गली बॉय मूवी रिव्यू- 'अगर दुनिया में सब कम्फर्टेबल होते तो रैप कौन करता'

By रेनू तिवारी | Publish Date: Feb 14 2019 4:36PM
गली बॉय मूवी रिव्यू- 'अगर दुनिया में सब कम्फर्टेबल होते तो रैप कौन करता'
Image Source: Google

रणवीर सिंह के फैंस की बात अब आते है रणवीर सिंह की फिल्म गली बॉय के रिव्यू पर। कल इस गली बॉल की स्क्रिनिंग थी और इस फिल्म को देखने के बाद सोशल मीडिया पर गली बॉय ट्रेंड करने लगा।

गली बॉय मूवी रिव्यू

भाजपा को जिताए

रणवीर सिंह, आलिया भट्ट, कल्की केकलां, विजय राज़, सिद्धांत चतुर्वेदी, सुरवीन चावला

निर्देशक- जोया अख्तर 

मूवी टाइप-Drama,Biography,Musical



अवधि- 2 घंटा 36 मिनट

वेलेंटाइन डे के खास मौके पर रणवीर सिंह ने अपने फैंस को गली बॉय का बेहतरीन गिफ्ट दिया हैं। गली बॉय देखकर सिनेमाघरों से दर्शक बस ये कहते हुए मीडिया के सामने आये कि 'आपना टाइम आयेगा'। लोग रणवीर रॉक- रणवीर रॉक के नारे लगा रहे थे। सिनेमाघरों के लगभग सारे शो हाउसफुल हैं। इन सबसे ये अंदाजा लगाया जा सकता हैं कि रणवीर सिंह की गली बॉय साल की पहली सबसे बड़ी ओपनर फिल्म साबित होने वाली हैं। 

ये तो थी रणवीर सिंह के फैंस की बात अब आते है रणवीर सिंह की फिल्म गली बॉय के रिव्यू पर। कल इस गली बॉल की स्क्रिनिंग थी और इस फिल्म को देखने के बाद सोशल मीडिया पर गली बॉय ट्रेंड करने लगा। बॉलीवुड के सेलेब्स ने रणवीर सिंह की गली बॉय को जबरदस्त रिव्यू दिये हैं। सेलेब्स के अलावा फिल्म क्रिटिक्स ने भी रणवीर सिंह की गली बॉय को अच्छे रिव्यू दिये हैं और तरीफ करते हुए चार स्टार की रेटिंग भी दी हैं। अगर आप भी फिल्म देखने जा रहे तो पहले जान लीजिए फिल्म गली बॉय का रिव्यू-

फिल्म की कहानी

फिल्म की शुरूआत होती हैं मुंबई के धारावी की एक चॉल से... मुराद (रणवीर सिंह) इसी चॉल में रहने वाला गरीब लड़का हैं जो गरीबी और सामाजिक बहिष्कार से जूझ रहा हैं। मुराद एक रैपर बनना चाहता हैं। ये उसका सपना हैं। लेकिन समाज में रैपर कोल रोटी नहीं मिलती इसकील मान्यता हैं। काम करना जरूरी हैं पेट भरने के लिए... मुराद एक लड़की से प्यार करता हैं जिसका नाम सैफीना (आलिया भट्ट) हैं। मुराद (रणवीर सिंह) की जिंदगी में तब एक बेहतरीन मोड़ आता हैं जब वो एमसी शेर उर्फ श्रीकांत को कॉलेज के लड़कों के साथ रैप करता देखता है। मुराद इसके बाद श्रीकांत के साथ जुड़ जाता है और ये दोनों अपनी एक टीम बनाकर रैप करने लगते हैं। मुराद के इस काम में उसके दोस्त और उसका परिवार साथ रहता है और वह एक बहुत बड़ा रैपर बन जाता है। कहते हैं किसी चीज को जमी से आसमान तक ले जाने में बहुत मेहनत लगती हैं तो फिल्म भी उसी की कहानी हैं यानी की मुराद (रणवीर सिंह) का एक चॉल से रैपर बनने तक का पूरा संघर्ष... 



रिव्यू

बनी मेहनत के कुछ नहीं मिलता मुंबई में... इसी बात को साबित करती हैं फिल्म गली बॉय। एक लाइन में अगर गिस्ट की बात की जाए तो कह सकते हैं कि 'अगर दुनिया में सब कम्फर्टेबल होते तो रैप कौन करता?' यही इस फिल्म का जिस्ट है। कहानी मुराद की हैं तो गरीबी की मार झेल रहा होता हैं लेकिन अपने सपने तो टूटने नहीं देता। मुंबई की एक चॉल में रहने वाला लड़का कैसे मुंबई का सितारा बनता हैं ये पूरी कहानी उसी संघर्ष पर आधारित हैं। फिल्म में मुराद का यह सफर दिलचस्प है। फिल्म भारतीय ऑडियंस के हिसाब से कुछ अलग हो सकती है क्योंकि रैप अभी भी म्यूजिक का ऐसा जॉनर है जो भारत में ज्यादा प्रचलित नहीं है लेकिन फिल्म देखने के लिए यह जरूरी नहीं है कि आप भी रैप से रिलेट करें क्योंकि फिल्म में ऐक्टर्स की परफॉर्मेंस और कहानी से आप बंध जाते हैं। 

कलाकार



जैसा की रणवीर सिंह के बारे में हमेशा से कहते आये हैं कि रणवीर आने वाले बॉलीवुड के वो एक्टर होंगे जिनको बॉलीवुड कभी भूल नहीं पाएगा। राम, बाजीराव और खिलजी के बाद रणवीर सिंह ने  मुराद के किरदार को जिस बारिकियत से निभाया हैं उसे देख कर शायद ही कोई कह सकता हैं की ये किरदार कोई और कर सकता था। रणवीर सिंह किरदार में एकदम रम गये हैं। वहीं आलिया भट्ट  ने रणवीर को फिल्म में कड़ी टक्कर दी हैं आलिया भट्ट  भी अपनी जबरदस्त एक्टिंग के लिए जानी जाती हैं और इस फिल्म में भी आलिया भट्ट कहीं भी कम नहीं पड़ी। रणवीर और आलिया की क्यूट केमिस्ट्री फिल्म में दोनों किरदारों को नई ऊंचाई पर ले जाती है। अपनी पहली ही फिल्म में सिद्धांत चतुर्वेदी ने जता दिया है कि वह लंबी रेस के घोड़े हैं। फिल्म में विजय वर्मा, कल्कि केकला और विजय राज के रोल छोटे हैं लेकिन इतने जानदार हैं कि इनके बिना फिल्म पूरी नहीं हो सकती थी। 

क्यों देखें

रणवीर-आलिया के फैन हैं और उनकी बेहतरीन परफॉर्मेंस को मिस नहीं करना चाहते हों तो यह फिल्म जरूर देखें। 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   



Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.

Related Video