इन आसान उपायों को अपनाकर दूर करें गले की खराश

sore throat
चाय, जैसे दालचीनी चाय, अदरक तुलसी चाय, नींबू शहद चाय या बस एक कप देसी मसाला चाय आपके गले के लिए चमत्कार साबित हो सकती है। चूंकि संक्रमण के कारण गला घुट जाता है, गर्म तरल पदार्थ इस क्षेत्र को आराम करने में मदद कर सकता है।

गले में खराश, दर्द, खुजली या गले में जलन को संदर्भित करता है। गले में दर्द गले में खराश का प्राथमिक लक्षण है। जब आप भोजन और तरल पदार्थ निगलने की कोशिश करते हैं तो आपको निगलने में कठिनाई हो सकती है। ठण्ड के मौसम में अक्सर ऐसी शिकायतें देखने को मिलती हैं।

प्रकृति में संक्रामक, गले में खराश अकसर पहला संकेत होता है जो हमारे शरीर को संक्रमण का एहसास देता है। यहाँ कुछ घरेलू उपचार दिए गए हैं जिनका पालन करके आप इस मुश्किल से छुटकारा पा सकते हैं:-

इसे भी पढ़ें: दिल को रखना है स्वस्थ तो डाइट में शामिल करें यह फूड्स

गारगिल्स: गले में खराश के संक्रमण के लिए गरम पानी का गरारा इलाज का सबसे अच्छा और प्रभावी तरीका है। ऐसा इसलिए है क्योंकि नमक के साथ एक गिलास गुनगुना पानी ग्रसनी क्षेत्र में रक्त के प्रवाह को बढ़ाने में मदद करता है, जो अंततः संक्रमण को ख़त्म कर देता है। इसके अलावा, बलगम, जो अकसर ऐसे समय में सख्त हो जाता है, इससे यह ढीला हो जाएगा और शरीर से आसानी से बाहर निकल जाएगा।

गर्म तरल पदार्थ: चाय, जैसे दालचीनी चाय, अदरक तुलसी चाय, नींबू शहद चाय या बस एक कप देसी मसाला चाय आपके गले के लिए चमत्कार साबित हो सकती है। चूंकि संक्रमण के कारण गला घुट जाता है, गर्म तरल पदार्थ इस क्षेत्र को आराम करने में मदद कर सकता है।

मुलायम आहार: आपके पेट के लिए हल्का भोजन करना हमेशा सहायक होता है। क्योंकि ये आपके गले से नीचे जाते समय चोट नहीं करते हैं। सबसे अच्छे परिणामों के लिए आप सब्जियों को अच्छी तरह से पका कर और खिचड़ी या दाल के साथ मैश करके ले सकते हैं।

स्टीम: आप अपने स्टीम में कफ सप्रेसेंट डाल सकते हैं और तेजी से रिकवरी के लिए इसे ले सकते हैं। यह आपके नाक और गले को खोल देगा और आपको ठीक से सांस लेने में मदद करेगा।

शहद: शहद को चाय में मिलाकर लेना गले में खराश का एक सामान्य घरेलू उपचार है। एक अध्ययन में पाया गया है कि शहद आम खांसी दबाने वालों की तुलना में रात की खांसी को कम करने में अधिक प्रभावी होता है। शहद एक घाव भरने वाला तत्व है जो गले में खराश के लिए प्रभावी गति से मदद करता है।

इसे भी पढ़ें: जानिए सर्दी के मौसम में स्वास्थ्य के लिए कितना लाभकारी है बथुआ

पुदीना: पुदीना सांस की शुद्धिकरण के लिए जाना जाता है। पतला पेपरमिंट ऑयल स्प्रे भी गले की खराश से राहत दिला सकता है। पुदीना में मेन्थॉल होता है, जो पतले बलगम और गले में खराश और खांसी में मदद करता है। पेपरमिंट में जीवाणुरोधी और एंटीवायरल गुण होते हैं, जो गले को काफी राहत प्रदान करते हैं।

लहसुन: लहसुन में प्राकृतिक जीवाणुरोधी गुण होते हैं। इसमें एक ऑर्गेनोसल्फर कंपाउंड एलिसिन होता है, जो संक्रमण से लड़ने की क्षमता के लिए जाना जाता है। एक रिसर्च में पाया गया है कि नियमित रूप से लहसुन के पूरक लेने से सामान्य कोल्ड वायरस को रोकने में मदद मिल सकती है। अपने आहार में ताज़ा लहसुन शामिल करना भी इसके रोगाणुरोधी गुणों को प्राप्त करने का एक तरीका है। 

किस चीज़ से बचें: 

मौसम के बदलाव के साथ गले में खराश की शिकायत  एक बहुत ही आम समस्या है और हम ऐसे समय में भी अपनी रोज़मर्रा की आदतों से ही चिपके रहते हैं। धूम्रपान, कैफीन युक्त पेय जैसे कोल्ड ड्रिंक, तैलीय और तले हुए खाद्य पदार्थों का सेवन करने से बचें और उचित व्यायाम करते रहें। सार्वजनिक स्थानों पर जाने से बचें, क्योंकि संक्रमण बढ़ सकता है, क्योंकि, फ्लू के मौसम के दौरान, सर्दी, खांसी और बुखार बेहद संक्रामक होते हैं और ऐसे में स्थिति और भी खराब हो सकती है।

यदि आपका गला 5 दिनों से अधिक समय तक खराब रहता है तो आपकी गर्दन सूजने लगती है या आपके शरीर में दर्द होता है; तो ऐसे में आपको निःसंदेह चिकित्सा पर ध्यान देना चाहिए और किसी अच्छे डॉक्टर से इसका इलाज करवा लेना चाहिए।

- शैव्या शुक्ला

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

अन्य न्यूज़