आकाशदीप की हैट्रिक के बावजूद आस्ट्रेलिया से पहले मैच में 4-5 से हारा भारत

India lost against Australia
प्रतिरूप फोटो
ANI
गोवर्स ने मैच के अंत में पेनल्टी कॉर्नर से दो गोल किये। भारतीय मुख्य कोच ग्राहम रीड मैच के अंतिम चरण में अपनी टीम के प्रदर्शन से निराश थे। रीड ने कहा, ‘‘मैच का अंत काफी निराशाजनक था जबकि इससे पहले यह शायद काफी अच्छा प्रदर्शन था।

आकाशदीप सिंह की हैट्रिक भी भारतीय पुरूष हॉकी टीम के काम नहीं आ सकी जिसे शनिवार को यहां अंतिम मिनट में दो गोल गंवाने के कारण पांच मैचों की श्रृंखला के पहले बड़े स्कोर वाले टेस्ट मैच में आस्ट्रेलिया से 4-5 से हार का सामना करना पड़ा। आकाशदीप सिंह (10वें, 27वें और 59वें मिनट) ने तीन गोल दागे जबकि कप्तान हरमनप्रीत सिंह (31वें मिनट) ने पेनल्टी कॉर्नर को गोल में तब्दील किया। आस्ट्रेलिया के लिये लाचलान शार्प (पांचवें), नाथन इफरॉम्स (21वें), टॉम क्रेग (41वें) और ब्लेक गोवर्स (57वें और 60वें) ने गोल दागे।

गोवर्स ने मैच के अंत में पेनल्टी कॉर्नर से दो गोल किये। भारतीय मुख्य कोच ग्राहम रीड मैच के अंतिम चरण में अपनी टीम के प्रदर्शन से निराश थे। रीड ने कहा, ‘‘मैच का अंत काफी निराशाजनक था जबकि इससे पहले यह शायद काफी अच्छा प्रदर्शन था। हमने कुछ चरण में विशेषकर दो क्वार्टर में निराशाजनक प्रदर्शन किया लेकिन मुझे लगता है कि हमने काफी अच्छी वापसी की लेकिन दुर्भाग्य से हमने फिर अंत में बढ़त (आस्ट्रेलिया को) दे दी। हमें इसमें ही अब बेहतर होना होगा। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘अब चुनौती है कि मिलकर अच्छा प्रदर्शन करें। इस दौरे के उद्देश्यों में से एक है निरंतरता बनाना और कल हमारे लिये यही चुनौती होगी। ’’

श्रृंखला का दूसरा मैच रविवार को खेला जायेगा। आस्ट्रेलिया ने तेज शुरूआत की और पांचवें ही मिनट में बढ़त बना ली जब शार्प ने पहले ही प्रयास में भारतीय गोलकीपर पीआर श्रीजेश को छकाकर गोल दागा। भारतीय टीम ने भी तुरंत इसका जवाब दिया जिसमें अमित रोहिदास ने बायीं ओर से शानदार मूव बनाया लेकिन आस्ट्रेलियाई रक्षण द्वारा गेंद को सर्कल के अंदर ही रोक दिया गया। आकाशदीप ने फिर 11वें मिनट में भारत को बराबरी पर ला दिया जब हार्दिक सिंह ने उनके लिये शानदार मौका बनाया।

दूसरे क्वार्टर के छह मिनट बाद आस्ट्रेलिया ने फिर अपनी बढ़त कायम कर ली जिसमें भारतीयों के खराब रक्षण का हाथ रहा। भारतीय डिफेंडर एक क्रास को रोकने में असफल रहे और इफरॉम्स ने इसे चतुराई से डिफ्लेक्ट किया और गेंद नेट में पहुंच गयी। आकाशदीप फिर भारत के बचाव में आये और उन्होंने 27वें मिनट में तेज रिवर्स हिट से स्कोर 2-2 से बराबर कर दिया। हाफ टाइम से तुंरत पहले आस्ट्रेलिया को एक पेनल्टी कॉर्नर मिला लेकिन भारत के दूसरे गोलकीपर कृष्ण बहादुर पाठक काफी सतर्क थे और उन्होंने खतरे को टाल दिया।

छोर बदलने के एक मिनट बाद ही हरमनप्रीत ने पेनल्टी कॉर्नर से गोल कर भारत को मैच में पहली बार आगे कर दिया। भारतीयों ने लगातार पेनल्टी कॉर्नर हासिल किये लेकिन टीम दोनों मौके गंवा बैठी। मैच के 41वें मिनट में आस्ट्रेलिया ने एक और पेनल्टी कॉर्नर हासिल किया जिस पर क्रेग ने ‘रिबाउंड’ पर गोल दागा जबकि श्रीजेश ने पहली ड्रैग फ्लिक का बचाव किया था। घरेलू टीम ने लगातार दबदबा बनाये रखा और कुछ पेनल्टी कॉर्नर भी हासिल किये लेकिन इनमें गोल नहीं कर पायी।

भारत मैच के अंतिम पांच मिनट में लापरवाह दिखा जिसमें जर्मनप्रीत सिंह को गैरजरूरी ग्रीन कार्ड मिला जिससे टीम का एक खिलाड़ी कम हो गया। आस्ट्रेलिया ने इस मौके का पूरा फायदा उठाया और एक और पेनल्टी कॉर्नर प्राप्त किया जिस पर गोवर्स ने ताकतवर फ्लिक से गोल दागा। लेकिन आकाशदीप ने सीटी बजने से एक मिनट पहले गोल कर स्कोर 4-4 से बराबर कराया। पर अपने ही सर्कल के अंदर खराब रक्षण का भारतीयों को खामियाजा भुगतना पड़ा जिससे आस्ट्रेलिया ने दो और पेनल्टी कॉर्नर हासिल किये। इसमें से दूसरे प्रयास में गोवर्स ने गोल कर अपनी टीम को श्रृंखला में 1-0 की बढ़त दिला दी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़