• तनाव के कारण पुरूषों को आ सकता है हार्ट अटैक, जानिए कैसे बचें इससे

मिताली जैन Jun 21, 2021 12:40

हेल्थ एक्सपर्ट बताते हैं कि व्यायाम आपके तनाव के स्तर को कम करने में बेहद सहायक हो सकता है। खासतौर से, बेहतर हृदय स्वास्थ्य के लिए आपको सप्ताह में चार से पांच बार 30 से 40 मिनट के लिए व्यायाम अवश्य करना चाहिए।

तनाव आज के समय में हर किसी की जिन्दगी का एक अहम् हिस्सा बन चुका है। बढ़ते काम का बोझ और अन्य जिम्मेदारियां आपके तनाव के स्तर को बढ़ा सकती हैं। हालांकि, अत्यधिक तनाव सेहत के लिए कई मायनों में हानिकारक है। यह स्वयं में तो एक समस्या है ही, साथ ही इसके कारण पुरूषों को हृदय रोग होने की संभावना भी बढ़ जाता है। यह आपके रक्तचाप को बढ़ाता है, और आपके शरीर के लिए लगातार तनाव हार्मोन के संपर्क में रहना अच्छा नहीं है। अध्ययनों के अनुसार, तनाव रक्त के थक्कों के तरीके में भी बदलाव कर सकते हैं, जिससे दिल का दौरा पड़ने की संभावना अधिक होती है। अगर तनाव को सही तरह से मैनेज ना किया जाए तो इससे व्यक्ति को हृदय रोग, उच्च रक्तचाप, सीने में दर्द, या अनियमित दिल की धड़कन होने की अधिक संभावना है। कई बार धूम्रपान, अधिक भोजन करना, या व्यायाम न करना जैसी आदतों के कारण स्थिति और भी अधिक खराब हो जाती है। तो चलिए आज हम आपको बता रहे हैं कि हार्ट अटैक की संभावना को कम करने और तनाव को सही तरह से मैनेज करने के लिए पुरूष किन−किन उपायों को अपना सकते हैं−

इसे भी पढ़ें: कोरोना के बाद शुगर लेवल को कंट्रोल करने के लिए अपनाएं यह टिप्स

करें व्यायाम 

हेल्थ एक्सपर्ट बताते हैं कि व्यायाम आपके तनाव के स्तर को कम करने में बेहद सहायक हो सकता है। खासतौर से, बेहतर हृदय स्वास्थ्य के लिए आपको सप्ताह में चार से पांच बार 30 से 40 मिनट के लिए व्यायाम अवश्य करना चाहिए। इससे आप हेल्दी वजन मेंटेन करने के साथ−साथ ब्लड प्रेशर को मैनेज करने और कोलेस्टॉल लेवल बेहतर होता हे। साथ ही साथ व्यायाम के कारण आपके शरीर में तनाव का स्तर भी कम होता है। नियमित व्यायाम से व्यक्ति को डिप्रेशन या हृदय रोग होने की संभावना भी काफी हद तक कम हो जाती है।

ढूंढे सपोर्ट सिस्टम

रिसर्च से इस बात का पता चला है कि अगर व्यक्ति के पास एक अच्छा सपोर्ट सिस्टम है, मसलन, वह किसी व्यक्ति पर विश्वास करके उससे बात कर सकता है तो ऐसे में तनाव का स्तर और हृदय रोग का जोखिम काफी हद तक कम हो जाता है। यदि आपको पहले से ही हृदय रोग है, तो यही नेटवर्क आपके दिल के दौरे के जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है। कम से कम एक व्यक्ति जिस पर आप भरोसा कर सकते हैं, आपके ऊपर से भारी बोझ हटाता है और आराम प्रदान करता है। एक मजबूत सपोर्ट सिस्टम आपको अपना बेहतर ख्याल रखने में भी मदद करता है। शोध से पता चलता है कि सोशल सपोर्ट की कमी से धूम्रपान, उच्च वसा वाले आहार खाने और बहुत अधिक शराब पीने जैसे अस्वास्थ्यकर व्यवहार में शामिल होने की संभावना बढ़ जाती है।

इसे भी पढ़ें: ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के लिए इन टिप्स का लें सहारा

यूं करें तनाव का इलाज 

यदि आप पहले से ही हृदय रोग से पीडि़त हैं, तो अवसाद और चिंता आपके हृदय रोग से मरने के जोखिम को बढ़ा सकते हैं। शोध बताते हैं कि लंबे समय तक चिंता या भावनात्मक तनाव अचानक हृदय की मृत्यु के जोखिम को बढ़ा सकता है। अपनी चिंता के स्तर को कम करने के लिए, योग, ध्यान,या अन्य तरीकों जैसे तनाव को कम करने वाली गतिविधियों का प्रयास करें। अपने डॉक्टर से बात करें और उन दवाओं के बारे में पूछें जो मदद कर सकती हैं।

काम से तनाव करें कम

कई अध्ययनों से पता चलता है कि इन दिनों डिमांडिंग जॉब भले ही आपको अच्छी सैलरी या अवसर प्रदान करती हों, लेकिन यह आपको बहुत अधिक तनावग्रस्त भी कर देती हैं, जिससे हृदय रोग या हार्ट अटैक की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए अपने काम के तनाव को कम करने का प्रयास करें। कुछ ऐसा करें जो आरामदेह हो और जिसमें आपको आनंद आए। यह पढ़ना, चलना या गहरी सांस लेना हो सकता है। एक काउंसलर भी आपके काम से संबंधित तनाव को कम करने में आपकी मदद करने के लिए आपको कुछ उपाय सुझा सकता है।

मिताली जैन