अगर जया महानायक की प्रेरणा है तो, रेखा का प्यार था अमिताभ की सांसे

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Oct 11 2018 10:17AM
अगर जया महानायक की प्रेरणा है तो, रेखा का प्यार था अमिताभ की सांसे
Image Source: Google

शून्य से शिखर तक खुशनुमा सफर.. लाखों दिलों की धड़कन.. कोई एंग्री यंगमैन कहता है तो कोई सदी का महानायक, कोई बिग बी तो कोई शहंशाह, उनके जितने प्रशंसक उतने ही नाम। हम बात कर रहे हैं हिंदी सिनेमा के युगपुरूष अमिताभ बच्चन की।

शून्य से शिखर तक खुशनुमा सफर.. लाखों दिलों की धड़कन.. कोई एंग्री यंगमैन कहता है तो कोई सदी का महानायक, कोई बिग बी तो कोई शहंशाह, उनके जितने प्रशंसक उतने ही नाम। हम बात कर रहे हैं हिंदी सिनेमा के युगपुरूष अमिताभ बच्चन की। भारत के सिनेमा के इतिहास में सबसे अधिक लोकप्रिय और प्रतिष्ठित हरदिल अजीज कलाकार अमिताभ बच्चन का जन्म 11 अक्टूबर को ही हुआ था। 

इलाहाबाद में 11 अक्टूबर 1942 को जन्मे अमिताभ ने 1969 में फिल्म सात हिंदुस्तानी से अपने फिल्मी करियर की शुरुआत की, लेकिन 1973 में आई फिल्म जंजीर में पुलिस इंस्पैक्टर की उनकी भूमिका ने उन्हें एंग्री यंगमैन का तमगा दिलाया और उसके बाद दीवार और शोले जैसी फिल्मों ने उन्हें एक महान अभिनेता के तौर पर गढ़ दिया। इसके बाद की कहानी अपने आप में किसी परीकथा से कम नहीं। 

लेकिन महानायक आज जिस मुकाम पर है ये सफर उनके लिए आसान नहीं था। संघर्ष, गरीबी, दर्द, बहुत सी मुश्किलें उनके रास्ते में आयी लेकिन वो हारे नहीं। इंडस्ट्री ने उनकी एक्टिंग को नकारा, आकाशवाणी ने उन्हें बाहर का दरवाजा दिखाया लेकिन बिग बी के हौसले को नहीं तोड़ सके और आज वो सदी के महानायक है। 

अमिताभ और जया की शादी



कहते है हर कामयाब आदमी के पीछे एक औरत का हाथ होता ये बात अमिताभ की जिंदगी में फिट बैठती है अमिताभ की कामयाबी के पीछे उनकी पत्नी जया का बहुत बड़ा रोल रहा है। यहां तक की कह सकते है कि अमिताभ को महानायक बनाने की जड़ है जया। अमिताभ और जया की पहली मुलाकात फिल्म गुड्डी के सेट पर हुई थी। दोनों की मुलाकात फिल्मकार ऋषिकेश मुखर्जी ने करवाई थी। इसके बाद दोनों साल 1973 में अमिताभ बच्चन और जया बच्चन एकसाथ फिल्म जंजीर में नजर आये। कहा जाता है इसी फिल्म के बाद दोनों ने शादी का फैसला किया था। खबरों के मुताबिक दोनों सितारे इस फिल्म के बाद छुट्टी मनाने के लिए विदेश जाना चाहते थे। लेकिन अमिताभ के पिता हरिवंश राय बच्चन ने साफ कह दिया कि वे अगर जया के साथ विदेश जाना चाहते हैं तो पहले उन्हें जया से शादी करनी होगी। पिता की बात मानकर अमिताभ बच्चन ने एक सादे समारोह में 3 जून 1973 को शादी कर ली।

रेखा या जया

जया ने अमिताभ को बनाया लेकिन अमिताभ की जिंदगी में एक नाम और जुड़ा वो था रेखा का। रेखा और अमिताभ की प्रेम कहानी सिनेमा इंडस्ट्री की वो लव स्टोरी है जिने कभी नहीं भुलाया जा सकता। अगर जया अमिताभ की प्रेरणा है तो रेखा का प्यार अमिताभ के लिए सांसे। कुछ त्रिशंकू रही अमिताभ की लव लाइफ। एक नजर रेखा और अमिताभ की लव लाइफ पर-  

वो पहली मुलाकात..

अमिताभ-रेखा पहली बार फिल्म ‘दो अंजाने’ में नज़र आये थे। रेखा से मुलाकात के तीन साल पहले अमिताभ जया भादुड़ी से शादी कर चुके थे और बॉलीवुड में स्टार बन चुके थे। वहीं रेखा को कोई अभिनेत्री के तौर पर गंभीरता से नहीं लेता था। फिल्म के सेट पर अमिताभ से मुलाकात के बाद रेखा का कायाकल्प हआ। अमिताभ का ऐसा जादू हुआ कि रेखा अपने काम को पहले से ज्यादा संजीदगी से लेने लगीं। फिल्म ‘दो अंजाने’ हिट होते ही बॉलीवुड को एक खूबसूरत जोड़ी मिल चुकी थी।



बेपनाह इश्क की शुरुआत 

फिल्मों की खूबसूरत जोड़ी की केमिस्ट्री अब रियल लाइफ में भी एंट्री मार चुकी थी। फिल्म ‘गंगा की सौगंध’ के सेट पर अमिताभ ने रेखा को परेशान करने वाले एक शख्स की पिटाई तक कर दी। जिससे दोनों के अफेयर की खबरें जया तक पहुंच गयीं। रेखा खुद अपने करीबियों से अपने इश्क और रिस्क का ज़िक्र करने लगी। लेकिन कोई था जो इस लव स्टोरी को नकार रहा था वो थे अमिताभ बच्चन। रेखा चाहती थी कि अमिताभ इस रिश्ते पर बात करें, लेकिन वो कभी खुलकर नहीं बोले। एक बार तो रेखा पार्टी में सिंदूर और मंगलसूत्र पहनकर पहुंच गईं। तभी दबी ज़ुबान से आवाज़ उठने लगी कि कहीं रेखा और अमिताभ ने शादी तो नहीं कर ली। 

जब रेखा की मोहब्बत दूर हुई  

रेखा और अमिताभ की बढ़ती नजदीकियों की वजह से जया बेहद परेशान रहती थीं। एक दिन अमिताभ की गैरमौजूदगी में जया ने रेखा को डिनर के लिए बुलाया। डिनर के बाद जया ने रेखा को कहा कि वह आखिरी सांस तक अमिताभ का साथ नहीं छोड़ेंगी। जिसके बाद रेखा को एहसास हुआ कि उनकी और अमिताभ की जोड़ी कभी नहीं बन सकती। 



वो आखिरी मुलाकात का ‘सिलसिला’  

फिल्म ‘सिलसिला’ में अमिताभ-जया-रेखा ने एकसाथ स्क्रीन शेयर किया। अमिताभ ने यश चोपड़ा को साफ कहा कि जब तक जया रेखा के साथ काम करने की इजाजत नहीं देगी तब तक मैं फिल्म नहीं करूंगा। फिर यश चोपड़ा ने जया को मनाने की पहल की। जिसका नतीजा हुआ कि जया ने फिल्म में खुद के भी काम करने की शर्त रख डाली। फिल्म खत्म होने के साथ ही अमिताभ-रेखा भी हमेशा के लिए जुदा हो गए।

 जब फिल्म ‘कुली' के सेट पर अमिताभ का एक्सीडेंट हुआ, तब जया बच्चन ने दिन-रात अमिताभ की सेवा की। चोट से ठीक होने को अमिताभ ने पुर्नजन्म माना और रेखा को भुलाकर जया के साथ फिर से खुशनुमा सफर शुरू करने का फैसला किया। 

 आज भी रेखा और अमिताभ किसी अवॉर्ड फंक्शन में एक-दूसरे को देख रास्ता बदल लेते हैं। लेकिन 2012 में जब अमिताभ को फिल्मफेयर में लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड मिला तो रेखा खुद को रोक नहीं पाईं। रेखा उठकर जया के पास गईं और उन्हें गले लगाते हुए अमिताभ की जीत की बधाई दी।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   



Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.