बच्चों के भविष्य की आवश्यकताओं के लिए चुनिंदा योजना में कीजिए निवेश

  •  कमलेश पांडेय
  •  नवंबर 10, 2020   15:31
  • Like
बच्चों के भविष्य की आवश्यकताओं के लिए चुनिंदा योजना में कीजिए निवेश
Image Source: Google

पीपीएफ यानी कि पब्लिक प्रॉविडेंट फंड, विभिन्न कारणों से आजकल निवेश हेतु सबसे अच्छी योजना है। यह एक 15 वर्षीय योजना है जहां आप अपने बच्चे की शिक्षा-दीक्षा के लिए एक बड़े कोष का निर्माण अल्प बचत से ही कर सकते है।

अमूमन बच्चे देश के भविष्य होते हैं। जैसे-जैसे वे बड़े होते हैं, उनकी जरूरतें बढ़ती जाती हैं। इन्हें समय-समय पर पूरा करना ही सफल माता-पिता का फर्ज बनता है। लिहाजा, किसी भी माता-पिता को उनके भावी जीवन के बारे में अच्छी तरह से योजनाएं बनानी चाहिए। उन्हें अपनी आर्थिक हैसियत के मुताबिक और प्रतिभाशाली बच्चों के लिए उससे बढ़कर भी, समयबद्ध तरीके से आगे बढ़ना चाहिए। 

इसके लिए आवश्यक है कि आप उनकी सही परवरिश, शिक्षा-दीक्षा और समृद्ध आर्थिक जीवन की प्राथमिकताओं को सिलसिलेवार ढंग से तय कीजिए। उसके लिए कुछ ऐसी आर्थिक योजनाएं बनाइए, जिससे कम लेकिन नियमित निवेश से भी उसका भावी जीवन समृद्ध और खुशहाल हो सके। इससे आपका राष्ट्र भी खुद ब खुद खुशहाल हो जाएगा।

इसे भी पढ़ें: प्रवासी श्रमिकों के लिए रोजगार योजना है Garib Kalyan Rojgar Abhiyan

इस बात में कोई दो राय नहीं कि किसी भी परिवार का भविष्य उनके बच्चों के मजबूत कंधों पर ही निर्भर करता है। शायद  इसलिए सरकार भी विशेष रूप से बाल निवेश बचत योजनाएं आदि चलाती हैं ताकि उसके माता-पिता बचत हेतु प्रोत्साहित हो सकें और वित्तीय तौर पर लाभान्वित भी हों। कभी-कभार सरकार यदि अपने उद्देश्य में पिछड़ भी जाए तो बुद्धिमान माता-पिता उपलब्ध योजनाओं में से जो सबसे अधिक फायदेमंद होता है, उसी में अपने बच्चों के खातिर निवेश करते हैं। 

ऐसा इसलिए कि ये बच्चे ही अपने-अपने घर-परिवार की अंतिम उम्मीद होते हैं। उनकी सफलता-विफलता ही परिवार की पहचान बनती है। इसलिए उनकी भावी जरूरतों के मद्देनजर किया जाने वाला कोई भी निवेश दूरदर्शिता भरा कदम होता है, क्योंकि परोक्ष रूप से इससे देश का भविष्य भी समृद्ध और सुरक्षित होता है। 

आमतौर पर कई माता-पिता अब अपने बच्चों के लिए बीमा कंपनियों, विभिन्न फंड हाउसेस द्वारा दी जाने वाली यूनिट लिंक्ड बीमा योजनाओं समेत विभिन्न बचत योजनाओं में खास रूचि लेते हैं। ऐसा इसलिए कि ये योजनाएं एक तरह की सुरक्षा देने के साथ-साथ बच्चों की उच्च शिक्षा, पेशेवर हुनर और अन्य आवश्यकताओं के लिए कुछ मददगार साबित होती हैं। 

यह बात अलग है कि इनसे मिलने वाला मुनाफा औसतन प्रायः कम ही होता है, लेकिन होता है। वास्तव में, यदि आप इन योजनाओं के अनुसार अपने बच्चे पर होने वाले खर्चों को कम करते हैं तो आम तौर पर इनमें मुनाफा भी कम होता जाता है। इसलिए आप नीचे दिए हुए कुछ बेहद लाभकारी बाल निवेश बचत योजना और अन्य लाभकारी बचत योजनाओं पर गौर फरमाइए:-

# बच्चे हेतु बड़े कोष के लिए 'पीपीएफ खाता' सबसे उपयुक्त

पीपीएफ यानी कि पब्लिक प्रॉविडेंट फंड, विभिन्न कारणों से आजकल निवेश हेतु सबसे अच्छी योजना है। यह एक 15 वर्षीय योजना है जहां आप अपने बच्चे की शिक्षा-दीक्षा के लिए एक बड़े कोष का निर्माण अल्प बचत से ही कर सकते है। इसका मुख्य आकर्षण 8.1 प्रतिशत की मौजूदा ब्याज दर है जो बैंकों द्वारा दी जाने वाली 7 प्रतिशत की ब्याज दर से अपेक्षाकृत कहीं ज्यादा हैं। यही नहीं, इसमें निवेशकों द्वारा अर्जित ब्याज पूर्ण रूप से कर मुक्त है। साथ ही, आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत इसमें निवेश करने वाले को आयकर में 1.5 लाख रुपए तक की छूट मिलती है। यही वजह है कि कुल मिलाकर यह एक बहुत ही आकर्षक निवेश योजना है जिसके माध्यम से कोई व्यक्ति अपने बच्चे के लिए कोष निर्माण कर सकता है। निःसन्देह यह एक सर्वोत्तम तरीका है जिस पर अमल करने की दरकार हर जागरूक व्यक्ति के लिए है।

इसे भी पढ़ें: जानिये क्या है स्वामित्व योजना ? इससे आपको क्या और कैसे मिलेगा फायदा ?

# लड़कियों के लिए बेहद आकर्षक है सुकन्या समृद्धि खाता

लड़कियों के बेहतर भविष्य के लिए और उनकी उच्च शिक्षा अथवा शादी की जरूरतों हेतु कोष निर्माण करने के लिए सुकन्या समृद्धि खाता को एक बेहतरीन विकल्प समझा जाता  है। क्योंकि पीपीएफ (पब्लिक प्रोविडेंट फंड) की तरह ही यह आकर्षक योजना भी 8.1 फीसदी की ब्याज दर के साथ पूर्ण रूप से कर मुक्त है। इस योजना में भी आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत कर लाभ प्रदान किया गया है। लेकिन, गौर करने योग्य बात यह है कि यह योजना केवल लड़कियों के लिए ही है। इसलिए यदि आप अपनी बेटी की शादी या उसकी उच्च शिक्षा के लिए बचत करना चाहते हैं तो इस योजना से अधिक आकर्षक विकल्प अभी बैंकिंग व्यवस्था में उपलब्ध नहीं है। अतः इसका लाभ उठाइए और अपनी बच्ची को आत्मनिर्भर बनाइए।

# गोल्ड ईटीएफ सेविंग में जोखिम कम और लाभ अधिक

यदि आप अपने बच्चे के बेहतर भविष्य के लिए सोने में निवेश करना चाहते हैं तो भौतिक सोने के माध्यम से कदापि न करें। क्योंकि इससे अच्छा विकल्प गोल्ड ईटीएफ सेविंग होगा। खास बात यह कि इसमें किसी तरह का कोई लॉकर या अन्य भंडारण शुल्क नहीं लिया जाता है। इसके अतिरिक्त, आप इलेक्ट्रॉनिक रूप में भी इसमें निवेश कर सकते हैं जहां चोरी आदि की कोई चिंता नहीं रहती है। यही नहीं, आप प्रत्येक महीने छोटी मात्रा में भी निवेश कर सकते हैं जिससे धीरे-धीरे आप एक बड़ा कोष भी जमा कर सकते हैं। आपको यह मानकर चलना होगा कि सोना लंबी अवधि में अन्य परिसंपत्ति वर्गों की तुलना में ज्यादा बेहतर लाभ देता है। आम तौर पर 10-15 साल की अवधि में सोने से बेहतर लाभ कमाया जा सकता है। हालांकि इस निवेश का एक नुकसान यह भी है कि बेचते समय आपको पूंजीगत अर्जित लाभ पर कर का भी भुगतान करना होगा, जो कि अनिवार्य है। फिर भी, यह एक संतोषजनक निवेश विकल्प समझा जाता है।

# बच्चों की शिक्षा व रोजगार के लिए अपनाएं इक्विटी म्यूचुअल फंड

अपने बच्चों की भावी जरूरतों को पूरा करने के लिए इक्विटी म्यूचुअल फंड एक और समीचीन विकल्प है, जहां पर आप अपने न्यूनतम निवेश से भी अच्छा पैसा बना सकते हैं। दरअसल, ये म्यूचुअल फंड लंबी अवधि में मिलने वाले मुनाफे के मामले में अपनी उपयोगिता पहले भी सिद्ध कर चुके हैं और आगे भी किसी को नाउम्मीद नहीं होने देंगे, ऐसी आशा है। देखा गया है कि कई इक्विटी म्युचुअल फंड बैंक में जमा राशि से प्राप्त होने वाले लाभ से कहीं अधिक मुनाफा देते हैं। इसलिए यदि आप एक लंबी अवधि के निवेशक हैं तो बेशक इनसे आपको अलग तरह का ही लाभ मिलेगा। यदि आप अपने बच्चों की शिक्षा या ऐसी अन्य योजनाओं में भी बचत करना चाहते हैं तो यह सबसे सफल और कारगर उपाय है जिसका कोई भी लाभ उठा सकता है।

# दीर्घ अवधि में लाभ के लिए अपनाएं डेब्ट म्यूचुअल फंड

आम तौर पर देखा जाता है कि कुछ ऋण म्यूचुअल फंड बैंक में जमा राशि की तुलना में ज्यादा लाभ देते हैं। इसके अलावा, ये म्यूचुअल फण्ड कर लाभ भी देते हैं जो उन्हें बैंक में जमा राशि की तुलना में आकर्षक और बेहतर विकल्प बनाता है। यह बात दीगर है कि अगर आप अपने बच्चे के लिए निवेश की योजना बना रहे हैं तो किसी भी विकल्प का सुरक्षित होना सबसे अधिक महत्वपूर्ण है। यही वजह है कि ऐसा विकल्प तभी चुनें, जब आप एक लंबी अवधि के लिए निवेश की योजना बना रहे हैं। क्योंकि इनमें बेहतर मुनाफा प्रायः एक लम्बी अवधि के बाद ही मिलता है। इसलिए इन योजनाओं में निवेश करने से पहले आपको किसी सफल पेशेवर व्यक्ति से सलाह कर लेनी चाहिए, क्योंकि ये निवेश थोड़ा जोख़िम भरा भी हो सकता है।

इसे भी पढ़ें: अटल पेंशन योजना का कैसे उठायें लाभ? आखिर कौन-कौन व्यक्ति ले सकते हैं इसका पूरा फायदा?

# अपने बैंक की जमा राशि से मत पालें अधिक उम्मीदें

अमूमन बैंक में जमा राशि आपकी किसी भी निवेश योजना का अंतिम दांव होना चाहिए, क्योंकि यह विकल्प सबसे कम ब्याज दर देता है। जैसे, यदि आप फिलवक्त इसमें निवेश करते हैं तो अगले दस वर्षों तक आपको केवल सात फीसदी की दर से ही ब्याज मिलेगा। इसके अतिरिक्त, एक बार यदि आप इसमें निवेश कर देते हैं और ब्याज दरों में वृद्धि हो जाती है तो जब भी आप बीच की अवधि में इस रकम को निकालकर दूसरी जगह जमा करेंगे जहां ब्याज दर ज्यादा है, तो इसमें आपका काफी नुकसान हो सकता है। ऐसा इसलिए कि बैंकों से पूर्व परिपक्व राशि निकालने पर भी कुछ भुगतान करना होता है। गौरतलब है कि वहां अपनी जमा राशि पर आपको कर भुगतान करना होगा और यदि आप पहले से ही कर अदा कर रहे हैं तो यह आपका कर दायित्व कम कर सकता है। इसलिए सोच-विचार के अपने आर्थिक फैसले करें।

# एक निश्चित रिटर्न्स के लिए अपनी रकम यहां करें निवेश

साफ तौर पर देखा जाए तो बच्चों के लिए सबसे बेस्ट सेविंग प्लान पीपीएफ और सुकन्या समृद्धि योजनाएं हैं। क्योंकि ये न केवल अच्छा ब्याज देते हैं बल्कि इनसे मिलने वाला मुनाफा भी कर मुक्त होता है। चूंकि सुकन्या समृद्धि योजना लड़कियों के लिए है, इसलिए आप पीपीएफ योजना के सहारे अपने लड़के के भविष्य के लिए कुछ अतिरिक्त धन जुटा सकते हैं। ऐसा यदि आप नियमित और चरणबद्ध रूप से करेंगे तो आपके बच्चों का भविष्य बेहतर होगा जिससे आपको यश मिलेगा और हर तरह के वैभव की प्राप्ति होगी। इससे आपका अभिभावक बनना भी सफल समझा जाएगा।

कमलेश पांडेय

वरिष्ठ पत्रकार व स्तम्भकार







रिटर्न दाखिल करते समय इन त्रुटियों से बचें, ताकि आपको नोटिस ना मिले

  •  जे. पी. शुक्ला
  •  नवंबर 28, 2020   17:11
  • Like
रिटर्न दाखिल करते समय इन त्रुटियों से बचें, ताकि आपको नोटिस ना मिले
Image Source: Google

80 सी, 80 डी और 24 (बी) जैसे विभिन्न वर्गों के तहत आयकर निर्धारणकर्ताओं की विभिन्न कर कटौती उपलब्ध हैं। ये कटौती निवेश या खर्च के लिए उपलब्ध हैं। इनके अलावा, कटौती और छूट की गणना करते समय विचार करने के लिए विभिन्न नियम और सीमाएं हैं।

कर नोटिस प्राप्त करना, वह भी करों का भुगतान करने और आईटीआर दाखिल करने के बाद! शायद वह आखिरी चीज होगी जो आप नहीं चाहेंगे।

पिछले कुछ वर्षों से आयकर रिटर्न (ITR) फाइलिंग पूरी तरह से ऑनलाइन प्रक्रिया बन गई है। हालाँकि, जैसा कि आपको विभिन्न विवरणों को भरना और आईटीआर दाखिल करते समय विभिन्न चरणों का पालन करना आवश्यक है, गलतियाँ करने या गलत जानकारी भरने की थोड़ी संभावना अवश्य रहती है। उदाहरण के लिए, आप पूरी तरह से गलत आईटीआर फॉर्म चुन सकते हैं, किसी आय का उल्लेख करने से चूक सकते हैं, गलत स्व-मूल्यांकन कर चालान विवरण या गलत टीडीएस (स्रोत पर कर कटौती) विवरण, कर कटौती खाता संख्या या कोई अन्य विवरण हो- ये सभी आपको एक कर नोटिस प्राप्त करने के कारण बन सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: क्रेडिट कार्ड का उपयोग चतुराई पूर्वक कीजिए, पैसे बचाइए

आइए सबसे आम गलतियों पर नज़र डालते हैं जो आप कर सकते हैं और उनसे कैसे बचा जाए।

1. गलत आईटीआर फॉर्म का चयन करना

केवल वही आईटीआर फॉर्म चुनें जो आपके लिए लागू है। सरकार ने करदाताओं के विभिन्न वर्गों के लिए अलग-अलग आईटीआर फॉर्म निर्धारित किए हैं, जो उनकी आवासीय स्थिति पर निर्भर करता है, जिसके तहत उनके आय के स्रोत आते हैं, जैसे कर योग्य आय का स्तर, किसी कंपनी में शेयर / निर्देशन या एक साझेदारी फर्म में सदस्य आदि। अक्सर करदाता इनमें से कुछ शर्तों की अनदेखी कर जाते हैं और इस तरह अनजाने में गलत फॉर्म का चयन कर लेते हैं। 

इसलिए, उपयुक्त आईटीआर फॉर्म का चयन करना बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। यदि आप गलत आईटीआर फॉर्म में अपनी रिटर्न फाइल करते हैं तो इसे अमान्य माना जाता है या बिल्कुल भी दायर नहीं माना जाता है और ऐसे मामलों में आपको कर विभाग से नोटिस मिल सकता है।

2. किसी आय का छूट जाना

दूसरी सबसे आम गलती, जो ज्यादातर कर फाइलर करते हैं, वो है कुछ निश्चित आय की अनदेखी करना। आपके नियोक्ता टैक्स काटते हैं और आपको फॉर्म 16 देते हैं। लेकिन क्या वह एकमात्र आय है जो आपने अर्जित की है? एक साधारण बचत बैंक बैलेंस से आपको ब्याज भी तो मिलता है। वह भी कर योग्य है। यद्यपि आपका निवेश छोटा है, मगर फॉर्म में यह भी घोषित किया जाना चाहिए। आपके फॉर्म 16 ने इसे कवर नहीं किया होगा। 

कभी-कभी करदाता, विशेष रूप से वेतनभोगी, मुख्य रूप से अपने नियोक्ताओं द्वारा जारी किए गए फॉर्म 16 या टीडीएस प्रमाणपत्र के आधार पर ही अपना आईटीआर दाखिल कर देते हैं। वे अनजाने में आय के अन्य स्रोतों, जैसे कि ब्याज आय को मिस कर जाते हैं। आईटीआर फॉर्म भरते समय ऐसे विवरणों को इकठ्ठा करना चाहिए और उन्हें संभाल कर रखना चाहिए। कर रिटर्न का आकलन करते समय कर विभाग मिसिंग आय को नोटिस कर सकता है और आपको एक डिमांड नोटिस भेज सकता है।

3. टैक्स क्रेडिट में बेमेल (Mismatch)

इसका मतलब यह है कि आपने अपने कर रिटर्न में जो कर क्रेडिट का दावा किया है और आयकर अधिकारियों के रिकॉर्ड में जो उपलब्ध है, उसके बीच कुछ अंतर है। बेमेल के विभिन्न कारण हो सकते हैं। जैसे कि आपने गलत जानकारी दर्ज की हो या टीडीएस कटौतीकर्ता द्वारा विभाग के पास जमा नहीं किया गया हो या आपके फॉर्म 26AS में परिलक्षित नहीं होता हो। इसलिए, कर नोटिस से बचने के लिए फॉर्म 26AS में दर्शाए गए टीडीएस के साथ अपनी आय में से काटे गए कर की जांच करें। यदि कोई बेमेल है तो अपना टैक्स रिटर्न दाखिल करने से पहले इसे ठीक अवश्य करवा लें।

4. गलत कटौती का दावा करना

80 सी, 80 डी और 24 (बी) जैसे विभिन्न वर्गों के तहत आयकर निर्धारणकर्ताओं की विभिन्न कर कटौती उपलब्ध हैं। ये कटौती निवेश या खर्च के लिए उपलब्ध हैं। इनके अलावा, कटौती और छूट की गणना करते समय विचार करने के लिए विभिन्न नियम और सीमाएं हैं। हालांकि, कई बार करदाता तकनीकी ज्ञान की कमी के कारण एक गलत खंड के तहत एक गलत राशि या कटौती का दावा पेश कर देते हैं, जिसके परिणामस्वरूप उनकी कर देयता में बदलाव आ जाता है।

इसके परिणामस्वरूप, कर नोटिस अपरिहार्य हो जाते हैं। इसलिए, कटौती का दावा करते समय कर नियमों का उचित ज्ञान होना जरूरी है। यदि आपको इस तरह की परेशानी का सामना करना पड़ रहा है तो  ऐसे  हालात में आपको कर विशेषज्ञ या चार्टर्ड एकाउंटेंट से परामर्श लेना उचित होता है।

5. टैक्स रिटर्न दाखिल नहीं करना

कर रिटर्न दाखिल ही नहीं करना, जबकि आप उस श्रेणी में आते हैं, निश्चित रूप से कर नोटिस प्राप्त करने की संभावना को बढ़ाता है। याद रखें, यदि आपकी सकल आय, मूल छूट सीमा से ऊपर है, जैसे - 60 वर्ष से कम आयु के व्यक्तियों के लिए 2.5 लाख रुपये तक, 60 से 80 वर्ष की आयु वालों के लिए 3 लाख रुपये और 80 से अधिक आयु वालों के लिए 5 लाख रुपये,  तो आप अपना टैक्स रिटर्न फाइल अवश्य करें। अन्य मापदंड भी हैं जो कर रिटर्न दाखिल करना अनिवार्य बनाते हैं।

इसे भी पढ़ें: बच्चों के भविष्य की आवश्यकताओं के लिए चुनिंदा योजना में कीजिए निवेश

इसके अलावा, आपको निश्चित तारीख से पहले अपना रिटर्न दाखिल करना चाहिए। इस साल नियत तारीख को 30  नवंबर 2020 तक के लिए बढ़ा दिया गया है। आप उसके बाद भी 31 मार्च, 2021 तक रिटर्न दाखिल कर सकते हैं, लेकिन एक पेनल्टी के साथ। मूल्यांकन वर्ष (Assessment Year) समाप्त होने के बाद, यानी 31 मार्च के बाद रिटर्न दाखिल नहीं किया जा सकता है।

जब हम गलतियाँ करते हैं तो आखिरी क्षण तक चीजों को स्थगित करने से गलतियाँ होने की संभावना को हम और भी बढ़ा देते हैं। इसलिए, हमें अपना टैक्स रिटर्न बहुत ही सावधानी, सही समय और उचित परामर्श के साथ ही फाइल करना चाहिए, जिससे किसी प्रकार के नोटिस की सम्भावना ही न रहे।

जे. पी. शुक्ला







अपनी कार चोरों से 'ऐसे' बचाएँ, जानिए कुछ आसान से टिप्स

  •  मिथिलेश कुमार सिंह
  •  नवंबर 25, 2020   20:33
  • Like
अपनी कार चोरों से 'ऐसे' बचाएँ, जानिए कुछ आसान से टिप्स
Image Source: Google

मार्केट में ऐसी तमाम डिवाइसेज हैं, जो आपकी कार को एक्स्ट्रा सिक्योर करती हैं। इनमें टायर लॉक, स्टेरिंग लॉक, गियर लॉक जैसे टूल्स आपकी काफी सहायता करते हैं। जीपीएस ट्रैकिंग सिस्टम भी इसमें काफी सहायता करता है।

क्या आपने अपनी कार की इंश्योरेंस करा रखी है और इसी भरोसे कार चोरी की संभावना के प्रति निश्चिंत हैं?

अगर ऐसा है तो आप यह बात जान लें कि कार चोरी होने के बाद प्राथमिकी दर्ज (f.i.r.) कराना और फिर इंश्योरेंस क्लेम करने का प्रोसेस काफी पेचीदा और झंझट भरा है। कई बार ऐसे भी मामले आए हैं जिसमें इस झंझट से परेशान होकर लोग उम्मीद ही खो देते हैं।

तो ऐसी स्थिति में क्यों ना पहले से ही सावधान रहा जाए, ताकि कार चोरी की संभावना से बचा जा सके। आइए जानते हैं कुछ टिप्स...

इसे भी पढ़ें: कम समय में ऐसे करें माइंड को रिलैक्स ताकि दिमाग रहे फिट

कार के अंदर ना रखें कीमती सामान 

जी हां! कई लोग कार के अंदर सीट पर ही लैपटॉप बैग, पर्स इत्यादि रख देते हैं, जो चोरों को सीधे तौर पर आकर्षित करता है। अगर आपने अपनी कार के अंदर कुछ कीमती सामान रख रखा है तो सावधान हो जाएं और आगे से ऐसा ना करें। अगर मजबूरी में कुछ सामान कार के अन्दर रखना पड़ रहा है तो उसे डिक्की में छिपा कर रखें या ऐसी जगह जहाँ वह सीधा नज़र न आये। इस प्रकार की गलती आपको भारी पड़ सकती है। अगर आपकी कार में सेंटर लॉकिंग है, उसके बावजूद इस तरह का रिस्क ना लें, क्योंकि कार का शीशा तोड़ने में किसी चोर को अधिक समय नहीं लगता है।

ऑथराइज जगह पर ही सर्विस कराएं 

क्या आपने कभी कल्पना की है कि अगर आपकी कार की चाबी का कोई क्लोन बना ले तो क्या होगा? ऐसा अक्सर होता है कि आप किसी मैकेनिक के पास जाते हैं और वहां पर अपनी कार बनने के लिए छोड़ आते हैं। कई बार ऐसा भी होता है कि वह मैकेनिक चोरों के गिरोह से मिला होता है और आपकी कार की डुप्लीकेट चाबी बनाकर उन्हें दे देता है। इसके बाद आप खुद कल्पना कर लें कि क्या हो सकता है?

ऐसे में आवश्यक है कि ऑथराइज्ड जगह पर ही सर्विस कराएं और कार ठीक कराएं। आपातकाल में अगर कभी आपको किसी लोकल मैकेनिक के पास गाड़ी ठीक कराना ही हो, तो अपनी आंखों के सामने ठीक कराएं।

लावारिस की तरह ना छोड़ें कार

जी हां! अगर आपकी कार किसी पार्किंग या ऑफिस स्पेस के बाहर खड़ी रहती है और उसे आप हफ्तों तक चलाते नहीं हैं, उसकी सफाई नहीं करते हैं, तो ऐसी कार चोरों की नजर में आसानी से आ जाती है। चोर इस बात को ताड़ लेते हैं कि उस कार पर किसी का ध्यान नहीं है। ऐसे में उनका काम आसान हो जाता है।

कार को करें एक्स्ट्रा सिक्योर

मार्केट में ऐसी तमाम डिवाइसेज हैं, जो आपकी कार को एक्स्ट्रा सिक्योर करती हैं। इनमें टायर लॉक, स्टेरिंग लॉक, गियर लॉक जैसे टूल्स आपकी काफी सहायता करते हैं। जीपीएस ट्रैकिंग सिस्टम भी इसमें काफी सहायता करता है। हालांकि अगर आप नई कार ले रहे हैं तो कोशिश करें कि उसमें आधुनिक जमाने के तमाम फीचर अवेलेबल हों, जैसे एंटी थेफ्ट, इंजन इमोबिलाइजर, सिक्योरिटी अलार्म, सेंट्रल लॉकिंग इत्यादि।

इसे भी पढ़ें: क्रेडिट कार्ड का उपयोग चतुराई पूर्वक कीजिए, पैसे बचाइए

इंश्योरेंस रिनुअल में ना करें लापरवाही 

जी हां! आप चाहे जितना एडवांस हो जाएँ, लेकिन चोर भी दिन प्रतिदिन शातिर होते जा रहे हैं। खुदा ना खास्ता, आपके साथ दुर्घटना हो ही गयी, तो तत्काल पुलिस रिपोर्ट दर्ज करें और उससे पहले अपने इंश्योरेंस को रिन्यू रखें। बेशक आप की कार पुरानी हो गई हो, किंतु लगातार रिन्यू करने से आप फिक्र से मुक्त रहते हैं। झंझट ही सही, लेकिन बुरे समय पर आपको गाड़ी की वैल्यू इंश्योरेंस कंपनी से मिल जाती है।

इसके अतिरिक्त, कई लोग बैट्री इत्यादि की सुरक्षा के लिए लोहे की अलग से ग्रिप बनवाकर मैनुअल ताले भी लगवाते हैं। हालाँकि, कई लोग इस तरह की चीजों को प्रिफर नहीं ही करते हैं।

- मिथिलेश कुमार सिंह







कम समय में ऐसे करें माइंड को रिलैक्स ताकि दिमाग रहे फिट

  •  मिथिलेश कुमार सिंह
  •  नवंबर 21, 2020   16:34
  • Like
कम समय में ऐसे करें माइंड को रिलैक्स ताकि दिमाग रहे फिट
Image Source: Google

ऑफिस में भी जब कार्य का प्रेशर बढ़ता है तो लोग चाय पीते हैं, किंतु आप दूध वाली चाय की बजाय हर्बल चाय का प्रयोग करें। हर्बल चाय-ग्रीन टी पीने से इसमें मौजूद तत्व आपके शरीर में विषाक्त पदार्थों को दूर करते हैं और आपके दिमाग को तत्काल राहत पहुंचाते हैं।

आज की भाग दौड़ भरी जिंदगी में मनुष्य का दिमाग कब उलझ जाए, पता नहीं चलता!

घर-परिवार हो, बिजनेस हो, अथवा समाज में रहने से सामने आने वाली समस्याएं हों, तमाम चीजों में दिमाग ही के सहारे तो हम चलते हैं। ऐसे में जब दिमाग ही उलझन और तनाव में रहेगा, तब अपने कार्य के परिणाम की हम सहज ही कल्पना कर सकते हैं

इसे भी पढ़ें: प्रवासी श्रमिकों के लिए रोजगार योजना है Garib Kalyan Rojgar Abhiyan

वस्तुतः दिमाग का सही निर्णय लेने के लिए रिलैक्स होना जरूरी होता है। कल्पना कीजिए, अगर आपका दिमाग ही सही निर्णय ना ले पाए तो क्या स्थिति होगी? ज़ाहिर तौर पर तमाम निर्णय गलत होंगे और गलत निर्णय से न केवल हमारी ज़िन्दगी असफल होने की ओर बढ़ेगी, वरन हमारा आत्मविश्वास भी बिखर जायेगा।  इसके अलावा आप यह भी जान लीजिए कि दिमाग जब तनाव में रहता है तो कॉर्टिसोल नामक हार्मोन (Cortisol Hormone) की उत्पत्ति होती है, जो आपके दिमाग के लिए बेहद नुकसानदायक है। तो फिर दिमाग को किस प्रकार रिलैक्स किया जा सकता है?

आइए जानते हैं कुछ तरीके...

हर्बल चाय अथवा च्युइंग गम का करें इस्तेमाल

जी हां! अक्सर जब व्यक्ति तनाव में होता है, तो चाय की चुस्कियां लेता है। तमाम लोगों को आपने देखा भी होगा।

ऑफिस में भी जब कार्य का प्रेशर बढ़ता है तो लोग चाय पीते हैं, किंतु आप दूध वाली चाय की बजाय हर्बल चाय का प्रयोग करें। हर्बल चाय-ग्रीन टी पीने से इसमें मौजूद तत्व आपके शरीर में विषाक्त पदार्थों को दूर करते हैं और आपके दिमाग को तत्काल राहत पहुंचाते हैं।

वैसे अगर आप चाय नहीं पीते हैं तो फिर आप च्यूइंग गम का प्रयोग करें। इससे आपका कॉर्टिसोल हार्मोन का लेवल निश्चित रूप से कम होगा। हालांकि इसे बहुत अधिक देर तक नहीं चबाना चाहिए और कुछ मिनटों के बाद मुंह को रिलैक्स छोड़ना चाहिए।

स्ट्रैचिंग व मसाज

जी हां! अगर आपका दिमाग तनाव में है, तो मसाज आपको तत्काल राहत पहुंचा सकता है। इसी प्रकार से स्ट्रैचिंग भी आपको मदद कर सकती है। स्ट्रैचिंग आप कुर्सी पर या फिर बेड पर भी कर सकते हैं और इससे आपकी मसल्स को काफी राहत मिलती है।

योगा 

जी हां! योगा ना केवल भारत में, बल्कि संपूर्ण विश्व में तन और मन को शांत- रिलैक्स रखने में मददगार साबित हो रहा है। अब तो तमाम कंपनियां कारपोरेट योगा के लिए विशेष ट्रेनर भी हायर कर रही हैं।

इसके लिए कोई आवश्यक नहीं है कि सुबह या शाम को ही आप योगा करें, बल्कि जब आप दिमाग को तुरंत रिस्क रिलैक्स करना चाहते हैं तो योगा का सहारा अवश्य लें। इसमें ध्यान, प्राणायाम इत्यादि पद्धतियों को शामिल कर सकते हैं

इसे भी पढ़ें: जानिये क्या है स्वामित्व योजना ? इससे आपको क्या और कैसे मिलेगा फायदा ?

एकांत में टहलें / धूप लें

जी हां! अगर आपको किसी एनवायरनमेंट से तनाव होता है, तो तत्काल पांच से 10 मिनट की वाक लें। यह वाक आप अकेले करें, तो ज्यादा बेहतर रहेगा। धूप भी इसमें आपकी काफी मदद करती है और आपके दिमाग को शांत रखती है।

जूस पीयें / डार्क चॉकलेट लें

जूस पीने से भी आपके दिमाग की तरंगें तत्काल रिलैक्स होती हैं। खासकर खट्टे फलों का, जिनमें मौसमी, संतरा, अनन्नास इत्यादि शामिल है, वह आपके दिमाग को तत्काल रिलेक्स करता है। इसी प्रकार डार्क चॉकलेट खाने से भी आपके तनावपूर्ण दिमाग में कार्टिसोल हार्मोन का लेवल कम होता है।

अपना म्यूजिक कलेक्शन सुनें

गानों की असीमित मौजूदगी में अपने लिए कुछ गाने अवश्य सेलेक्ट करें, जो आपको सुकून पहुंचाते हैं। तनाव के पलों में आंख बंद करके कुछ मिनट उन गानों को सुनने से आपका तनाव तुरंत रफूचक्कर हो जाएगा।

सच कहा जाए तो दिमाग से ही हमारा पूरा शरीर और हमारा व्यवहार नियंत्रित होता है, इसलिए दिमाग को अत्यधिक उलझन वाली परिस्थितियों में डालने से आपको अवश्य ही बचना चाहिए और उपरोक्त रिलैक्सेशन के उपायों को आजमाना चाहिए।

- मिथिलेश कुमार सिंह