नये नियमों को जानिये तभी आपको मिल पायेगी ज्यादा पेंशन

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Dec 6 2017 11:51AM
नये नियमों को जानिये तभी आपको मिल पायेगी ज्यादा पेंशन
Image Source: Google

प्रभासाक्षी के लोकप्रिय कॉलम ''आर्थिक विशेषज्ञ की सलाह'' में इस सप्ताह जानिये पेंशन के नये नियमों, पैन कार्ड, म्युचूअल फंड, आयकर, एटीएम से निकासी पर लगने वाला शुल्क तथा आधार संबंधी पाठकों के प्रश्नों के उत्तर।

पाठकों के प्रश्नों का उत्तर दे रहे हैं द्वारिकेश शुगर इंडस्ट्रीज लिमिटेड के पूर्णकालिक निदेशक व कंपनी सचिव श्री बी.जे. माहेश्वरी जी। श्री माहेश्वरी पिछले 33 वर्षों से कंपनी कानून मामलों, कर (प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष) आदि मामलों को देखते रहे हैं। यदि आपके मन में भी आर्थिक विषयों से जुड़े प्रश्न हों तो उन्हें edit@prabhasakshi.com पर भेज सकते हैं। प्रभासाक्षी के लोकप्रिय कॉलम 'आर्थिक विशेषज्ञ की सलाह' में इस सप्ताह जानिये पेंशन के नये नियमों, पैन कार्ड, म्युचूअल फंड, आयकर, एटीएम से निकासी पर लगने वाला शुल्क तथा आधार संबंधी पाठकों के प्रश्नों के उत्तर।

प्रश्न-1. केंद्र सरकार ने हाल ही में पेंशन नियमों में फेरबदल किया है मैं इसके बारे में जानना चाहता हूँ। क्या अब हमें ज्यादा पीएफ कटवाना होगा?
 
उत्तर- पेंशन नियम में किए गए परिवर्तन इस प्रकार हैंः−


 
1. जो कर्मचारी सितंबर 2014 से पहले सेवा में हैं वो पहले तय किये गये 15000/− रूपये से अधिक वेतनमान वाली कैप की बजाय वास्तविक वेतन (मूल प्लस डीए) के आधार पर पेंशन प्राप्त करने के लिए पात्र हैं।
 
2. पेंशन फंड में कम्पनी का योगदान 8.33 प्रतिशत की दर से 58 साल की उम्र के बाद 60 साल तक कर्मचारी की सहमति से जारी रहेगा। 
 


प्रश्न-2. पिछले वित्तीय वर्ष में हमारी कंपनी ने गलती से मेरे सेविंग के सभी दस्तावेजों पर ध्यान नहीं दिया जिससे मैं पूरा टैक्स लाभ लेने से वंचित रह गया। अब मुझे क्या करना चाहिए?
 
उत्तर- आप कर की संशोधित विवरणी फाइल कर सकते हैं।
 


प्रश्न-3. अब अपने ही खाते से एटीएम से 5 बार ट्रांजेक्शन करने पर चार्ज वसूला जा रहा है? ऐसे तो लोग एक ही बार सारे पैसे निकाल लेंगे और बैंकों को नुकसान उठाना पड़ेगा। क्या सरकार की इसे वापस लेने की कोई योजना है?
 
उत्तर- एसबीआई एटीएम से 8 निःशुल्क (कोई शुल्क नहीं) निकासी की अनुमति देता है (5 बार एसबीआई एटीएम से और 3 बार अन्य बैंक के एटीएम से)। इन सीमाओं या शुल्कों को वापस लेने के लिए किसी भी सरकारी योजना के बारे में हमारे पास जानकारी नहीं है।
 
प्रश्न-4. म्युचूअल फंड की ऐसी कौन-सी स्कीम है जिसमें 80सी के अंतर्गत 1.50 लाख रुपए सालाना निवेश करने पर यह पूरी रकम टैक्स फ्री हो सकती है?
 
उत्तर- आप इक्विटी लिंक्ड बचत योजना में निवेश कर सकते हैं और धारा 80 सी के तहत प्रतिवर्ष 1 लाख 50 हाजार रूपये के निवेश का फायदा उठा सकते हैं।
 
प्रश्न-5. यदि मैंने अपने बैंक खाते को आधार से लिंक नहीं कराया और खाते की जानकारी आयकर विभाग को नहीं दी तब भी क्या आयकर विभाग को मेरे खाते की पूरी जानकारी हो जायेगी?
 
उत्तर- हां, बैंक इन मामलों का विवरण आयकर विभाग को भी प्रदान कर सकता है जहां आधार बैंक खाते से जुड़ा नहीं है।
 
प्रश्न-6. पैतृक संपत्ति की बिक्री से मुझे मिलने वाले मेरे शेयर पर क्या मुझे आयकर देना होगा? मुझे इस राशि को किस प्रकार दर्शाना चाहिए?
 
उत्तर- नहीं, आपको विरासत में मिली संपत्ति पर किसी भी प्रकार से आयकर का भुगतान करने की आवश्यकता नहीं है। आप इसे विरासत में दी गई राशि के रूप में दिखा सकते हैं।
 
प्रश्न-7. मैंने कुछ अन्य जगहों से भी आय अर्जित की और इसका जो मुझे टीडीएस सर्टिफिकेट मिला है क्या उसका उल्लेख आयकर रिटर्न में करना होगा?
 
उत्तर- हां, आपको किसी भी स्त्रोत से भारत में अर्जित अपनी सभी आय का ब्योरा देना होगा।
 
प्रश्न-8. क्या आधार कार्ड में मोबाइल नंबर जुड़वाने की सुविधा ऑनलाइन उपलब्ध है?
 
उत्तर- हां, सरकार ने हाल ही में ओटीपी सुविधा का उपयोग करके इस सुविधा की अनुमति दी है।
 
प्रश्न-9. सरकार बार-बार कह रही है कि जीएसटी दरें और घटाई जाएंगी। अब किन-किन चीजों पर दरें घटाई जाएंगी?
 
उत्तर- सरकार का ध्यान उन वस्तुओं पर जीएसटी की दर को कम करने पर है, जो सामान्य उपभोग की वस्तुओं और बुनियादी जरूरतों के लिए हैं ताकि जनता के लिए कम से कम असुविधा हो।
 
प्रश्न-10. शादी के बाद क्या पैन कार्ड में भी सरनेम बदलवाना पड़ता है?
 
उत्तर- हाँ, ऐसा करना उचित होगा।
 
नोटः कर से जुड़े हर मामले चूँकि भिन्न प्रकार के होते हैं इसलिए संभव है यहाँ दी गयी जानकारी आपके मामले में सटीक नहीं हो इसलिए अपने विशेषज्ञ की सलाह भी ले लें।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   



Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.