अधिक मात्रा में काजू का सेवन खराब कर सकता है स्वास्थ्य

अधिक मात्रा में काजू का सेवन खराब कर सकता है स्वास्थ्य

अगर आप हाईब्लड प्रेशर के मरीज है तो काजू का सेवन आपको जरा सोच समझकर करना चाहिए। दरअसल, काजू में सोडियम पाया जाता है। करीबन 100 ग्राम काजू में 12 मिलीग्राम सोडियम होता है। लेकिन कई बार ऐसा होता है कि लोग काजू को भूनने के बाद उसमें नमक डालकर खाना पसंद करते हैं।

काजू सबका मनपसंद ड्राई फ्रूट है। जिसे पूरी दुनिया में लोग अलग−अलग तरह से खाना पसंद करते हैं। कभी सब्जी की ग्रेवी के रूप में तो कभी मिठाई के रूप में तो कभी स्नैक्स के रूप तो कभी व्यंजनों में टॉपिंग के रूप में इसे खाया जाता है। वैसे तो काजू में कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं और इसलिए काजू का सेवन करना स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद माना गया है। इसके सेवन से आपको विटामिन, खनिज, एंटीऑक्सिडेंट, फ्लेवोनोइड्स आदि कई स्वस्थ पोषक तत्व प्राप्त होते हैं। लेकिन वहीं अगर आप इसका अधिक मात्रा में सेवन करते हैं या फिर कुछ खास स्वास्थ्य समस्याओं से पीडि़त लोगों को इससे दूर रहने की सलाह दी जाती है, अन्यथा इससे स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। तो चलिए जानते हैं इसके बारे में−

इसे भी पढ़ें: असुरक्षित यौन संबंधों के कारण फैलता है हर्पीस, बीमारी होने पर नजर आते हैं यह लक्षण

वजन का बढ़ना

आवश्यकता से अधिक काजू का सेवन आपका वजन बढ़ा सकता है। काजू में कैलोरी काफी अधिक मात्रा में पाई जाती है। सूखे भुने हुए काजू का सिर्फ एक औंस खाने से आपको 163 कैलोरी मिलती है। जरा सोचिए कि अगर आप अधिक मात्रा में इसका सेवन करेंगे तो आपका कैलोरी काउंट कितना अधिक बढ़ जाएगा। इस प्रकार आवश्यकता से अधिक काजू का सेवन मोटापे का कारण हो सकता है और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं जैसे उच्च कोलेस्ट्रॉल, मधुमेह, चयापचय सिड्रोम, कैंसर, स्ट्रोक, हृदय संबंधी समस्याओं आदि को जन्म दे सकता है।

उच्च रक्तचाप

अगर आप हाईब्लड प्रेशर के मरीज है तो काजू का सेवन आपको जरा सोच समझकर करना चाहिए। दरअसल, काजू में सोडियम पाया जाता है। करीबन 100 ग्राम काजू में 12 मिलीग्राम सोडियम होता है। लेकिन कई बार ऐसा होता है कि लोग काजू को भूनने के बाद उसमें नमक डालकर खाना पसंद करते हैं। ऐसा करने से उसकी सोडियम की मात्रा बढ़ जाती है। इससे आपका रक्तचाप तो बढ़ ही सकता है, साथ ही आपको अन्य हद्य संबंधी समस्याओं का भी सामना करना पड़ सकता है।

इसे भी पढ़ें: कंजक्टिवाइटिस से है बचना, तो करें यह आसान से उपाय

हो सकती है एलर्जी

आपको शायद पता न हो लेकिन आवश्यकता से अधिक काजू का सेवन एलर्जी का कारण भी बन सकता है। एक अध्ययन के अनुसार, काजू से जुड़ी एलर्जी का खतरा दिन−प्रतिदिन बढ़ रहा है। ये एलर्जी वैसे तो किसी को भी हो सकती है, लेकिन छोटे बच्चों को अधिक प्रभावित करती हैं। इसलिए काजू का सेवन सीमित मात्रा में करना ही बेहतर है।

मिताली जैन





डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।