रसेल को अधिक स्ट्राइक देने की रणनीति कारगर रही : श्रेयस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 15, 2022   08:40
रसेल को अधिक स्ट्राइक देने की रणनीति कारगर रही : श्रेयस
ANI Photo.

केकेआर ने आईपीएल मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए रसेल के नाबाद 49 रन की मदद से छह विकेट पर 177 रन बनाये। इसके जवाब में सनराइजर्स की टीम आठ विकेट पर 123 रन ही बना पायी।

पुणे| कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) के कप्तान श्रेयस अय्यर ने सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ 54 रन की बड़ी जीत में अहम भूमिका निभाने वाले आंद्रे रसेल की जमकर प्रशंसा करते हुए शनिवार को यहां कहा कि इस कैरेबियाई ऑलराउंडर को अधिक स्ट्राइक देने की रणनीति कारगर साबित हुई।

केकेआर ने आईपीएल मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए रसेल के नाबाद 49 रन की मदद से छह विकेट पर 177 रन बनाये। इसके जवाब में सनराइजर्स की टीम आठ विकेट पर 123 रन ही बना पायी।

रसेल ने गेंदबाजी में भी कमाल दिखाया और 22 रन देकर तीन विकेट लिये। अय्यर ने मैच के बाद कहा, ‘‘मुझे लगता है कि हम सही मानसिकता के साथ मैदान पर उतरे। सभी खिलाड़ियों ने अच्छा खेल दिखाया और पुणे की इस पिच पर टॉस जीतना आवश्यक था।’’

उन्होंने रसेल की प्रशंसा करते हुए कहा, ‘‘हम रसेल को अधिक स्ट्राइक देना चाहते थे। हम जानते थे कि वॉशिंगटन (सुंदर) का ओवर बचा हुआ है और हम चाहते थे कि रसेल अंत तक टिके रहे। हैदराबाद के विरुद्ध 177 एक अच्छा स्कोर था।’’ श्रेयस ने अपने पिछले बयान पर सफाई देते हुए कहा, ‘‘पिछले मैच के बाद जब मैंने कहा कि सीईओ टीम चयन में हाथ बंटाते हैं तो उसका अर्थ यह था कि वह अंतिम एकादश से बाहर रखे गए खिलाड़ियों को सहारा देते हैं।’

सनराइजर्स के कप्तान केन विलियमसन ने भी रसेल की तारीफ की। विलियमसन ने कहा, ‘‘लक्ष्य हासिल किया जा सकता था लेकिन रसेल ने अपना जलवा दिखाया और मैच को हमसे दूर लेकर चले गए। हमें साझेदारियां निभानी चाहिए थी लेकिन हम ऐसा नहीं कर पाए। आज हमारी रणनीति नहीं चल पायी।’’

मैन ऑफ द मैच रसेल ने कहा, ‘‘मैं जानता था कि इस पिच पर 165-170 रन का स्कोर अच्छा होगा। हमें पता था कि अगर हम सही क्षेत्र में गेंदबाज़ी करते हैं तो हमें जीत मिलेगी। मैं स्थिति के बारे में ज़्यादा नहीं सोचता, वह मेरा काम नहीं है। नेट पर भी मैं पहली ही गेंद से छक्का लगाने का प्रयास करता हूं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।