HRA और NPS के जरिए करें लाखों रुपये की टैक्स बचत, जानिए कैसे

Tax savings
Creative Commons licenses
जे. पी. शुक्ला । Aug 23, 2022 4:35PM
राष्ट्रीय पेंशन योजना (National Pension Scheme) केंद्र सरकार द्वारा एक सामाजिक सुरक्षा पहल है। यह पेंशन कार्यक्रम सशस्त्र बलों को छोड़कर सार्वजनिक, निजी और यहां तक कि असंगठित क्षेत्रों के कर्मचारियों के लिए खुला है।

प्रत्येक निर्धारण वर्ष (Assessment Year) में कर दाखिल करने का समय वेतनभोगी व्यक्तियों के लिए चिंताओं से भरा हुआ होता है। अब चूंकि आपको इन करों के लिए पैसे खर्च करने होते हैं, इसलिए आप कर बचत विकल्पों की तलाश कर सकते हैं। एक भारतीय करदाता होने के नाते आपको अपने कर स्लैब और विभिन्न आयकर कटौती के बारे में जानना ज़रूरी होता है। 

हालांकि वेतनभोगी कर्मचारियों के लिए आयकर कटौती को अगर अच्छी तरह से समझा नहीं गया तो यह जटिल हो सकता है। ऐसे कई उपकरण हैं जो वेतनभोगी कर्मचारियों के लिए कर लाभ में मदद कर सकते  हैं और आपकी वित्तीय योजना पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकते हैं। तो आइये जानते हैं कि HRA और NPS के ज़रिये टैक्स सेविंग कैसे की जा सकती है:

इसे भी पढ़ें: उत्तरप्रदेश मातृभूमि योजना क्या है? सरकार उसमें क्या योगदान देगी?

HRA या हाउस रेंट अलाउंस क्या होता है?

एचआरए या हाउस रेंट अलाउंस (HRA) वेतनभोगी को मिलने वाला सबसे कॉमन अलाउंस होता है। जो लोग किराए पर रहते हैं वे वेतन से एचआरए के लिए कटौती का दावा करके कर बचत को अधिकतम कर सकते हैं।

यह एक ऐसी राशि है जो एक नियोक्ता अपने  कर्मचारी को रहने के लिए भुगतान किए गए किराए की भरपाई के लिए भुगतान करता है। किराए के आवास में रहने वाले वेतनभोगी कर्मचारी  संबंधित नियमों के अनुसार कर लाभ प्राप्त कर सकते हैं। जबकि आयकर अधिनियम की धारा 10(13ए) के तहत मकान किराया भत्ते के लिए कटौती की अनुमति होती है, एचआरए पूरी तरह या आंशिक रूप से कर योग्य हो सकता है। एचआरए कटौती की गणना आपके वेतन, प्राप्त एचआरए, आपके द्वारा भुगतान किए जाने वाले वास्तविक किराए और आपके रोजगार और निवास के स्थान पर निर्भर करती है। यहां तक कि स्व-व्यवसायी व्यक्ति भी एचआरए कर लाभ का दावा कर सकते हैं। 

कई वेतनभोगी या स्वरोजगार करने वाले व्यक्ति अपने माता-पिता के साथ रहते हैं। यदि आप अपने माता-पिता के साथ रहते हैं तो क्या आप इस बारे में अनिश्चित हैं कि एचआरए का दावा कैसे किया जाए? जो लोग अपने माता-पिता के साथ रहते हैं वे अपने माता-पिता को किराया दे सकते हैं और एचआरए पर टैक्स बचा सकते हैं।

अपने माता-पिता को किराया देकर एचआरए कैसे क्लेम करें?

यदि आप अपने माता-पिता के साथ रह रहे हैं तो आप अपने माता-पिता को किराए का भुगतान कर सकते हैं। यह पैसा उनके बैंक खाते में स्थानांतरित करके या चेक के माध्यम से किया जाना चाहिए। इस तरह आप अपने एचआरए कटौती का ठीक से दावा कर पाएंगे।

चूंकि किराए का भुगतान मालिकों को किया जाता है इसलिए संपत्ति का स्वामित्व आपके माता-पिता के पास ही होना चाहिए। यह आपके माता-पिता में से एक या दोनों के स्वामित्व में हो सकता है। आप संयुक्त घर के स्वामित्व के मामले में माता-पिता में से किसी एक को या घर के कानूनी मालिक माता-पिता को पैसा जमा कर सकते हैं। याद रखें कि आप इस संपत्ति के मालिक या सह-मालिक नहीं हो सकते, क्योंकि आप खुद को भुगतान किए गए किराए पर कर छूट का दावा नहीं कर सकते।

आमतौर पर नियोक्ता अपने रिकॉर्ड के लिए रेंटल एग्रीमेंट की कॉपी मांगते हैं। वे आपको एचआरए छूट देने के लिए किराए की रसीदें जमा करने के लिए कह सकते हैं। आप अपने माता-पिता के साथ एक साधारण किराया समझौता भी तैयार कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: मिशन वात्सल्य योजना क्या है? यह किस अम्ब्रेला योजना का अंग है? इससे बचपन कितना प्रोत्साहित हुआ है?

राष्ट्रीय पेंशन योजना (एनपीएस) क्या है?

राष्ट्रीय पेंशन योजना (National Pension Scheme) केंद्र सरकार द्वारा एक सामाजिक सुरक्षा पहल है। यह पेंशन कार्यक्रम सशस्त्र बलों को छोड़कर सार्वजनिक, निजी और यहां तक कि असंगठित क्षेत्रों के कर्मचारियों के लिए खुला है।

यह योजना लोगों को उनके रोजगार के दौरान नियमित अंतराल पर पेंशन खाते में निवेश करने के लिए प्रोत्साहित करती है। सेवानिवृत्ति के बाद ग्राहक कॉर्पस का एक निश्चित प्रतिशत निकाल सकते हैं। एक एनपीएस खाताधारक के रूप में आपको शेष राशि आपकी सेवानिवृत्ति के बाद मासिक पेंशन के रूप में प्राप्त होगी। इससे पहले एनपीएस योजना केवल केंद्र सरकार के कर्मचारियों को कवर करती थी। लेकिन अब पीएफआरडीए ने स्वैच्छिक आधार पर सभी भारतीय नागरिकों के लिए इसे खोल दिया है।

निजी क्षेत्र में काम करने वाले और सेवानिवृत्ति के बाद नियमित पेंशन की आवश्यकता वाले किसी भी व्यक्ति के लिए एनपीएस योजना बहुत महत्वपूर्ण होती है। यह योजना धारा 80सी और धारा 80सीसीडी के तहत कर लाभ प्रदान करती है। इसमें वेतनभोगी व्यक्तियों के लिए मूल वेतन का 10% और स्व-नियोजित व्यक्तियों के लिए कुल आय का 20% तक कटौती का दावा करने की अनुमति है। यह कटौती व्यक्ति द्वारा सीधे या नियोक्ता के माध्यम से किए गए योगदान के लिए है।

एनपीएस अपने कर लाभों के साथ आपकी कर योग्य आय को काफी कम करने में आपकी मदद कर सकता है। हालाँकि आपके लिए इसमें निवेश करने का यह एकमात्र साधन नहीं होना चाहिए।

- जे. पी. शुक्ला 

अन्य न्यूज़