गर्भावस्था में यूं करें अपनी देखभाल, बच्चा होगा हेल्दी

गर्भावस्था में यूं करें अपनी देखभाल, बच्चा होगा हेल्दी

गर्भावस्था में स्त्री की पोषण संबंधी जरूरतें काफी बढ़ जाती हैं और उसे सिर्फ खाने के जरिए पूरा नहीं किया जा सकता। इसलिए डॉक्टर की सलाह पर आप फोलिक एसिड व विटामिन डी का सप्लीमेंट भी लेना शुरू करें।

जब एक स्त्री गर्भवती होती है तो उसकी जिम्मेदारी कई गुना बढ़ जाती है। दरअसल, उसकी कोख में एक नन्हीं जान पलती है और इसलिए गर्भावस्था में स्त्री के लिए खुद की व अपने होने वाले बच्चे की अतिरिक्त देखभाल करनी होती है। एक स्त्री को गर्भावस्था में अपने खाने−पीने से लेकर आराम करने जैसी छोटी−छोटी बातों पर ध्यान देना होता है। अगर एक स्त्री गर्भावस्था में अपना पूरा ख्याल रखती है तो इससे उसका होने वाला शिशु भी हेल्दी होता है। तो चलिए आज हम आपको ऐसे कुछ टिप्स बता रहे हैं, जिसकी मदद से आप गर्भावस्था में अपना ख्याल रख सकती हैं−

इसे भी पढ़ें: इन नेचुरल तरीकों को अपनाकर करें स्टेमिना बूस्ट अप

खाने का ख्याल

गर्भावस्था में महिला को अपने खानपान पर विशेष ध्यान देना चाहिए। आपको दिन में कम से कम पांच बार अवश्य खाना चाहिए। जिसमें आपको मौसमी फल व सब्जियों के साथ−साथ अंडे, बीन्स, नट्स, दालें, डेयरी प्रॉडक्ट्स व सोया प्रॉडक्ट्स आदि को भी अपनी डाइट में जगह देनी चाहिए। इसके अलावा आपको खुद को हाइड्रेट भी रखना चाहिए। इसके लिए आप पानी के साथ−साथ नींबू पानी, नारियल पानी, छाछ, ताजा फलों का रस, सूप आदि पी सकती हैं। हेल्दी फूड ही हेल्दी बेबी होने की पहली शर्त है। हालांकि हेल्दी फूड खाने के साथ−साथ आप फूड हाईजीन का भी पूरा ध्यान रखें।


जरूरी है सप्लीमेंट

गर्भावस्था में स्त्री की पोषण संबंधी जरूरतें काफी बढ़ जाती हैं और उसे सिर्फ खाने के जरिए पूरा नहीं किया जा सकता। इसलिए डॉक्टर की सलाह पर आप फोलिक एसिड व विटामिन डी का सप्लीमेंट भी लेना शुरू करें। फोलिक एसिड लेने से आपके बच्चे का स्पाइनल बिफिडा जैसे न्यूरल ट्यूब डिफेक्ट विकसित होने का खतरा कम हो जाता है। वहीं, विटामिन डी बच्चे के कंकाल और बोन हेल्थ के लिए बेहद महत्वपूर्ण है।


व्यायाम को ना करें नजरअंदाज

कुछ महिलाएं गर्भावस्था में सिर्फ आराम करना ही पसंद करती हैं। आपको यह समझना चाहिए कि आप गर्भवती हैं, बीमार नहीं। हेल्दी प्रेग्नेंसी के लिए एक्सरसाइज करना बेहद जरूरी है। गर्भावस्था में व्यायाम करने से आपको प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाली कई कॉम्पलीकेशन जैसे हाई ब्लड प्रेशर आदि की संभावना को कम करता है। इसके अलावा यह आपके मूड को बेहतर बनाता है, जिससे आप हैप्पी रहती हैं। साथ ही नियमित व्यायाम से सामान्य रूप से प्रसव होने की संभावना कई गुना बढ़ जाती है।

इसे भी पढ़ें: जानिए क्या होता है इरेक्टाइल डिसफंक्शन और कैसे करें इलाज

इन्हें कहें नो

गर्भावस्था में ऐसी कई चीजें होती हैं, जिनसे दूरी बना लेना ही अच्छा है। जैसे गर्भावस्था में धूम्रपान व अल्कोहल से दूर रहना चाहिए। इससे कई तरह की समस्याएं जैसे समय से पहले ही जन्म, जन्म के समय कम वजन, मिसकैरिज, एक्टॉपिक प्रेग्नेंसी, आदि हो सकती हैं। इसके अलावा आपको गर्भावस्था में कैफीन के सेवन पर भी नजर रखनी चाहिए। गर्भावस्था में अत्यधिक कैफीन का सेवन मिसकैरिज या लो बर्थ वेट का कारण बन सकता है। इसलिए आप चाय व कॉफी के साथ−साथ एनर्जी डिंक, चॉकलेट व कोला आदि का बेहद सीमित मात्रा में ही सेवन करें।

मिताली जैन





डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।