बड़े से बड़े खिलाड़ियों को भी खराब फॉर्म से जूझना पड़ता है : ईशान किशन

Ishan Kishan
ANI Photo.
मुंबई ने ईशान को 15 करोड़ 25 लाख रूपये में खरीदा था लेकिन वह 13 मैचों में 30 . 83 की औसत से 370 रन ही बना सके। मुंबई लगातार आठ हार के बाद प्लेआफ की दौड़ से बाहर हो चुकी है।

मुंबई| आईपीएल में सबसे महंगे बिके ईशान किशन अपेक्षाओं पर खरे नहीं उतर सके लेकिन मुंबई इंडियंस के विकेटकीपर बल्लेबाज को अपने फॉर्म की चिंता नहीं है और उनका कहना है कि सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों को भी कभी ना कभी खराब दौर से जूझना पड़ा है।

मुंबई ने ईशान को 15 करोड़ 25 लाख रूपये में खरीदा था लेकिन वह 13 मैचों में 30 . 83 की औसत से 370 रन ही बना सके। मुंबई लगातार आठ हार के बाद प्लेआफ की दौड़ से बाहर हो चुकी है।

ईशान ने सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ मंगलवार को तीन रन से मिली हार के बाद कहा ,‘‘ सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों को भी जूझना पड़ा है। मैने क्रिस गेल को भी जमने में समय लेते देखा है।’’

उन्होंने कहा ,‘‘ हर दिन नया है और हर मैच नया है। कई बार अच्छी शुरूआत मिलती है और कई बार विरोधी गेंदबाज तैयारी के साथ उतरते हैं। बाहर जो लोग चाहते हैं, ड्रेसिंग रूम के भीतर की रणनीति उससे इतर होती है।’’

उन्होंने कहा ,‘‘ क्रिकेट में कभी यह सुनिश्चित नहीं होता कि आपकी एक ही भूमिका है और आप मैदान पर उतरते ही गेंद को पीटने लगोगे। यदि आप टीम के बारे में सोचे तो अपनी भूमिका स्पष्ट होनी जरूरी है।’’

सनराइजर्स के कोच टॉम मूडी ने कहा कि टिम डेविड ने अगर मुंबई के लिये आक्रामक पारी नहीं खेली होती तो उनकी टीम का नेट रनरेट बेहतर होता जिससे प्लेआफ में पहुंचने की संभावना बढती। सनराइजर्स अभी 12 अंक के साथ आठवें स्थान पर है। केकेआर और पंजाब किंग्स के भी समान अंक है लेकिन उनका रनरेट बेहतर है।

मूडी ने कहा ,‘‘ आखिर में आपकी प्राथमिकता मैच जीतना होती है। हमने अच्छे रन बनाये लेकिन टिम डेविड आक्रामक पारी नहीं खेलता तो हमारा रनरेट भी बेहतर हो जाता।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़