डॉक्टर की सलाह के बिना न लें गर्भपात की गोलियां, होंगे यह बड़े नुकसान

know-about-the-side-effects-of-abortion-pills-in-hindi
मिताली जैन । Jul 30, 2019 7:00PM
गर्भपात की गोली लेने का अर्थ यह कतई नहीं है कि पूरी तरह गर्भपात हो जाए। कई बार ऐसा भी होता है कि गर्भपात की गोली लेने के बाद भ्रूण पूरी तरह शरीर बाहर नहीं आ पाता। इस स्थिति में सर्जरी ही एकमात्र उपाय बचता है।

मां बनना यकीनन एक स्त्री के लिए दुनिया की सबसे बड़ी खुशी है, लेकिन यह खुशी गम में तब तब्दील हो जाता है, जब स्त्री का गर्भधारण उसके मनमुताबिक न हो। आज के समय में हर स्त्री अपनी फैमिली को प्लान करके ही आगे बढ़ाना चाहती हैं और अनचाहा गर्भ सिर्फ और सिर्फ उसे परेशान ही करता है। कई बार स्त्री गर्भपात करवाने के डरती है और इसलिए केमिस्ट की दुकान पर जाकर गर्भपात की गोली ले लेती है। अगर आप भी ऐसा करने वाली हैं तो जरा ठहरिए। खुद से गर्भपात की गोलियां लेना आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है। तो चलिए जानते हैं इसके बारे में−

इसे भी पढ़ें: जरूरत से ज्यादा काजू का सेवन खड़ी कर सकता है यह परेशानियां

सही तरह से गर्भपात नहीं

गर्भपात की गोली लेने का अर्थ यह कतई नहीं है कि पूरी तरह गर्भपात हो जाए। कई बार ऐसा भी होता है कि गर्भपात की गोली लेने के बाद भ्रूण पूरी तरह शरीर बाहर नहीं आ पाता। इस स्थिति में सर्जरी ही एकमात्र उपाय बचता है। गर्भपात की गोली लेने का भी एक समय होता है, अगर आपकी प्रेग्नेंसी का वक्त उससे अधिक है तो गर्भपात की गोली लेने से भ्रूण भीतर ही रह जाता है और फिर आपको गंभीर समस्या हो जाती है। कई बार तो गर्भावस्था का अधिक समय होने पर अबार्शन पिल्स लेने से महिला की जान को भी खतरा हो जाता है।


अत्यधिक ब्लीडिंग

गर्भपात की गोली का एक सबसे बड़ा नुकसान यह होता है कि गोली लेने के बाद भ्रूण गर्भाशय से अलग होकर बाहर आने लगता है। जिसके कारण महिला को बहुत दिनों तक ब्लीडिंग होती है और इसे मैनेज करना महिला के लिए काफी मुश्किल हो जाता है। इतना ही नहीं, यह ब्लीडिंग एक दिन में नहीं रूकती। आपको कुछ दिनों से लेकर हफ्तों तक यह ब्लीडिंग हो सकती है। 

इसे भी पढ़ें: आयरन की कमी को दूर करने के लिए डाइट में शामिल करें यह चीजें

पेट में दर्द

गर्भपात की गोलियां लेने के बाद हैवी ब्लीडिंग शुरू हो जाती है, जिसके कारण महिला को काफी कमजोरी आ जाती है। कई बार तो स्त्री को चक्कर आते हैं और वह बेहोश भी हो सकती है। चक्कर आने के साथ महिला को सिरदर्द की भी शिकायत होती है। ऐसे में डॉक्टर से संपर्क करना बेहद आवश्यक हो जाता है। इतना ही नहीं, इन गोलियों को खाने से पेट में दर्द और ऐंठन होता है। 

इसे भी पढ़ें: जानें क्या होते हैं नेगेटिव कैलोरी फूड और किस तरह करते हैं वजन कम?

पेट में मरोड़

अबॉर्शन वाली गोलियां लेने से कुछ स्त्रियों को जी मचलाने की शिकायत होती है। इतना ही नहीं, हैवी ब्लीडिंग होने से महिला को पेट में मरोड़ होने लगते हैं, जिससे उसे बार−बार दस्त भी लगते हैं। इसलिए कभी भी खुद से गर्भपात गोली लेने की गलती न करें।

कमजोरी 

गर्भपात की गोली लेने के बाद हैवी ब्लीडिंग से महिला के शरीर में कमजोरी आ जाती है और यह कमजोरी लम्बे वक्त तक रहती है। इन दवाओं का एक सबसे बड़ा नुकसान यह होता है कि गलत तरीके से यह दवा लेने पर महिला को दोबारा गर्भधारण करने में समस्या होती है।

मिताली जैन

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

अन्य न्यूज़