भाजपा को जिताने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं संघ प्रमुख मोहन भागवत

By रजनीश कुमार शुक्ल | Publish Date: Feb 6 2019 7:36PM
भाजपा को जिताने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं संघ प्रमुख मोहन भागवत
Image Source: Google

मोहन भागवत ने मोदी सरकार को एक बार और लाने के लिए छह माह का और समय मांगा। इससे तो यही प्रतीत होता है कि धर्म संसद तो बहाना है भाजपा को पुन: लाना ही संघ का प्रमुख एजेंडा है। संघ प्रमुख भागवत ने इसी बहाने सभी संतों का मिजाज भी जान लिया।

विश्व हिंदू परिषद की धर्म संसद में संघ प्रमुख मोहन भागवत ने सभी साधु-संतों को साधने के लिए अच्छी कोशिश की। कुछ संतों को छोड़ सभी उनकी बातों से सहमत हुए और भाजपा को दोबारा सत्ता लाने के लिए प्रतिबद्धता जताई। मोहन भागवत ने मोदी सरकार को एक बार और लाने के लिए छह माह का और समय मांगा। इससे तो यही प्रतीत होता है कि धर्म संसद तो बहाना है भाजपा को पुन: लाना ही संघ का प्रमुख एजेंडा है। संघ प्रमुख मोहन भागवत ने इसी बहाने सभी संतों का मिजाज भी जान लिया कि साधु-संत व अलग-अलग अखाड़ों के प्रमुख किस तरफ रुख करते हैं। उन्होंने इन्हीं सब बातों को लेते हुए सभी को आमंत्रित किया था और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी मिले थे कि आगे क्या करना है। शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने तो वसंत पंचमी से ही अयोध्या कूच कर 12 फरवरी को राम मंदिर के शिलान्यास की घोषणा कर दी। उनके साथ ही अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेन्द्र गिरि ने भी शंकराचार्य के इस आदेश का समर्थन करते हुए चार फरवरी के बाद अयोध्या कूच करने का निर्णय ले लिया।
 
 


धर्म संसद के पहले दिन तो सब कुछ ठीक रहा क्योंकि हिन्दुओं के विघटन और धर्मांतरण को लेकर प्रस्ताव भी पास किया गया कि हिन्दुओं को जोड़ा जाये क्योंकि उनके बिखरने से ही कट्टरवादी ताकतें बढ़ रही हैं। बिछड़े लोगों को घर वापसी की भी सभी ने एक सुर में आवाज लगाई। सबरीमाला का भी मुद्दा उठा और संघ प्रमुख ने उस पर आश्वस्त भी किया कि वहाँ सब कुछ ठीक है। धर्म संसद में यह भी बताया गया कि केरल सरकार भी अत्याचार और अन्याय कर रही है। यह केवल मलयाली समाज का नहीं पूरे हिन्दू समाज का संकट है। पूरा हिन्दू समाज आंदोलन में सहभागी है। हिन्दू समाज एक साथ खड़ा हो गया तो उसे तोड़ा नहीं जा सकता।
 
वहीं राम मंदिर मुद्दे पर धर्म सभा में कोई तारीख तय न होने से नाराज विश्व हिन्दू परिषद के कुछ कार्यकर्ताओं ने विरोध व हंगामा किया। साध्वी प्रियंवदा ने संघ का साथ दिया तो उनके बयान के बाद नारेबाजी ही होने लगी। विरोधियों ने कहा पूरे देश से आये सभी लोग राम मंदिर निर्माण की तारीख चाहते हैं। विरोधियों ने भगवान राम के टाट में होने से पहले भी काफी नाराजगी जताई थी। दिसम्बर में दिल्ली में धर्म संसद हुई थी तब भी राम मंदिर निर्माण की बात की गयी थी लेकिन उसका नतीजा अब तक न निकलने से संघ कार्यकर्ताओं में नाराजगी थी। दिल्ली में संघ के सह-कार्यवाह भैयाजी जोशी ने 'मंदिर वहीं बनाएंगे' की घोषणा की थी और कहा था कि राम मंदिर की घोषणा करने वाले लोग आज सत्ता में बैठे हैं। उनको याद दिलाया कि लोकतंत्र में संसद का भी अधिकार है। संसद में कानून लाने की भी बात की थी। लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने साक्षात्कार में साफ कर दिया था कि मंदिर निर्माण के लिए कोई अध्यादेश नहीं लायेंगे। यह ममाला सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है फैसले के बाद जरूरत पड़ी तो अध्यादेश लाया जा सकता है।
 
अब लोकसभा चुनाव को देखते हुए संघ प्रमुख मोहन भागवत सभी को एक करने में जुटे हुए हैं वह भी जानते हैं कि यदि सभी हिन्दू एकजुट नहीं हुए तो मोदी सरकार सत्ता से जा सकती है। क्योंकि यूपी में अखिलेश यादव व मायावती का गठबंधन चुनौतीपूर्ण है वहीं कांग्रेस ने जो प्रियंका कार्ड खेला है उससे भी काफी हद तक चुनाव पर असर पड़ेगा। वोट बंटने से भाजपा को नुकसान झेलना पड़ सकता है। मोहन भागवत जानते हैं कि भाजपा राम मंदिर की पक्षधर है लेकिन सुप्रीम कोर्ट में केस चलने से उसके फैसले के बाद ही कुछ हो सकता है तभी वह सभी को आश्वस्त करने में लगे हैं कि भाजपा ही राम मंदिर का निर्माण करायेगी उसके अलावा कोई भी पार्टी नहीं करा सकती है। भागवत राम मंदिर निर्माण की दिशा में केंद्र सरकार की अभी तक की कार्रवाई से थोड़ा निराश जरूर दिखे, लेकिन उन्होंने स्पष्ट किया कि वह हताश नहीं हैं। मंदिर उसी स्थान और पूर्व प्रस्तावित मॉडल के अनुसार ही बनेगा।



 


उधर दिगम्बर अखाड़ा के महामंडलेश्वर कंप्यूटर बाबा की तरफ से आयोजित 'संतों के मन की बात' कार्यक्रम में केंद्र और प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर हमला बोला गया, 24 दिन का अल्टीमेटम भी दे दिया और अयोध्या कूच करने की चेतावती दे डाली जिससे प्रदेश व केंद्र सरकार की परेशानी बढ़ सकती है। इससे पहले भी कम्प्यूटर बाबा ने मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान की परेशानी बढ़ाई थी। वहाँ शिवराज पर आरोप लगाया था कि अपनी नाकामियों को छिपाने के लिए मुझे राज्यमंत्री बनाया था। अब योगी सरकार व मोदी सरकार को परेशानी में डालने के लिए सभी साधुओं को एकजुट कर अयोध्या कूच की तैयारी में हैं। अगर ज्यादातर साधु-संत उनके साथ अयोध्या कूच करते हैं तो संघ प्रमुख के लिए परेशानी बढ़ सकती है जिस प्रकार वह सभी को एकजुट कर मोदी सरकार को पुन: लाने की कवायद कर रहे हैं उसमें बड़ा रोड़ा डाल सकते हैं।
 

 
देखा जाये तो कुम्भ में सभी अखाड़ा प्रमुखों और साधु, संतों का मिज़ाज समझने के लिए ही संघ प्रमुख मोहन भागवत ने धर्म संसद का आयोजन किया था। योगी ने भी उनसे इसी मसले को लेकर मुलाकात की थी क्योंकि वह मंदिर के पक्षधर हैं लेकिन फैसला न आने और मोदी के कानून न लाने वाले बयान के बाद वह कुछ भी नहीं कर सकते। यूपी की बागडोर होने के कारण उन पर लोकसभा चुनाव का बहुत बड़ा बोझ है। इसलिए वह भी सभी को मनाने की कोशिश में लगे हुए हैं। अब देखना है कि विरोधी साधुओं को साधने में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और संघ प्रमुख मोहन भागवत कितने सफल होते हैं। 
 
-रजनीश कुमार शुक्ल
सह- संपादक (अवधनामा ग्रुप)

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   



Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.

Related Story

Related Video