बदलते मौसम में सर्दी-जुकाम और बुखार से बचने के लिए अपनाएँ ये आसान टिप्स

बदलते मौसम में सर्दी-जुकाम और बुखार से बचने के लिए अपनाएँ ये आसान टिप्स

मौसम में बदलाव के कारण हमारा इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है जिससे इंफेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में सर्दी-जुकाम, खांसी, गले में खराश और बुखार जैसी समस्याएँ हो सकती हैं। बदलते मौसम में बीमार होने से बचने के लिए हमें अपने खान-पान और रहन-सहन पर विशेष ध्यान देने की जरूरत होती है।

इन दिनों मौसम तेजी से करवट ले रहा है। भले ही आप दिन में पँखे या एसी के नीचे रहते हों और आपको गर्मी लगती हो लेकिन शाम होते ही ठंड बढ़ने लगी है। ऐसे में आपको अपनी सेहत के प्रति ज्यादा सचेत रहने की जरूरत है क्योंकि बदलते मौसम में जरा सी लापरवाही से आप बीमार पड़ सकते हैं। मौसम में बदलाव के कारण हमारा इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है जिससे इंफेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में सर्दी-जुकाम, खांसी, गले में खराश और बुखार जैसी समस्याएँ हो सकती हैं। बदलते मौसम में बीमार होने से बचने के लिए हमें अपने खान-पान और रहन-सहन पर विशेष ध्यान देने की जरूरत होती है। आज के इस लेख में हम आपको कुछ ऐसी टिप्स बताने जा रहे हैं जिन्हें अपनाकर आप बदलते मौसम में बीमार होने से बच सकते हैं-

इसे भी पढ़ें: इस तरह करेंगे तुलसी के पत्ते का सेवन तो होंगे ढेरों लाभ, फायदे सुनकर चौंक जाएंगे आप

खान-पान पर रखें ख्याल 

बदलते मौसम में अपने खान-पान का ध्यान रखें। बदलते मौसम में बीमार होने से बचने के लिए पौष्टिक आहार लें और पर्याप्त मात्रा में पानी पिएँ।अपनी डाइट में   मौसमी फलों और सब्जियों को शामिल करें। विटामिन सी युक्त फल जैसे संतरा, नींबू, पपीता आदि खाएँ, ये सभी फल शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ातें हैं। इन फलों के सेवन से शरीर की बीमारी से लड़ने की क्षमता बढ़ती है। 

ठंडे पदार्थों के सेवन से करें परहेज  

बदलते मौसम में ठंडे पदार्थों का सेवन सर्दी-जुखाम और वायरल बुखार का कारण बन सकता है। ठंडे पदार्थ जैसे फ्रिज का ठंडा पानी, आइसक्रीम और कोल्ड ड्रिंक का सेवन ना करें, इससे गाला खराब हो सकता है। इसके साथ ही बदलते  मौसम में तली-भुनी चीज़ें और बाजार की खाने वाली वस्तुएं जैसे पिज्जा, बर्गर, चाट आदि नहीं खाने चाहिए।

हल्दी वाले दूध से होगा फायदा  

आयुर्वेद में हल्दी को औषधीय गुणों का खजाना माना गया है। वहीं, दूध में भी प्रोटीन, कैल्शियम और विटामिन जैसे कई तरह के पोषक तत्व मौजूद होते हैं। दूध में हल्दी मिलाकर पीने से स्वास्थ्य को बहुत लाभ होता है। दरअसल, हल्दी में एंटीबायोटिक गुण मौजूद होते हैं जिससे इंफेक्शन से बचाव होता है। नियमित रूप से रात में सोने से पहले एक गिलास गुनगुने दूध में थोड़ी सी हल्दी मिलाकर पिएँ, इससे आपको सर्दी-खांसी और वायरल फ्लू जैसी बीमारियाँ छू भी नहीं पाएंगी। 

च्यवनप्राश भी है फायदेमंद 

आपकी माँ ने भी आपको बचपन में सर्दी-खाँसी से बचाने के च्यवनप्राश जरूर खिलाया होगा। दरअसल, च्यवनप्राश में कई तरह की औषधीय जड़ी-बूटियाँ मौजूद होती हैं इसलिए च्यवनप्राश का सेवन हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है। च्यवनप्राश में मौजूद जड़ी-बूटियों से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता  बढ़ती है और सर्दी-जुकाम से भी बचाव होता है।

इसे भी पढ़ें: इन 5 चीज़ों के सेवन से याद्दाश्त होती है कमजोर, आज ही बना लें इनसे दूरी

पर्याप्त कपड़े पहनें 

बदलते मौसम में दिन में हल्की गर्मी रहती है लेकिन शाम होते ही मौसम ठंडा हो जाता है। ऐसे में हम मौसम के बदलाव पर ज्यादा ध्यान नहीं देते और पर्याप्त कपड़े नहीं पहनते जिसकी वजह से हम अक्सर सर्दी-खांसी और बुखार की चपेट में आ जाते हैं। ऐसे में जरूरी है कि आप शाम को पर्याप्त कपड़े पहन कर ही घर से बाहर निकलें।   

सर्दी-जुकाम और खांसी है तो भाप लें 

अगर आप बदलते मौसम में सर्दी-खांसी और जुकाम की समस्या से परेशान हैं भाप लेना बेहद सरल और कारगर घरेलु नुस्खा है। भाप लेने से आपको सीने में जकड़न की समस्या में तुरंत आराम मिलेगा और बंद नाक भी खुलेगी। आप चाहें तो सादे पानी को उबाल कर भाप ले सकते हैं या फिर पानी में पुदीने और तुलसी की पत्तियां उबालकर भी भाप ले सकते हैं।

- प्रिया मिश्रा 





डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।