यूएई चरण में सामूहिक रूप से नाकाम रहे: रोहित

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 9, 2021   07:46
यूएई चरण में सामूहिक रूप से नाकाम रहे: रोहित

टीम के प्ले आफ में जगह बनाने में नाकाम रहने पर रोहित ने कहा, ‘‘जब आप मुंबई जैसी फ्रेंचाइजी के लिए खेलते हो तो आपसे हमेशा अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद की जाती है। मैं इसे दबाव नहीं कहूंगा, यह उम्मीदें हैं।’’

अबुधाबी| मुंबई इंडियन्स के कप्तान रोहित शर्मा ने इंडियन प्रीमियर लीग में शुक्रवार को यहां सनराइजर्स हैदराबाद पर 42 रन की जीत के बावजूद प्ले आफ में जगह बनाने में नाकाम रहने के बाद कहा कि उनकी टीम दूसरे चरण में सामूहिक रूप से विफल रही।

मुंबई के 236 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए हैदराबाद की टीम आठ विकेट पर 193 रन ही बना सकी। मुंबई को प्ले आफ के लिए क्वालीफाई करने के लिए सनराइजर्स को 65 रन के स्कोर से कम पर रोकना था।

सनराइजर्स की टीम आठ टीमों की तालिका में छह अंक के साथ अंतिम स्थान पर रही। सनराइजर्स की ओर से मनीष पांडे (41 गेंद में नाबाद 69, सात चौके, दो छक्के), जेसन रॉय (34) और अभिषेक शर्मा (33) ने उपयोगी पारियां खेली।

मुंबई की ओर से जेम्स नीशाम ने 28, जसप्रीत बुमराह ने 39 और नाथन कोल्टर नाइल ने 40 रन देकर दो-दो विकेट चटकाए। इशान ने 32 गेंद में 84 जबकि सूर्यकुमार ने 40 गेंद में 82 रन बनाए जिससे मुंबई ने नौ विकेट पर 235 रन बनाए जो टीम का आईपीएल इतिहास का सर्वोच्च स्कोर है।

इसे भी पढ़ें: खराब शुरुआत के बाद जीत दर्ज करना अविश्वसनीय : कोहली

यह आईपीएल 2021 का भी सर्वोच्च स्कोर है। रोहित ने मैच के बाद कहा, ‘‘हमने जो हासिल किया उस पर हमें गर्व है। दिल्ली में हम मैच जीतने के बाद लय में आ रहे थे लेकिन इसके बाद ब्रेक (कोविड-19 मामलों के कारण) हो गया।

यहां आने के बाद हम टीम के रूप में सामूहिक रूप से विफल रहे। आज जीत दर्ज करने की खुशी है। हमने सब कुछ झोंक दिया और मुझे यकीन है कि प्रशंसकों के लिए भी यह मनोरंजक रहा।’’ टीम के प्ले आफ में जगह बनाने में नाकाम रहने पर रोहित ने कहा, ‘‘जब आप मुंबई जैसी फ्रेंचाइजी के लिए खेलते हो तो आपसे हमेशा अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद की जाती है। मैं इसे दबाव नहीं कहूंगा, यह उम्मीदें हैं।’’

केन विलियमसन के चोटिल होने के कारण टीम की कमान संभाल रहे मनीष पांडे ने कहा कि उनके तेज गेंदबाजों ने अधिक रन लुटा दिए। पांडे ने कहा, ‘‘जिन पिचों पर हम खेले उनमें ये टूर्नामेंट का सर्वश्रेष्ठ विकेट था। हमें पता था कि मुंबई सब कुछ झोंक देगा और उन्होंने ऐसा किया। मुझे लगता है कि हम बेहतर गेंदबाजी कर सकते थे।

हमारे तेज गेंदबाजों ने कुछ अतिरिक्त रन दिए जिनका खामियाजा अंत में हमें भुगतना पड़ा।’’ सनराइजर्स की टीम अंक तालिका में छह अंक के साथ अंतिम स्थान पर रही और पांडे ने कहा कि वे टीम के रूप में अच्छा प्रदर्शन करने में नाकाम रहे।

उन्होंने कहा, ‘‘हम सिर्फ तीन मैच जीत पाए। हमारी टीम में काफी बदलाव हुए लेकिन कोई भी संयोजन काम नहीं कर पाया। हमें जूझना पड़ा, चेन्नई में शुरुआती मैचों में भी। हमने दूसरे हाफ में बेहतर करने का प्रयास किया लेकिन दुर्भाग्य से ऐसा नहीं कर पाए। व्यक्तिगत रूप से कुछ खिलाड़ियों ने अच्छा प्रदर्शन किया लेकिन एक टीम के रूप में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।