स्मॉग से बचना चाहते हैं तो इन बातों का रखें खास ख्याल

  •  मिताली जैन
  •  नवंबर 20, 2020   15:51
  • Like
स्मॉग से बचना चाहते हैं तो इन बातों का रखें खास ख्याल
Image Source: Google

अपनी फिटनेस का ध्यान रखने के लिए आप वर्कआउट करते हैं। लेकिन स्मॉग से बचने के लिए आप आउटडोर वर्कआउट या फिर कार्डियो वर्कआउट करने से बचें। ऐसा करने से फेफड़ों की गहराई तक प्रदूषण जाएगा और जिससे आपको श्वसन संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

स्मॉग एक ऐसा बाहरी वायु प्रदूषण है जो गर्मी और ठंड दोनों ही मौसम में स्वास्थ्य के लिए कई समस्याएं पैदा करता है। स्मॉग स्थिर हवा की एक घनी परत है जो वायु प्रदूषण अधिक होने पर जमीनी स्तर के पास बनती है। यह घने ट्रैफिक वाले उद्योग में या उच्च उत्सर्जन वाले उद्योग के पास के क्षेत्रों में अधिक आम है। यह हानिकारक पदार्थ तब बनता है जब सूर्य की रोशनी गैसों के साथ प्रतिक्रिया करती है। कुछ लोग अन्य लोगों की तुलना में स्मॉग और वायु प्रदूषण के प्रभावों के प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं, जिनमें मौजूदा छाती, फेफड़े या दिल की शिकायतें भी शामिल हैं। स्मॉग के पहले स्वास्थ्य लक्षण गले, नाक, आंखों या फेफड़ों में जलन हो सकते हैं और श्वास प्रभावित हो सकता है। इसलिए यह जरूरी है कि आप स्मॉग से खुद को सुरक्षित रखें। तो चलिए आज हम आपको इससे बचने के कुछ आसान उपायों के बारे में बता रहे हैं−

इसे भी पढ़ें: पौष्टिकता से भरपूर दलिया का इस तरह करें सेवन, मिलेगा दोगुना फायदा

करें इनडोर वर्कआउट

हेल्थ एक्सपर्ट कहते हैं कि अपनी फिटनेस का ध्यान रखने के लिए आप वर्कआउट करते हैं। लेकिन स्मॉग से बचने के लिए आप आउटडोर वर्कआउट या फिर कार्डियो वर्कआउट करने से बचें। ऐसा करने से फेफड़ों की गहराई तक प्रदूषण जाएगा और जिससे आपको श्वसन संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

सही हो मास्क

हेल्थ एक्सपर्ट कहते हैं कि इन दिनों कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए मास्क पहनना अनिवार्य है। लेकिन अगर आप सही मास्क का चयन करते हैं तो इससे आप कोरोना के साथ−साथ स्मॉग से भी खुद को बचाव कर सकते हैं। बेहतर होगा कि आप एन95 या एन99 मास्क पहनें। इस तरह के मास्क की खासियत यह होती है कि यह करीबन 95 प्रतिशत पार्टिकल्स को फिल्टर करते हैं, जिससे आप एक स्वस्थ हवा में सांस ले पाते हैं।

रखें खुद का ख्याल

हेल्थ एक्सपर्ट के अनुसार, अगर आपके घर में कोई सदस्य सांस की बीमारी की समस्या से जूझ रहा है तो ऐसे में आप आवश्यक दवाओं, इनहेलर्स और नेबुलाइज़र के साथ एलर्जी किट को हमेशा तैयार रखें। स्मॉग से बचने के लिए खुद को सुरक्षित रखना बेहद आवश्यक है।

इसे भी पढ़ें: सावधान- ज़्यादा नमक खाना सेहत को पहुंचा सकता है नुकसान

इनडोर एयर क्वालिटी का रखें ध्यान

स्मॉग होने पर उससे बचने के लिए सिर्फ घर से बाहर निकलते हुए ही खुद की सुरक्षा का ध्यान रखना पर्याप्त नहीं है। बल्कि यह जरूरी है कि आप घर के अंदर की हवा की क्वालिटी पर भी उतना ही फोकस करें। इसके लिए आप घर पर एयर प्यूरिफायर का इस्तेमाल करें। इसके अलावा, घर की हवा को नेचुरली शुद्ध करने के लिए पौधे लगाएं। यह आपके घर ही एयर क्वालिटी को बेहतर बनाते हैं।

मिताली जैन







सर्दियों में हो गई है सूखी खांसी तो इससे निपटने के लिए अपनाएं यह उपाय

  •  मिताली जैन
  •  दिसंबर 1, 2020   16:02
  • Like
सर्दियों में हो गई है सूखी खांसी तो इससे निपटने के लिए अपनाएं यह उपाय
Image Source: Google

एक साल से अधिक उम्र के बच्चे से लेकर व्यस्क सूखी खांसी का उपचार करने के लिए शहद का इस्तेमाल कर सकते हैं। शहद में जीवाणुरोधी गुण होते हैं और यह जलन को कम करने के साथ गले को कोट करने में भी मदद कर सकता है, जिससे आपको इरिटेशन नहीं होती।

ठंड के मौसम में सूखी खांसी होना एक आम स्वास्थ्य समस्या है। यह बच्चों से लेकर बड़ों तक किसी को भी अपनी जद में ले सकती है। सूखी खांसी आपको बहुत अधिक असहज महसूस कराती है, क्योंकि यह आपके फेफड़ों या नाक मार्ग से बलगम, कफ या जलन को दूर करने में असमर्थ हैं। सर्दी या फ्लू होने के बाद सूखी खाँसी आपको हफ्तों तक जकड़ सकती है। ऐसे में इससे निपटने के लिए आप दवाई के अलावा कुछ अन्य उपाय भी अपना सकते हैं। तो चलिए आज हम आपको इन उपायों के बारे में बता रहे हैं−

इसे भी पढ़ें: सर्दियों में अस्थमा मरीजों को रहता है अटैक का खतरा, इन घरेलू उपचार से करें बचाव!

शहद

हेल्थ एक्सपर्ट बताते हैं कि एक साल से अधिक उम्र के बच्चे से लेकर व्यस्क सूखी खांसी का उपचार करने के लिए शहद का इस्तेमाल कर सकते हैं। शहद में जीवाणुरोधी गुण होते हैं और यह जलन को कम करने के साथ गले को कोट करने में भी मदद कर सकता है, जिससे आपको इरिटेशन नहीं होती। इसके सेवन के लिए आप रोजाना कई बार चम्मच से शहद ले सकते हैं, या फिर इसे चाय या गर्म पानी में मिलाकर पी सकते हैं।

हल्दी

हल्दी में पाया जाने वाले कर्क्युमिन में एंटी−वायरल, एंटी−इंफलेमेटरी, व एंटी−बैक्टीरियल प्रॉपर्टीज होती हैं। यह सिर्फ सूखी खांसी में ही लाभदायक नहीं है, बल्कि आपको अन्य भी कई हेल्थ प्रॉब्लम्स में लाभ होता है। अगर आपको सूखी खांसी की समस्या है तो आप हल्दी के साथ काली मिर्च डालकर सेवन करें। इससे आपको जल्द और बेहतर परिणाम नजर आएंगे। आप इसे अपने पेय पदार्थों में एक छोटा चम्मच हल्दी व थोड़ा सा काली मिर्च पाउडर डालकर सेवन करें। आप चाहें तो इसकी मदद से चाय भी बनाकर पी सकते हैं। हल्दी का उपयोग सदियों से आयुर्वेदिक दवाओं में श्वसन स्थितियों, ब्रोंकाइटिस और अस्थमा के इलाज के लिए किया जाता है।

इसे भी पढ़ें: फेफड़ों को नेचुरली साफ करने के लिए अपनाएं यह आसान उपाय

अदरक

सदियों से दादी−नानी सूखी खांसी होने पर अदरक के सेवन की सलाह देती हैं। अदरक में जीवाणुरोधी और एंटी−इंफलेमेंटरी प्रॉपर्टीज होती हैं। यह ना सिर्फ सूखी खांसी से आराम दिलाता है, बल्कि इम्युन सिस्टम को बूस्ट करता है और दर्द से भी राहत दिलाता है। आप इसे चाय में डालकर पी सकते हैं या फिर इसका रस निकालकर उसमें शहद डालकर पीएं।

पुदीना

सूखी खांसी होने पर पुदीने का इस्तेमाल करना भी एक अच्छा विचार है। दरअसल, पेपरमिंट में मेन्थॉल होता है, जो गले में तंत्रिका अंत को सुन्न करने में मदद करता है जो खांसी के कारण इरिटेट हो जाते हैं। यह दर्द से राहत प्रदान कर सकता है और खांसी को कम करता है। पुदीने में जीवाणुरोधी और एंटीवायरल गुण भी पाए जाते हैं। रात में खांसी को कम करने में मदद करने के लिए बिस्तर से ठीक पहले पेपरमिंट चाय पीने की कोशिश करें।

मिताली जैन







जानिए क्या है मिर्गी रोग और कैसे करें इससे बचाव

  •  मिताली जैन
  •  नवंबर 30, 2020   09:30
  • Like
जानिए क्या है मिर्गी रोग और कैसे करें इससे बचाव
Image Source: Google

मिर्गी एक क्रॉनिक डिसीज है। यह एक ऐसा विकार है, जिसमें मस्तिष्क की तंत्रिका कोशिकाओं की अवस्था बिगड़ जाती है जिससे दौरे पड़ते हैं। कभी−कभी दौरे पड़ने के बाद व्यक्ति बेहोश भी हो जाता है।

मिर्गी रोग को लेकर लोगों के मन में कई तरह की भ्रांतियां है। जो व्यक्ति इस बीमारी से पीडि़त होता है, उसे अक्सर झटके लगते हैं और हो सकता है कि वह बेहोश भी हो जाए। लेकिन आसपास के लोग इसे कुछ और ही समझ लेते हैं। कई बार लोगों के मन में व्याप्त भ्रांतियों के कारण पीडि़त व्यक्ति को सही इलाज नहीं मिल पाता और इस स्थिति में व्यक्ति की स्थिति दिन−ब−दिन बिगड़ती जाती है। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको मिर्गी रोग से जुड़ी जरूरी जानकारी दे रहे हैं−

इसे भी पढ़ें: बस अपनाएं यह टिप्स, हर छोटी से छोटी चीज रहेगी याद

क्या है मिर्गी रोग

हेल्थ एक्सपर्ट बताते हैं कि मिर्गी एक क्रॉनिक डिसीज है। यह एक ऐसा विकार है, जिसमें मस्तिष्क की तंत्रिका कोशिकाओं की अवस्था बिगड़ जाती है जिससे दौरे पड़ते हैं। कभी−कभी दौरे पड़ने के बाद व्यक्ति बेहोश भी हो जाता है। आमतौर पर मिर्गी के दौरे पड़ने के पीछे कारणों में आनुवांशिक विकार या मस्तिष्क पर आघात या स्ट्रोक आदि प्रमुख होते हैं। जब किसी व्यक्ति को मिर्गी का दौरा पड़ता है तो उसके शरीर में जकड़न होती है, उसके हाथ−पैर तिरछे हो सकते हैं। हो सकता है कि उसे मुंह से झाग भी निकले और वह बेहोश हो जाए। मिर्गी का आमतौर पर दवाओं से इलाज किया जाता है। लेकिन कभी−कभी दवाओं से इलाज नहीं हो पाता तो इस स्थिति में व्यक्ति को एपीलैप्सी सर्जरी की सलाह दी जाती है। यह एक गंभीर स्वास्थ्य समस्या है और इसे कभी भी हल्के में नहीं लिया जाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: यदि रखना है फेफड़ों को स्वस्थ, तो इन चीज़ों का ज़रूर करें सेवन

यूं करें बचाव

कहते हैं कि इलाज से बेहतर है बचाव। ऐसे में आप भी मिर्गी के विकास के जोखिम को रोकने या कम करने के लिए कुछ उपाय अपना सकते हैं। मसलन, कोशिश करें कि आपके मस्तिष्क पर किसी तरह की चोट ना लगे। इसके लिए आप हमेशा डाइव करते समय सीट बेल्ट बांधे या फिर हेलमेट पहनें ताकि आपका मस्तिष्क सुरक्षित रहे। स्वस्थ आहार खाने, व्यायाम करने और धूम्रपान छोड़ने से स्ट्रोक और हृदय रोग के जोखिम को कम करें। स्ट्रोक भी मिर्गी का एक मुख्य कारण है। इसके अलावा टीकाकरण को हमेशा समय पर करवाएं। यह आपके संक्रमण की संभावना को कम करता है जो कभी−कभी मिर्गी का कारण बन सकता है। सिस्टीसरकोसिस नामक संक्रमण से बचने के लिए अच्छे हाथ धोने और खाद्य सुरक्षा की आदतों का अभ्यास करें, जो दुनिया भर में अधिग्रहित मिर्गी का सबसे आम कारण है। गर्भावस्था के दौरान प्रसव पूर्व देखभाल करें और स्वस्थ रहें।

मिताली जैन







सर्दियों में अस्थमा मरीजों को रहता है अटैक का खतरा, इन घरेलू उपचार से करें बचाव!

  •  सिमरन सिंह
  •  नवंबर 28, 2020   15:36
  • Like
सर्दियों में अस्थमा मरीजों को रहता है अटैक का खतरा, इन घरेलू उपचार से करें बचाव!
Image Source: Google

सर्दियों में बदलते मौसम और सूखी हवा के कारण अस्थमा की समस्या बढ़ जाती है। इस दौरान शुष्क और ठंडी हवा के कारण मांसपेशियों में भी ऐंठन पैदा होने लगती है। चिकित्सकों के अनुसार सर्दियों में अस्‍थमा रोगी के सांस की नली में सूजन आ जाती है, इसलिए उन्हें सांस लेने में दिक्कत होती है।

सर्दियों की शुरुआत होते ही कई लोगों के लिए बड़ी मुसीबत खड़ी हो जाती हैं। जहां कुछ लोग सर्दी-जुकाम के शिकार हो जाते हैं तो वहीं कुछ लोगों का पुराना सा पुराना चोट का दर्द उठ जाता है। जबकि अस्थमा के रोगियों के लिए तो यह सर्दी एक आफत बन जाती है। सर्दियों में अस्थमा रोगियों के लिए अटैक का खतरा बहुत ज्यादा बढ़ जाता है। उन्हें सांस लेने में दिक्कत और खासी जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

इसे भी पढ़ें: इन कारणों को जानने के बाद ठंड के मौसम में आप भी जरूर खाएंगे पालक

सर्दियों में बदलते मौसम और सूखी हवा के कारण अस्थमा की समस्या बढ़ जाती है। इस दौरान शुष्क और ठंडी हवा के कारण मांसपेशियों में भी ऐंठन पैदा होने लगती है। चिकित्सकों के अनुसार सर्दियों में अस्‍थमा रोगी के सांस की नली में सूजन आ जाती है, इसलिए उन्हें सांस लेने में दिक्कत होती है। शोधकर्ताओं ने बताया है कि सर्दी का मौसम अस्थमा के मरीजों के लिए अच्छा नहीं होता है। इस दौरान उन्हें अस्थमा को नियंत्रण में रखने के लिए कुछ उपाय और अपना खास ख्याल रखना चाहिए। आज हम आपको अस्थमा (दमा) के प्रकार और इसके सर्दियों में बढ़ने वाली समस्या को कम करने के उपायों के बारे में बताने जा रहे हैं, आइए जानते हैं...

दो प्रकार का होता है अस्थमा

आपको बता दें कि अस्थमा या दमा 2 प्रकार के होते हैं। पहला- बाहरी अस्थमा और दूसरा- आंतरिक अस्थमा होता है। बाहरी अस्थमा होने का कारण बाहरी एलर्जी है, जैसे- पालतू जानवरों के बाल, धूल के कण और घर में जमी फफूंद आदि। वहीं, आंतरिक अस्थमा होने का कारण हमारे द्वारा ली गई घातक केमिकल तत्वों वाली सांस होती है। जैसे- स्मोकिंग का धुआं, प्रदूषण की हवा और किसी चीज के जलने का धुआं।

  

सर्दियों में अस्थमा को नियंत्रण में रखने के लिए अपनाएं यह उपाय-

बार-बार हाथ धोएं

अपने हाथों को बार-बार साबुन और पानी से जरूर धोएं। इस तरह से कीटाणुओं के फैलने की संभावना को कम किया जा सकता है। आप चाहें तो हैंड सेनिटाइजर का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। अपने घर के बच्चों और अन्य सदस्यों को भी हाथ धोने के लिए कहें, इससे घर में फैलने से बचाव हो सकेगा।

मुंह बंद रखें

अगर आप अस्थमा रोगी हैं तो आपके लिए अच्छा रहेगा कि आप अपने मुंह पर मास्क या कपड़ा लगाएं। मुंह को बंद रखना फेफड़ों के लिए काफी अच्छा रहता है। हमारी नाक में इतनी क्षमता होती है कि वो सांस लेने वाली हवा को फेफड़ों में गर्माहट दे सकती है। 

आग वाली जगह पर बैठने से बचें

भले ही आग के पास बैठकर सर्दियों में गर्माहट मिलती हो लेकिन अस्थमा रोगियों के लिए ये काफी घातक साबित हो सकती हैं। शोध में पाया गया है कि अस्थमा के रोगियों के लिए जलता हुआ तंबाकू और लकड़ी एक जैसा ही होता है। आग से आने वाले धुएं से फेफड़ों में परेशानी हो सकती है। यह अस्थमा मरीजों के लिए खतरनाक हो सकता है।

इसे भी पढ़ें: फेफड़ों को नेचुरली साफ करने के लिए अपनाएं यह आसान उपाय

घर में ही करें एक्सरसाइज

सर्दियों में बहुत कम तापमान और खूब ठंडी हवा चलना आम बात है। ऐसे में अस्थमा रोगियों के लिए घर में ही रहना सही है। अगर आप अस्थमा मरीज है और एक्सरसाइज या योग करने के लिए जिम या पार्क में जाते हैं तो आपको बता दें कि ये आपके लिए खतरनाक साबित हो सकता है। इसलिए सर्दियों में घर में ही एक्सरसाइज करें। 

अस्थमा का घरेलू उपचार 

- हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करें, आपके लिए पालक और गाजर का रस फायदेमंद रहेगा।

- अदरक, लहसुन, काली मिर्च और हल्दी को अपने आहार में जरूर शामिल करें, यह सर्दियों में अस्थमा से लड़ने में मदद करते हैं।

- आपको पुराने चावल, कुल्थी की दाल, गेहूं, जौ, मूंग और पटोल का सेवन करना चाहिए।

- गुनगुने पानी का ज्यादा से ज्यादा सेवन करें, ये सर्दियों में आपके लिए काफी फायदेमंद रहेगा।

- अस्थमा रोगियों को शहद का सेवन करना चाहिए।

इन बातों का रखें ख्याल

- बाहर का खाना न खाएं।

- धूम्रपान वाले स्थान पर न खड़े होएं।

- घर से निकलते समय मास्क या स्कार्फ जरूर लगाएं।

- सर्दियों में ज्यादा भीड़भाड़ और प्रदूषण वाले जगहों पर जाने से बचे।

- सर्दियों में संतरे, चुकंदर, नींबू, पालक और मसूर की दाल का ज्यादा सेवन करें।

- सिमरन सिंह