किसी कंपनी के शेयर खरीदते समय इन बातों का ध्यान रखें

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: May 31 2017 4:58PM
किसी कंपनी के शेयर खरीदते समय इन बातों का ध्यान रखें

प्रभासाक्षी के लोकप्रिय कॉलम ''आर्थिक विशेषज्ञ की सलाह'' में इस सप्ताह जानिये ईपीएफ, कंपनियों के शेयर संबंधी, म्युचुअल फंड, वायदा कारोबार, इंश्योरेंस, जीएसटी और ग्रेच्युटी संबंधी पाठकों के प्रश्नों के उत्तर।

पाठकों के प्रश्नों का उत्तर दे रहे हैं द्वारिकेश शुगर इंडस्ट्रीज लिमिटेड के पूर्णकालिक निदेशक व कंपनी सचिव श्री बी.जे. माहेश्वरी जी। श्री माहेश्वरी पिछले 33 वर्षों से कंपनी कानून मामलों, कर (प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष) आदि मामलों को देखते रहे हैं। यदि आपके मन में भी आर्थिक विषयों से जुड़े प्रश्न हों तो उन्हें edit@prabhasakshi.com पर भेज सकते हैं। प्रभासाक्षी के लोकप्रिय कॉलम 'आर्थिक विशेषज्ञ की सलाह' में इस सप्ताह जानिये ईपीएफ, कंपनियों के शेयर संबंधी, म्युचुअल फंड, वायदा कारोबार, इंश्योरेंस, जीएसटी और ग्रेच्युटी संबंधी पाठकों के प्रश्नों के उत्तर।

प्रश्न-1. मैंने सुना है कि होम लोन लेने के लिए ईपीएफओ मदद करेगा। मुझे होम लोन लेना है इस संबंध में ईपीएफओ से कैसे मदद कर सकता हूँ और कितनी राशि तक मुझे लोन मिल सकता है?
 
उत्तर- आप ईपीएफ में कुल जमा राशि का 90 प्रतिशत होम लोन के लिए ले सकते हैं।
 


1. आप (प्रिसीडिन्ग) गत तीन वर्ष से ईपीएफओ के सदस्य होने चाहिए।
2. कुल जमा राशि ब्याज सहित रुपये 20,000/- या उससे ज्यादा होनी चाहिए।
3. होम लोन के लिए आप एक ही बार विड्रा कर सकते हैं।
4. ईपीएफओ लोन की रकम उस बैंक या लेंडिग एजेंसी को ही देगा जहां से आपने लोन लिया हो।



प्रश्न-2. किसी कंपनी के कम से कम कितने शेयर होने पर शेयर होल्डर्स बैठक के लिए निमंत्रण भेजा जाता है?
 
उत्तर- वह शेयर होल्डर जिसकी होल्डिंग कैपिटल की नामिनल वैल्यू की 10 प्रतिशत हो अथवा वे सदस्य जिनके पास कुल वोटिंग पावर का कम से कम 10 प्रतिशत वोटिंग पावर हो। वे बैठक में बुलाए जा सकते हैं।
 
प्रश्न-3. क्या मार्केट लिंक्ड इंश्योरेंस पॉलिसी से पार्शल विड्राल करने पर बीमित राशि कम हो जाती है?


 
उत्तर- जी हां, मार्केट लिंक्ड इंश्योरेंस पॉलिसी से पार्शल विड्राल करने पर बीमित राशि कम हो जायेगी।
 
प्रश्न-4. MCX और NCDEX में कारोबार करने के लिए क्या डीमैट अकाउंट की जरूरत होती है? या इसके लिए कोई और व्यवस्था होती है?
 
उत्तर- MCX और NCDEX में कारोबार करने के लिए डीमैट अकाउंट आपरेट करने के लिए ब्रोकर को पावर ऑफ आटॉर्नी (FOA) दे सकते हैं।
 
प्रश्न-5. किसी कंपनी के शेयर खरीदते समय किन बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए?
 
उत्तर- किसी कंपनी के शेयर खरीदते समय निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिएः-
1. सेक्टर
2. पिछला ट्रैक रिकार्ड- प्रॉफिट/डिविडंड/बोनस आदि का
3. मैनेजमेंट
4. आउटलुक फॉर फ्यूचर

प्रश्न-6. क्या सरकार की ओर से GST संबंधित कोई प्रशिक्षण कोर्स उपलब्ध कराया जा रहा है?
 
उत्तर- सरकार ने 'नैशनल अकेडमी ऑफ कस्टम्स एक्साइज एंड नॉरकोटिक्स' (NACEN) को कहा है कि वह केंद्र एवं राज्य सरकार के कर्मचारियों को जीएसटी की पूर्ण जानकारी दें।
 
प्रश्न-7. ग्रेच्युटी की गणना का आधार क्या होता है?
 
उत्तर- ग्रेच्युटी की गणना निम्न आधार पर की जाती है।
1. कर्मचारी की लगातार पांच साल की सर्विस हो।
2. गणना 15 दिन/प्रति प्रत्येक कम्पलीटेड इयर (साल) के लिए की जाती है।
3. 26 दिन से विभाजित किया जाता है।
 
प्रश्न-8. मैंने सुना है कि पेट्रोलियम पदार्थों को जीएसटी से बाहर रखा गया है तो क्या आने वाले दिनों में पेट्रोल और डीजल पर लगने वाले कर खत्म हो जाएंगे?
 
उत्तर- पेट्रोलियम पदार्थों को जीएसटी से बाहर रखा गया है। पेट्रोल, डीजल पर लगने वाले कर खत्म नहीं होंगे। वर्तमान एक्साइज और वैट लागू रहेंगे।
 
प्रश्न-9. ELSS क्या होता है और इसमें निवेश कैसे किया जा सकता है?
 
उत्तर- ELSS है 'इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम' यह म्यूचुअल फंड्स द्वारा जारी किया जाता है। सेक्शन 80 सी के अंतर्गत आप 1.50 लाख रुपए तक इंवेस्ट कर सकते हैं। आप ब्रोकर के मार्फत या किसी भी म्यूचुअल फंड में ऑनलाइन रजिस्ट्रर कर के भी निवेश कर सकते हैं।
 
प्रश्न-10. म्यूचुअल फंडों की ओर से NAV किस आधार पर तय किया जाता है?
 
उत्तर- म्यूचुअल फंड बांड/गॅवर्नमेंट सिक्योरिटीज/शेयर्स में निवेश करते हैं। इनकी मार्केट वैल्यू को जारी किये गये यूनिट्स से भाग देने पर NAV प्राप्त किया जाता है।

नोटः कर से जुड़े हर मामले चूँकि भिन्न प्रकार के होते हैं इसलिए संभव है यहाँ दी गयी जानकारी आपके मामले में सटीक नहीं हो इसलिए अपने विशेषज्ञ की सलाह भी ले लें।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप



Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.

Related Topics