बड़ी जीत से मदद मिलती है लेकिन अगर यह पहले मिलती तो बेहतर होता: धोनी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 9, 2022   08:16
बड़ी जीत से मदद मिलती है लेकिन अगर यह पहले मिलती तो बेहतर होता: धोनी
ANI Photo.

सुपरकिंग्स के 209 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए दिल्ली की टीम मोईन (13 रन पर तीन विकेट), ड्वेन ब्रावो (24 रन पर दो विकेट), मुकेश चौधरी (22 रन पर दो विकेट) और सिमरजीत सिंह (27 रन पर दो विकेट) की उम्दा गेंदबाजी के सामने 17.4 ओवर में 117 रन पर ढेर हो गई।

नवी मुंबई|  चेन्नई सुपरकिंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने इंडियन प्रीमियर लीग में रविवार को यहां दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ 91 रन की जीत के बाद कहा कि बड़ी जीत से मदद मिलती है लेकिन अगर यह जीत सत्र में पहले मिलती को बेहतर होता। सुपरकिंग्स के इस जीत से 11 मैच में आठ अंक हो गए हैं लेकिन टीम के नॉकआउट में जगह बनाने की उम्मीद काफी कम है।

सुपरकिंग्स के 209 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए दिल्ली की टीम मोईन (13 रन पर तीन विकेट), ड्वेन ब्रावो (24 रन पर दो विकेट), मुकेश चौधरी (22 रन पर दो विकेट) और सिमरजीत सिंह (27 रन पर दो विकेट) की उम्दा गेंदबाजी के सामने 17.4 ओवर में 117 रन पर ढेर हो गई।

सुपरकिंग्स के लिए डेवोन कॉनवे ने 49 गेंद में पांच छक्कों और सात चौकों की मदद से 87 रन की पारी खेली। उन्होंने रुतुराज गायकवाड़ (41) के साथ पहले विकेट के लिए 110 रन जबकि शिवम दुबे (32) के साथ दूसरे विकेट के लिए 59 रन की साझेदारी की जिससे टीम ने छह विकेट पर 208 रन बनाए।

धोनी ने जीत के बाद कहा, ‘‘बड़े अंतर से जीत दर्ज करने से मदद मिली है लेकिन बेहतर होता अगर यह जीत पहले मिलती। यह हालांकि परफेक्ट मैच रहा। बल्लेबाजों ने अच्छा प्रदर्शन किया। मैं टॉस जीतना चाहता था और पहले क्षेत्ररक्षण करना चाहता था लेकिन यह इस तरह का मैच था जहां आप टॉस हारना चाहते हो।’’ सलामी बल्लेबाजों और गेंदबाजों की सराहना करते हुए धोनी ने कहा, ‘‘सलामी बल्लेबाजों ने अच्छा मंच तैयार किया जिससे मदद मिली। हमें सुनिश्चित करना था कि उनके बड़े हिटर लय में नहीं आएं। सिमरजीत और मुकेश ने परिपक्व होने में समय लिया है, सभी खिलाड़ी अपना समय लेते हैं।’’

दिल्ली के कप्तान ऋषभ पंत ने स्वीकार किया कि सुपरकिंग्स ने उन्हें खेल के हर विभाग में पछाड़ दिया। पंत ने कहा, ‘‘उन्होंने हमें हर विभाग में पछाड़ दिया। मुझे इस तरह की हार का अंदेशा था, हम अब सिर्फ अपने अगले तीन मैच पर ध्यान लगा सकते हैं। अगर हम उन्हें जीत लेते हैं तो क्वालीफाई कर लेना चाहिए।

टीम में बुखार और कोविड के मामले आए हैं, काफी कुछ चल रहा है लेकिन हम इनका इस्तेमाल बहाने के रूप में नहीं कर रहे। हम सिर्फ इतना कर सकते हैं कि अधिक सकारात्मक रहें, हमें मानसिक रूप से अच्छी स्थिति में रहने की जरूरत है और अच्छे फैसले करने हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।