैयारी:

- पेपर 1 के पाठ्यक्रम में विषय काफी विविध है। इस पेपर में उम्मीदवारों को गतिशील रूप से तैयार करना आवश्यक है। पेपर 1 में शामिल कुछ विषय इस प्रकार हैं- तार्किक विचार, आंकड़ा निर्वचन, शिक्षण योग्यता, अनुसंधान योग्यता, सूचना और संचार प्रौद्योगिकी पढ़ने की समझ,लोग पर्यावरण और उच्च शिक्षा प्रणाली: शासन, राजनीति और प्रशासन।

- पिछले वर्षों के पेपर का विश्लेषण करें और उसके बाद उसमें से महत्वपूर्ण विषयों का पता लगाकर उन्हें नोट कर लें। अब सूचीबद्ध तरीके से एक-एक करके प्रत्येक विषय को लें, उसे पढ़ें और फिर उसके बाद उस विषय से संबंधित प्रश्नों को हल करें।

- कम समय में प्रश्नों को हल करने के लिए छोटी ट्रिक्स, फॉर्मूले और बुनियादी बातों पर ध्यान दें।

अभ्यास का एक और अच्छा तरीका पिछले वर्षों के प्रश्न पत्रों और मॉक टेस्ट पेपरों को हल करना है।

- पेपर 1 के अपने कमजोर वर्गों पर काम करें और मॉक टेस्ट में आपके प्रदर्शन के आधार पर विषयों को प्राथमिकता देना सीखें।

- प्रत्येक दिन के लिए एक अध्ययन योजना तैयार करें और उसके अनुसार अपनी तैयारी करें।एक नोटबुक बनाए जहां आप अपनी ताकत और उन क्षेत्रों पर नज़र रखें जिन्हें और अधिक विकास की आवश्यकता है।

इसे भी पढ़ें: विज़ुअल मर्चेंडाइजिंग के क्षेत्र में हैं अपार संभावनाएं, ऐसे बना सकते हैं कॅरियर

पेपर 2- कितने प्रश्न होंगे- 100

पेपर 1 कितने अंक का होगा- 200

किस तरह के प्रश्न होंगे: पेपर 2 UGC NET के लिए आवेदन करते समय उम्मीदवार द्वारा चुने गए विषय पर आधारित है। पेपर 2 के पाठ्यक्रम में आमतौर पर ग्रेजुएशन और पोस्ट-ग्रेजुएशन स्तर के विषय शामिल होते है।

- इस पेपर में एक विशाल पाठ्यक्रम होता है, इसलिए उम्मीदवारों को पूर्ण पाठ्यक्रम का विश्लेषण करके  शुरुआत करनी चाहिए।

- आपको अपने विषय के मुख्य विषयों पर अधिक ध्यान केंद्रित करना चाहिए, क्योंकि एक बार जब वे मजबूत हो जाते हैं, तो अन्य अध्यायों और विषयों के आधार पर प्रश्नों को समझना और प्रयास करना तुलनात्मक रूप से आसान हो जाता है

- महत्वपूर्ण बिंदुओं, मूल बातों और महत्वपूर्ण विषयों पर प्रकाश डालें और उनके नोट्स बनाएं जो परीक्षा में तुलनात्मक रूप से अधिक नंबर वाले हो सकते हैं।

- ऑनलाइन ट्यूटोरियल की मदद से मुश्किल विषयों को सीखने और समझने में भी मदद ले सकते हैं। विशेषज्ञों द्वारा सुझाई गई अच्छी संदर्भ वाली पुस्तकों को पढ़ें।

- पेपर- II की तैयारी को और मजबूत बनाने के लिए पिछले वर्ष के प्रश्नपत्रों का अभ्यास करें, पिछले 5-6 साल के पेपरों को हल करें।

UGC NET परीक्षा की तैयारी के लिए टिप्स

- एक प्रभावी अध्ययन योजना बनाएं और उस पर अमल कर, अपनी दैनिक गतिविधियों को निर्धारित करें। दिन में कम से कम 3 या 4 घंटे पढ़ाई करने की आदत डालें। लगातार पढ़ने से बचें और एक या डेढ़ घंटे या उससे अधिक समय तक पढ़ने करने के बाद ब्रेक लें।

- डायग्राम, फ्लो चार्ट या विषयों को उप-विषयों में तोड़कर सीखने का प्रयास करें।

- पिछले वर्षों के  UGC NET प्रश्न पत्रों का अभ्यास करें  जिससे आपको प्रश्नपत्र को हल करने में गति और सटीकता प्राप्त होगी।

- जितना हो सके उतने मॉक टेस्ट और ऑनलाइन टेस्ट का अभ्यास करें।

- प्रश्नपत्र को हल करने के बाद उत्तरों की जांच करना याद रखें, ताकि आप अपने कमजोर क्षेत्रों का विश्लेषण और सुधार कर सकें।

- कोशिश करें कि अपनी भाषा में नोट्स बनाकर अभ्यास करें क्योंकि जितना आपको खुद अपने नोट्स से समझ आएगा उतना दूसरे के से नहीं आ सकता।

- प्रिया मिश्रा