जानिए घर पर ऑक्सीजन लेवल को मेंटेन रखने के लिए किन तरीकों का लें सहारा

जानिए घर पर ऑक्सीजन लेवल को मेंटेन रखने के लिए किन तरीकों का लें सहारा

घर पर रहते हुए मरीजों के लिए शरीर में ऑक्सीजन लेवल को बढ़ाने का सबसे बेहतरीन उपाय है प्रोनिंग। इसकी सलाह स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी दी है। अगर आपका ऑक्सीजन सैचुरेशन लेवल 92−93 प्रतिशत है तो इस उपाय को अपनाने से आपको तुरंत लाभ होगा।

कोरोना वायरस की दूसरी लहर का सबसे गहरा और विपरीत असर मरीजों की सांसों पर पड़ा है। पूरे देश में कोरोना मरीजों के शरीर में ऑक्सीजन की कमी देखी जा रही है, जिसके कारण ना केवल ऑक्सीजन सिलेंडर की कमी हो रही है, बल्कि बहुत से लोगों को अपनी जान से भी हाथ धोना पड़ रहा है। हालांकि, ऑक्सीजन सैचुरेशन लेवल के थोड़ा कम होने पर पैनिक होने की जरूरत नहीं होती है। इस स्थिति में अगर मरीज चाहे तो खुद घर पर भी कुछ तरीकों को अपनाकर अपने ऑक्सीजन लेवल को मेंटेंन कर सकते हैं−

इसे भी पढ़ें: कोरोना वैक्सीन से डरे नहीं, जानिए इससे संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी

प्रोनिंग का लें सहारा

घर पर रहते हुए मरीजों के लिए शरीर में ऑक्सीजन लेवल को बढ़ाने का सबसे बेहतरीन उपाय है प्रोनिंग। इसकी सलाह स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी दी है। अगर आपका ऑक्सीजन सैचुरेशन लेवल 92−93 प्रतिशत है तो इस उपाय को अपनाने से आपको तुरंत लाभ होगा। इसके लिए आप पेट के बल लेट जाएं और एक तकिया गर्दन के नीचे सामने से रखें, दो तकिए चेस्ट और पेट के नीचे रखें और दो तकिए पैरों के नीचे रखें। अब आप आराम से लेटकर लंबी सांस लें। आप अपनी क्षमता के अनुसार इसे पांच मिनट से लेकर आधे घंटे तक कर सकते हैं।

सामान्य अवस्था में करें व्यायाम

एक्सपर्ट कहते हैं कि अगर आप कोविड पॉजिटिव नहीं है या फिर आपको पर्यावरण से ऑक्सीजन प्राप्त करने में समस्या नहीं हो रही हैं, तो आप कुछ ब्रीदिंग एक्सरसाइज के जरिए भी अपने शरीर में ऑक्सीजन लेवल को बढ़ा सकते हैं। इसके लिए आप डीप ब्रीदिंग से लेकर अनुलोम−विलोम, ओम् चैटिंग जैसे प्राणायाम कर सकते हैं। इससे शरीर में ऑक्सीजन का स्तर तो बढ़ेगा ही, साथ ही इस नकारात्मक माहौल में तनाव से भी मुक्ति मिलेगी।

इसे भी पढ़ें: जानिए कब और कैसे कोरोना पीड़ित व्यक्ति को पड़ती है ऑक्सीजन की जरूरत

नेबुलाइजर नहीं आएगा काम

कोरोना काल में ऐसा माना जा रहा है कि नेबुलाइजर की मदद से भी शरीर में ऑक्सीजन का लेवल बढ़ाया जा सकता है। लेकिन हेल्थ एक्सपर्ट बताते हैं कि यह वास्तव में एक मशीन है, जिसकी मदद से शरीर के लंग्स में दवा को भेजा जाता है। यह कुछ ऐसे ही है, जिस तरह इंजेक्शन लेने के लिए सीरिंज का इस्तेमाल किया जाता है। नेबुलाइजर की मदद से लंग्स में दवा बहुत ही तेजी से पहुंचती है। यह आपके शरीर के ऑक्सीजन लेवल से नहीं जुड़ा है। इसलिए नेबुलाइजर की मदद से शरीर में ऑक्सीजन लेवल बढ़ाने का बेकार प्रयास ना करें।

मिताली जैन





डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।