पढ़ने से स्वास्थ्य को होते हैं यह गजब के लाभ, जानें कैसे

पढ़ने से स्वास्थ्य को होते हैं यह गजब के लाभ, जानें कैसे

आज के समय में हर व्यक्ति किसी न किसी रूप में तनावग्रस्त है। लेकिन जब आप किताब पढ़ते हैं और उसमें पूरी तरह खो जाते हैं तो इससे आपका तनाव दूर हो जाता है। किताब में लिखी कहानी आपको दूसरी दुनिया में विचरण करवाती है।

बचपन में हम सभी का नाता किताबों से रहा है। लेकिन जैसे−जैसे हम बड़े होते जाते हैं, किताबें कहीं पीछे छूटती जाती है। खासतौर से, आज के टेक्नोलॉजी के युग में व्यक्ति किसी भी जानकारी को प्राप्त करने के लिए किताबों का नहीं, बल्कि इंटरनेट का रूख करता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि किताबें पढ़ने से स्वास्थ्य को गजब के लाभ प्राप्त होते हैं। तो चलिए जानते हैं इसके बारे में−

दिमागी कसरत

जिस तरह शरीर को मजबूत रखने के लिए कसरत की आवश्यकता होती है, ठीक उसी तरह मस्तिष्क को भी स्वस्थ और मजबूत बनाने के लिए व्यायाम की जरूरत पड़ती है। जब आप किताब पढ़ते हैं तो इससे आपका मस्तिष्क अधिक सक्रिय बनता है। कुछ शोधों में भी यह बात साबित हुई है कि मानसिक रूप से सक्रिय रहने पर व्यक्ति को अल्जाइमर या डिमेंशिया का खतरा कम रहता है।

इसे भी पढ़ें: कुपोषण का कारण बन सकती हैं आपकी यह गलतियां

तनाव में कमी

आज के समय में हर व्यक्ति किसी न किसी रूप में तनावग्रस्त है। लेकिन जब आप किताब पढ़ते हैं और उसमें पूरी तरह खो जाते हैं तो इससे आपका तनाव दूर हो जाता है। किताब में लिखी कहानी आपको दूसरी दुनिया में विचरण करवाती है। इससे आपका ज्ञान तो बढ़ता ही है, साथ ही रचनात्मकता व कल्पनाशीलता में भी इजाफा होता है। यह ज्ञान और कल्पनाशीलता जीवन में कई पथ पर व्यक्ति के काम आती है। वैसे कुछ शोध में भी यह बात सामने आई कि जब डिप्रेशन का शिकार एक व्यक्ति प्रतिदिन रीडिंग करता है तो इससे उसमें पॉजिटिव इंप्रूवमेंट होता है। 

बेहतर फोकस व एकाग्रता

इंटरनेट भले ही ज्ञान का महासागर हो लेकिन जब यह एक पल में व्यक्ति का ध्यान कई जगहों पर खींचता है। एक पल में आप ईमेल चेक कर रहे होते हैं तो सभी सोशल मीडिया पर पोस्ट व चैटिंग तो कभी शॉपिंग। इस तरह आप एकाग्र होकर कुछ नहीं पढ़ पाते। लेकिन जब आप किताब पढ़ते हैं तो ध्यान बंटने की संभावना कम होती है। इस तरह फोकस बेहतर होने के कारण पढ़ी गई चीजें लंबे समय तक याद रहती है और इससे व्यक्ति की एकाग्रता भी बढ़ती है।

इसे भी पढ़ें: बच्चों में बढ़ते वजन को नियंत्रित करने में काम आएंगे यह टिप्स

गुणों का विकास

किताबें पढ़ने से व्यक्ति में कई तरह के गुणों का विकास होता है। सबसे पहले तो इससे उसकी शब्दावली मजबूत होती है। वह कुछ नए व बेहतरीन शब्द प्रतिदिन सीखता है। इसके अतिरिक्त उसका उच्चारण बेहतर होता है, जिससे उसमें नया आत्मविश्वास जागता है। इतना ही नहीं, रीडिंग वास्तव में राइटिंग स्किल को भी बेहतर बनाता है। जब आप किताबों में कुछ मेंटल एक्सरसाइज करते हैं तो इससे ब्रेन काफी शार्प होता है। इस प्रकार किताबें एक व्यक्ति को बेहतर इंसान बनाने में मदद करती हैं। 

मिताली जैन





डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept