जब ऐश्वर्या राय का हीरो बन गया था उनकी जिंदगी का विलेन

By रेनू तिवारी | Publish Date: Nov 1 2018 11:37AM
जब ऐश्वर्या राय का हीरो बन गया था उनकी जिंदगी का विलेन
Image Source: Google

तू सफर मेरा है.. तू ही मेरी मंज़िल, तेरे बिना गुज़ारा ऐ दिल है मुश्किल... सच ही है ये दिल लगाना बहुत ही मुश्किल हैं... चलो मान लो दिल लगा भी लिया लेकिन उसे निभाना बहुत ज्यादा है मुश्किल.. क्योंकि अगर प्यार करने वाला इंसान समझदार है तो सब ठीक है

तू सफर मेरा है.. तू ही मेरी मंज़िल, तेरे बिना गुज़ारा ऐ दिल है मुश्किल... सच ही है ये दिल लगाना बहुत ही मुश्किल हैं... चलो मान लो दिल लगा भी लिया लेकिन उसे निभाना बहुत ज्यादा है मुश्किल.. क्योंकि अगर प्यार करने वाला इंसान समझदार है तो सब ठीक है लेकिन जरा भी गड़बड़ निकला तो सच में जीना है मुश्किल.. इस फिल्म में रणबीर ने तो अपना दिल ऐश्वर्या राय से लगाने की कोशिश की लेकिन नाकामयाब रहे। क्योंकि ऐश्वर्या किसी की जरूरत नहीं ख्वाहिश बनना चाहती थी। अब आप सोच रहे होंगे की हम आपको ये सब क्यों बता रहे है, ये इस लिए क्योंकि ऐश्वर्या राय बच्चन को भी दिल लगाना बहुत भारी पड़ा था और तब से आज तक ऐश्वर्या राय बच्चन उस चीज से उबर नहीं पाई हैं। आज मिस वर्ल्ड ऐश्वर्या 45 साल की हो गई है इसलिए आज हम उनके जन्मदिन पर आपको ऐश्वर्या की जिंदगी से जुड़ी वो बात बताएंगे जिसका असर ऐश्वर्या की जिंदगा में आज भी हैं और जिस इंसान का हम बात कर रहे हैं वो है बॉलीवुड के भाईजान सलमान खान। 

 


एक समय था जब सलमान और ऐश्वर्या राय एक दूसरे से बेहद प्यार करते थे। बॉलीवुड में दोनों की जोड़ी को काफी पसंद किया जाता था। लेकिन वक्त ने किया क्या हंसी सीतम तुम रहे न तुम हम रहे न हम.... वक्त ने सलमान को ऐश्वर्या के हीरो से विलेन बना दिया। ये सब कैसे हुआ आइये जानते है- 
 


मिस वर्ल्ड का खिताब जीतने के बाद सन् 1997 में ऐश्वर्या ने बॉलीवुड में एंट्री की थी। तभी से सलमान और ऐश्वर्या के प्यार भरे रिश्ते की शुरुआत भी हुई थी। कहते है सलमान खान का अफेयर उस समय सोमी से चल रहा था सलमान सोमी को लेकर काफी सीरियस थे और शादी भी करना चाहते थे। लेकिन जब ऐश्वर्या की बॉलीवुड में एंट्री हुई तो सलमान की निगाहें ऐश्वर्या से जा टकराई तो सलमान खान को ऐश्वर्या को देखते ही पहली नजर में प्यार हो गया था। एक मैग्जीन के मुताबिक मंसूर अली की फिल्म 'जोश' को करने से सलमान ने सिर्फ इसलिए इंकार कर दिया था क्योंकि उस फिल्म में उन्हें ऐश्वर्या के भाई का किरदार निभाना था। गलियारों में ये भी कहा जाता है कि सलमान खान में ऐश्वर्या से वादा किया था की वो उनका करियर बुलंदियों पर पहुंचाएंगे। कहा तो ये भी जाता है कि सलमान खान की वजह से ही ऐश्वर्या के संजय लीली भंसाली ने फिल्म 'हम दिल दे चुके सनम'  बड़े बजट फिल्म में साइन किया था और इस फिल्म से ही ऐश्वर्या और सलमान की प्रेम कहानी की शुरूआत होती है इस समय सलमान ऐश्वर्या के हीरो बन चुके थे। 
 


 
सलमान खान और ऐश्वर्या की बढ़ती नजदीकियों की वजह से सलमान के दोस्त ऐश्वर्या को भाभी कहकर बुलाने लगे थे। धीरे-धीरे ऐश्वर्या का सलमान के परिवारवालों के साथ मेलजोल बढ़ने लगा। कहा जाता है कि ऐश्वर्या के माता-पिता को सलमान और ऐश्वर्या का रिश्ता बिल्कुल मंजूर नहीं था। उन्होंने ऐश्वर्या को सलमान से दूरी बनाने के लिए भी कहा था। ऐश्वर्या को माता-पिता की यह बात पसंद नहीं आई और वह अकेले जाकर रहने लगी थीं। 
 
सूत्रों की मानें तो एक दिन आधी रात को सलमान ऐश्वर्या के घर पहुंच गए और उनका दरवाजा जोर-जोर से पीटने लगे। सलमान ने गुस्से में आकर 19वीं मंजिल से कूदने की धमकी भी दी और सुबह करीब 3 बजे तक वो ऐश्वर्या के घर का दरवाजा पीटते रहे। लोगों का यहां तक कहना था कि दरवाजा पीटते-पीटते सलमान के हाथों से खून तक निकलने लगा था पर वह लगातार ऐसा किए जा रहे थे। सलमान के इस हंगामे की वजह ये बताई जाती है कि वह ऐश्वर्या से शादी करना चाहते थे लेकिन ऐश्वर्या कामयाबी की सीढ़ियां चढ़ रही थीं और उस वक्त शादी नहीं करना चाहती थीं। बाद में यह भी खबरें आई थी कि ऐश्वर्या के पिता ने सलमान के खिलाफ थाने में केस भी दर्ज कराया था।  
 
27 सितंबर 2002 को एक अंग्रेजी वेबसाइट को दिए इंटरव्यू में ऐश्वर्या ने कबूल किया था कि मार्च में उनका और सलमान का ब्रेकअप हो चुका है। लेकिन खुद सलमान इस बात को मानने के लिए तैयार नहीं हैं। ऐश्वर्या का यह इंटरव्यू जब वायरल हुआ तो सलमान बर्दाश्त नहीं कर सके और उन्होंने उनकी फिल्म 'चलते चलते' के सेट पर जाकर खूब हंगामा किया। विश्वदीप घोष ने अपनी बुक में लिखा है कि सलमान उस वक्त यह दावा कर रहे थे कि ऐश्वर्या का अफेयर शाहरुख खान के साथ चल रहा है। बाद में ऐश्वर्या को यह फिल्म छोड़नी पड़ी थी।
 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   



Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.

Related Story

Related Video