वनडे की तरह टेस्ट में भी अब जादू बिखेरेंगे हिटमैन !

वनडे की तरह टेस्ट में भी अब जादू बिखेरेंगे हिटमैन !

जाहिर है रोहित को टेस्ट क्रिकेट में ओपनिंग करते हुए हर कोई देखना चाहता है। वहीं रोहित दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 3 मैचों की टेस्ट सीरीज के लिए टीम इंडिया के ओपनर के रूप में चुने गए है। लेकिन क्या मामला इतना आसान दिखता है। क्योंकि रोहित के पास अपने आपको साबित करना का आखिरी मौका है।

पिछले 7 सालों में नीली जर्सी में जब भी रोहित शर्मा ओपनिंग करने उतरे है तो स्कोर बोर्ड पर रनों का अंबार ही लगा है। इतिहास गवाह है कि रोहित ने वनडे और टी-20 में वो तमाम रिकार्ड बनाएं है जिसे देखकर हर भारतीय क्रिकेट प्रेमी का सीना चौड़ा हो जाता है। लंबे समय से रोहित टीम इंडिया की वो ताकत है जो हर दिन सफलता के नए आयाम लिखता आ रहै है। लेकिन एक टीस थी जो रोहित के साथ उनके फैंस को लंबे समय से सता रही है। दरअसल अपने प्रदर्शन के दम पर रोहित वनडे और टी-20 के तो महारथी बन गए है। लेकिन टेस्ट में ना जाने उन्हें किसकी नजर लग जाती है। आखिर क्यों जब बारी सफेद जर्सी की आती है तो रोहित का वनडे वाला अंदाज टेस्ट में सामंजस्य नहीं बिठा पाता। क्रिकेट के सबसे पुराने और बड़े फार्मेट में रोहित के वर्सेस खुद रोहित ही साबित हो रहे है। रोहित के पास तकनीक और टैलेंट का भंडार तो है लेकिन पता नहीं दोनों टेस्ट क्रिकेट में उनका साथ क्यों नहीं दे पा रहे है। सवाल यह है कि क्या वनडे की तरह टेस्ट में भी रोहित अपने प्रदर्शन से सबका दिल जीत पाएंगे। क्या सफेद जर्सी में नीली जर्सी वाला हिटमैन नजर आएगा। इस समय भारतीय टीम टेस्ट क्रिकेट में ओपनिंग बल्लेबाजों को लेकर जूझ रही है। ऐसे में क्या रोहित शर्मा उस जगह को भर पाएंगे। 

इसे भी पढ़ें: युवराज सिंह ने तोड़ी चुप्पी, कहा- मैं 2019 का विश्व कप खेलना चाहता था

जाहिर है सवाल काफी है और रोहित शर्मा को टेस्ट क्रिकेट में पहले भी कई मौके मिल चुके है। लेकिन अब एक बार फिर किस्मत ने हिटमैन के दरवाजें पर दस्तक दी है। रोहित को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट सीरीज में ओपनिंग करने का मौका मिला है। वो मौका जिसका इंतजार रोहित को सालों से था। रोहित को इस मौके को किसी भी हाल में भुनाना होगा। हिटमैन को सफेद जर्सी वाले क्रिकेट के माहौल में रमना होगा। क्योंकि रोहित के लिए ये मौका किसी वरदान से कम नहीं है। अगर हिटमैन इस बार हार गए तो सब हार जाएंगे और अगर रोहित ने मौके पर चौका जमाया तो भारतीय टीम को टेस्ट क्रिकेट में एक पर्मामेंट ओपनर तो मिलेगा ही साथ ही वनडे की तरह रोहित से टेस्ट में भी क्या बड़े-बड़े रिकार्ड बना लें उसे भी दुनिया देख लेगी।

पूर्व भारतीय क्रिकेटर और टेस्ट और वनडे सहित हर फार्मेट में अपनी ओपनिंग से धमाल मचाने वाले गौतम गंभीर भी रोहित शर्मा को ओपनिंग देने के पक्ष में दिखाई देते आ रहे है। गंभीर ने कहा है कि “अगर आप रोहित को टीम में चुनते हैं और मध्य क्रम में जगह नहीं है तो रोहित इतने अच्छे खिलाड़ी हैं कि वो अच्छा करेंगे। अगर आप उन्हें चुन रहें हैं तो उन्हें अंतिम-11 में रखें और अगर नहीं रख पाते हैं तो टेस्ट में उन्हें न चुनें। अभी टेस्ट में सलामी बल्लेबाजी ही एक ऐसी जगह है जहां वो खेल सकते हैं और मुझे लगता है कि वह इसके लिए तैयार हैं।' इसके अलावा भारतीय टेस्ट टीम के उपकप्तान और मुंबई रणजी टीम में रोहित शर्मा के साथ खेलने वाले आजिंक्य रहाणे भी रोहित को ओपनिंग देने के पक्ष में दिखाई पड़ रहे है। रहाणे ने रोहित के ओपनिंग करने के उपर दिए गए बयान में कहा है कि “आप वास्तव में जवाब चाहते हो। मुझे अभी पता नहीं है कि रोहित पारी का आगाज करेगा। अगर ऐसा होता है तो मुझे उसके लिये खुशी होगी। मैंने वेस्टइंडीज में भी कहा था कि रोहित जैसे विशिष्ट प्रतिभा के धनी बल्लेबाज को बाहर बैठे हुए देखना अच्छा नहीं लगता”।

इसे भी पढ़ें: युवराज ने रोहित को कप्तान का विकल्प बताया, कहा- कोहली से बोझ कम होंगे

जाहिर है रोहित को टेस्ट क्रिकेट में ओपनिंग करते हुए हर कोई देखना चाहता है। वहीं रोहित दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 3 मैचों की टेस्ट सीरीज के लिए टीम इंडिया के ओपनर के रूप में चुने गए है। लेकिन क्या मामला इतना आसान दिखता है। क्योंकि रोहित के पास अपने आपको साबित करना का आखिरी मौका है। रोहित के पास एक ही विकल्प है कि वो ओपनिंग में रनों का अंबार लगातर इस जगह के स्थाई हकदार बन जाएं। क्योंकि टेस्ट क्रिकेट में मिडिल आर्डर अब रहाणे और हनुमा विहारी के नाम बुक हो चुका है और अगर रोहित ओपनिंग में फेल होते है तो पीछे शुभमन गिल, अभिमन्यू इश्वरन और प्रियंक पांचाल जैसे युवाओं की फौज खड़ी है जो अपने बारी का इंतजार कर रही है। उम्मीद है हिटमैन का वनडे वाला जादू भी टेस्ट क्रिकेट में अपनी छाप छोड़ेगा और रोहित सफेद जर्सी में भारतीय क्रिकेट के लिए इतिहास रचेंगे।

- दीपक कुमार मिश्रा