पारस म्हाम्ब्रे ने कहा कि ठाकुर और मलिक दोनों टीमों के लिए महत्वपूर्ण हैं, कौन खेलेगा यह पूरी तरह से पिच पर निर्भर करता है

Mhambrey
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
म्हाम्ब्रे ने कहा कि ठाकुर और मलिक दोनों ही अलग अलग तरीकों से टीम के लिये महत्वपूर्ण हैं। उन्होंने कहा, ‘‘ठाकुर को हमने बल्लेबाजी के कारण चुना। वह बल्लेबाजी में गहराई देते हैं। हम पिच देखेंगे और तभी इसके मुताबिक ही संयोजन पर फैसला करेंगे। वह भारत के लिये अच्छा प्रदर्शन कर चुका है। ’’

गेंदबाजी कोच पारस म्हाम्ब्रे ने शुक्रवार को कहा कि शार्दुल ठाकुर को पहले वनडे में उमरान मलिक पर तरजीह देकर चुना गया क्योंकि वह भारतीय बल्लेबाजी में ‘गहराई’ लाते हैं लेकिन जम्मू कश्मीर का तेज गेंदबाज इस साल घरेलू धरती पर होने वाले वनडे विश्व कप की योजनाओं का हिस्सा बना रहेगा। म्हाम्ब्रे ने कहा कि ठाकुर और मलिक दोनों ही अलग अलग तरीकों से टीम के लिये महत्वपूर्ण हैं। उन्होंने कहा, ‘‘ठाकुर को हमने बल्लेबाजी के कारण चुना। वह बल्लेबाजी में गहराई देते हैं। हम पिच देखेंगे और तभी इसके मुताबिक ही संयोजन पर फैसला करेंगे। वह भारत के लिये अच्छा प्रदर्शन कर चुका है। ’’

मलिक के बारे में महाम्ब्रे ने कहा, ‘‘जिस तरह से वह आगे बढ़ रहा है, उसे देखकर काफी खुशी होती है। रफ्तार भी मायने रखती है और इससे गेंदबाजी आक्रमण में एक अलग आयाम जुड़ता है। उसे खिलाने का फैसला पिच पर और टीम संयोजन की जरूरत पर निर्भर करेगा। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘जहां तक विश्व कप की बात है तो वह पूरी तरह रणनीति में शामिल है। वह टीम के लिये काफी अहम है। ’’ जसप्रीत बुमराह पीठ संबंधित मुद्दों के कारण टीम से बाहर हैं और म्हाम्ब्रे ने कहा कि टीम को उनकी कमी खल रही है।

गेंदबाजी कोच ने कहा, ‘‘बुमराह बिलकुल अलग तरह का गेंदबाज है और उसकी जगह कोई नहीं ले सकता, इस तथ्य को स्वीकार करना होगा। उसके कौशल जैसे गेंदबाज की जगह किसी को लाना मुश्किल है। वहीं दूसरी ओर इससे अन्य गेंदबाजों का इस स्तर पर परखे जाने का मौका मिलता है। हम देखेंगे कि ये गेंदबाज कैसा प्रदर्शन करते हैं और दबाव से कैसे निपटते हैं। ’’

जब मोहम्मद सिराज के बारे में पूछा गया तो उन्होंने इस हैदराबाद के तेज गेंदबाज की तारीफ करते हुए कहा, ‘‘मैंने उसे भारत ए टीम में देखा था। वह लाल गेंद से काफी अच्छा कर रहा है। वह गेंद को अंदर लाने की कोशिश करता था लेकिन उसने अपनी ‘सीम पाजिशन’ पर भी काम किया है। वह केवल विश्व कप के लिये ही नहीं बल्कि इसके इतर भी टीम का बहुत अहम सदस्य है। ’’ न्यूजीलैंड की टीम ने पहले वनडे में छह विकेट 131 रन पर गंवा दिये थे लेकिन वह इसके बाद 206 रन जोड़ने में सफल रही। गेंदबाजी कोच ने कहा कि टीम ने इस मुद्दे पर लंबी चर्चा की।

उन्होंने कहा, ‘‘जब आप उस जैसी पिच पर 350 का स्कोर बनाते हो तो आप दूसरी टीम से साझेदारियों की उम्मीद करते हो, उन्होंने छह विकेट तेजी से गंवा दिये लेकिन इसके बाद उन्होंने आठवें नंबर तक बल्लेबाजी की। सैंटनर भी अच्छा बल्लेबाज है। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘महत्वपूर्ण मैच जीतना है, इस दौरान आपकी परीक्षा भी होगी। हमने उन चीजों का चार्ट बनाया है जिस पर हम ध्यान देना चाहते हैं और इस मैच में उन्हें लागू करना चाहेंगे। हम ज्यादा प्रयोग करने पर ध्यान नहीं देंगे लेकिन हमने जिन खिलाड़ियों की छंटनी की है, उनकी परीक्षा लेने की जरूरत है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़