Prabhasakshi
बुधवार, सितम्बर 19 2018 | समय 14:20 Hrs(IST)

फिल्म समीक्षा

पिता के अपने बच्चों के प्रति परवाह और प्यार के रिश्ते की कहानी है फन्ने खां

By रेनू तिवारी | Publish Date: Aug 3 2018 7:17PM

पिता के अपने बच्चों के प्रति परवाह और प्यार के रिश्ते की कहानी है फन्ने खां
Image Source: Google

स्टारकास्ट- अनिल कपूर, ऐश्वर्या राय बच्चन, राजकुमार राव, पीहू सैंड, दिव्या दत्ता

डायरेक्टर- अतुल मांजरेकर
मूवी टाइप- कॉमिडी,ड्रामा,म्यूज़िक
अवधि- 2 घंटा 10 मिनट
 
ऐश्वर्या राय, राजकुमारी राव और अनिल कपूर की फिल्म फन्ने खां आज पड़े पर्दे पर रिलीज हो गई। फिल्म की कास्ट को लेकर फिल्म से काफी उम्मीदें है कि ये फिल्म लोगों को पसंद आये और बॉक्स ऑफिस पर भी कुछ कमाल करें। राकेश ओम प्रकाश मेहरा के प्रोडक्शन और अतुल मांजरेकर के डायरेक्शन में बनी फन्ने खां बेल्जियन डायरेक्टर डोमिनिक डेरडेर की फिल्म एवरीबडी फेमस पर बेस्ड है। इस फिल्म में पिता और बेटी की कहानी को दिखाया गया है। इस रिश्ते पर बहुत कम हिंदी फिल्में बनी हैं। हम हिंदी सिनेमा में आदर्श मां को ही देखते आए हैं। बच्चों की लाइफ में पिता का महत्व बहुत कम दिखाया जाता है।
 
फिल्म की कहानी 
फिल्म की कहानी एक ऑटो ड्राइवर यानी अनिल कपूर पर आधारित है। वह अपने समय में सिंगर भी था। उसकी एक बेटी है, जिसका वजन ज्यादा है, लेकिन वो एक रॉकस्टार बनना चाहती है। उसके इस सपने को पूरा करने के लिए अनिल कपूर एक रॉकस्टार को किडनैप कर लेते हैं। रॉकस्टार के इस रोल को निभाया है ऐश्वर्या राय बच्चन ने। इस किडनैपिंग में अनिल कपूर का साथ दिया राजकुमार राव ने। शुरुआत में फिल्म एक खूबसूरत संदेश देती है, 'आपको हमेशा खुद पर भरोसा रखना चाहिए। जो कुछ आपके पास है, उस पर भरोसा रखे, सारा जादू आपके भीतर है।' जिंदगी बहुत खूबसूरत है और इसलिए हमें इसका पूरा अनुभव लेना चाहिए। जो भी और जैसा भी आपको जीने के लिए मिले, उसमें हमें मुस्कुराना चाहिए। फन्ने की बेटी लता, बढ़िया सिंगर के रूप में बढ़ी होती है लेकिन ओवरवेट होने के कारण स्टेज फ्रेंडली नहीं है। लता को लगता है कि उसे पिता ने उसके लिए जो सपना देखा है उसके पूरा होने का कोई चांस नहीं है क्योंकि किसी को भी यहां तक की उसकी मां (दिव्या दत्ता) को भी नहीं लगता कि वो टैलेंटेड है। उसकी आइडियल है सेक्सी सिंगर बेबी सिंह (ऐश्वर्या राय) लेकिन वह उसके जैसा बनने के बारे में सोच भी नहीं सकती। अपने सपनों को पूरा करने को लेकर उस पर दबाव डालने की वजह से पिता से नफरत करती है। साथ ही किसी से भी सपोर्ट नहीं मिलने की वजह से भी फस्ट्रेट हो जाती है। तब फन्ने अपने बेटी का भाग्य बदलने के लिए कुछ बड़ा करने का डिसाइड करता है और अपने दोस्त अधीर ( राजकुमार राव) को बेटी की मदद के लिए कहता है।
 
म्यूज़िकल ड्रामा फिल्म
कुल मिलाकर 'फन्ने खां' सितारों से भरी एक म्यूज़िकल ड्रामा फिल्म है, जिसमें सितारे अपनी आवाज का जादू बिखेरते दिखते हैं। यह फिल्म दिखाती है कि कैसे कोई पैरंट्स अपने सपनों को अपने बच्चों के जरिए सच कर दिखाना चाहता है। इस फिल्म के शो स्टॉपर साफ तौर पर अनिल कपूर हैं, जिन्होंने अपने बेहतरीन अदाकारी का परिचय दिया है और जिसके लिए आपको 'फन्ने खां' एक बार जरूर देखनी चाहिए। 
 
 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप



Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.

शेयर करें: