भले ही भारत श्रीलंका से सीरीज हार गया लेकिन इंजमाम उल हक की यह बातें दिल खुश कर देंगी

भले ही भारत श्रीलंका से सीरीज हार गया लेकिन इंजमाम उल हक की यह बातें दिल खुश कर देंगी

ऐसे में भारत को अतिरिक्त खिलाड़ियों को टीम में शामिल कर मैच के लिए उतरना पड़ा। आखिरी मैच में भारतीय टीम मात्र 81 रनों पर ऑल आउट हो गई और श्रीलंका ने 14.3 ओवर में उस मैच को जीत भी लिया।

शिखर धवन के नेतृत्व में भारतीय क्रिकेट टीम श्रीलंका दौरे पर थी। श्रीलंका दौरे के दौरान भारतीय क्रिकेट टीम को तीन एकदिवसीय मैच का श्रृंखला खेलना था साथ ही साथ तीन टी-20 मैचों का फैसला होना था। तीन एकदिवसीय मैचों की श्रृंखला को भारत ने 2-1 से जीता जबकि तीन टी20 मैचों की श्रृंखला को भारत 2-1 से गवा दिया। टी20 श्रृंखला के दो मैच भारत के लिए कहीं ना कहीं मजबूरी वाली मैच थी क्योंकि 8 खिलाड़ी कोरोना वायरस के कारण आइसोलेशन में थे। ऐसे में भारत को अतिरिक्त खिलाड़ियों को टीम में शामिल कर मैच के लिए उतरना पड़ा। आखिरी मैच में भारतीय टीम मात्र 81 रनों पर ऑल आउट हो गई और श्रीलंका ने 14.3 ओवर में उस मैच को जीत भी लिया।

इसे भी पढ़ें: 2008 के बाद पहली बार श्रीलंका से सीरीज हारा भारत, क्यों नहीं चला बल्लेबाजों का बल्ला?

भले ही भारत श्रीलंका से सीरीज हार गया लेकिन पाकिस्तान के पूर्व कप्तान इंजमाम उल हक की यह बातें आपका दिल खुश कर देगी। पाकिस्तान के पूर्व कप्तान इंजमाम उल हक ने अपने यूट्यूब चैनल पर कहा कि भारतीय टीम कोरोना वायरस से जूझ रही थी। क्रुणाल पांड्या सहित उसके आठ खिलाड़ी चयन के लिए उपलब्ध नहीं थे। ऐसे में उसके पास मैट छोड़ने का विकल्प था। लेकिन भारत ने यह मैच खेला। यह दिखाता है कि टीम को हार से डर नहीं लगता है।

इसे भी पढ़ें: 30 साल की उम्र में संदीप वारियर को मिला देश के लिए खेलने का मौका, डेब्यू कैप मिलते ही भर आई आंखें

इंजमाम उल हक ने यह भी कहा कि अगर आप हार से नहीं डरते हैं तो जीत खुद चलकर आपके पास आता है। भारतीय टीम ने उन खिलाड़ियों पर भरोसा किया जो उस वक्त उपलब्ध थे। भुवनेश्वर कुमार नंबर 6 पर बल्लेबाजी करने पहुंचे क्योंकि टीम सिर्फ पांच बल्लेबाजों के साथ ही खेल रही थी। इमाम उल हक ने साफ तौर पर कहा कि टीम इंडिया ने शानदार खेल दिखाया और श्रीलंका को कड़ी टक्कर दी। मैं इसका क्रेडिट राहुल द्रविड़ को देना चाहूंगा। हार और जीत खेल का हिस्सा है लेकिन मैं कहूंगा कि खिलाड़ियों की कमी के बाद भी मैच खेलना एक बहादुरी वाला फैसला है।