महिलाओं में सफेद पानी की समस्या से छुटकारा पाने के लिए इन उपायों का लें सहारा

महिलाओं में सफेद पानी की समस्या से छुटकारा पाने के लिए इन उपायों का लें सहारा

स्त्री रोग विशेषज्ञ बताती हैं कि अधिकतर मामलों में सफेद पानी की समस्या को एक बीमारी या समस्या के रूप में देखा जाता है। जबकि ऐसा नहीं है। यह ज़रूरी नहीं है कि योनि से रिसाव की मूल वजह कोई बीमारी ही हो।

महिलाओं में सफेद पानी की समस्या बेहद आम है।योनि और गर्भाशय ग्रीवा के अंदर ग्रंथियों द्वारा बनाया गया द्रव मृत कोशिकाओं और जीवाणुओं को बाहर निकालता है। यह योनि को साफ रखता है और संक्रमण को रोकने में मदद करता है। अधिकांश समय, योनि स्राव पूरी तरह से सामान्य है। यह आपके मासिक धर्म के समय के आधार पर गंध और रंग ले सकता है। उदाहरण के लिए, जब आप Çडबोत्सर्जन, स्तनपान करा रही हों, या यौन रूप से उत्तेजित हों तो अधिक स्त्राव होगा। गर्भवती होने पर यह अलग तरह की गंध ले सकती है। हालांकि अगर रंग, गंध, या स्थिरता सामान्य से काफी अलग लगती है, खासकर अगर आपको योनि में खुजली या जलन हो रही है, तो यह संक्रमण का संकेत हो सकता है। तो चलिए आज इस लेख में हम महिलाओं में वेजाइनल डिस्चार्ज के कारण और उससे निपटने के कारणों के बारे में बता रहे हैं− 

इसे भी पढ़ें: इन 5 आदतों को हमेशा के लिए अपना लें दोबारा नहीं होगी किडनी की पथरी 

जानिए कारण

स्त्री रोग विशेषज्ञ बताती हैं कि अधिकतर मामलों में सफेद पानी की समस्या को एक बीमारी या समस्या के रूप में देखा जाता है। जबकि ऐसा नहीं है। यह ज़रूरी नहीं है कि योनि से रिसाव की मूल वजह कोई बीमारी ही हो। माहवारी होने, संभोग करने और दवा या पानी की धार से सफ़ाई करने से भी ऐसा हो सकता है। इसके अलावा कभी−कभी इसके लिए कुछ संक्रमण भी जिम्मेदार हो सकते हैं, जैसे− बैक्टीरियल वेजिनोसिस और योनि खमीर संक्रमण आदि। हालांकि संक्रमण होने पर योनि स्त्राव के साथ−साथ खुजली, जलन या दर्द का अहसास भी होता है। 

इसे भी पढ़ें: सर्वाइकल होने पर नजर आते हैं यह लक्षण, इन एक्सरसाइज की मदद से मिलेगा लाभ 

यूं करें उपचार

अगर आप चाहती हैं कि योनि स्त्राव का कारण योनि संक्रमण ना हो तो इससे बचाव के लिए आप कुछ आसान टिप्स अपना सकती हैं। जैसे− वजाइना के बाहरी क्षेत्र में माइल्ड सोप व गुनगुने पानी से सफाई करें। इसके अलावा योनि क्षेत्र में कभी भी सुगंधित साबुन व फेमिनिन प्रॉडक्ट का इस्तेमाल ना करें। बाथरूम में जाने के बाद, बैक्टीरिया को योनि में जाने से रोकने और संक्रमण का कारण बनने से रोकने के लिए हमेशा आगे से पीछे की ओर पोंछें। इतना ही नहीं, हमेशा कॉटन अंडरवियर ही पहनें। टाइट अंडरगारमेंट्स पहनने से बचें। इसके अलावा, सुरक्षित संभोग करें और एसटीआई से बचने के लिए सुरक्षा का उपयोग करें।

- मिताली जैन





डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।