50 प्लस की महिलाएं करें यह एक्सरसाइज, बीमारियां रहेंगी दूर

50 प्लस की महिलाएं करें यह एक्सरसाइज, बीमारियां रहेंगी दूर

स्ट्रेन्थ ट्रेनिंग से आपका बॉडी पॉश्चर सही बना रहता है। साथ ही साथ इससे हड्डियों की ताकत बनी रहती है और पीठ के निचले हिस्से में चोट लगने का खतरा कम होता है। इतना ही नहीं, यह आपकी बॉडी को टोन करने में भी मदद करती है।

जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है, महिलाओं को कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ता है। दरअसल, यह ऐसी अवस्था होती है, जब महिलाओं को मेनोपॉज होने लगता है, जिससे हॉट फ्लैशेस से लेकर नींद की समस्या शुरू हो जाती है। इसके अलावा, इस उम्र में ज्वाइंट्स पेन आदि की समस्या भी बेहद आम है। इन सभी समस्याओं को मैनेज करने का एक आसान तरीका है एक्सरसाइज करना। जब आप नियमित रूप से व्यायाम करती हैं तो इससे हृदय रोग, मधुमेह और ऑस्टियोपोरोसिस आदि का रिस्क भी काफी कम हो जाता है। एक्सरसाइज की वजह से आप अधिक उम्र में भी एक हेल्दी लाइफ जी पाती हैं। हालांकि, एक्सरसाइज करते समय आपको अपनी उम्र का ध्यान भी अवश्य रखना चाहिए। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको कुछ ऐसी एक्सरसाइज के बारे में बता रहे हैं, जिसे 50 प्लस की महिलाएं आसानी से कर सकती हैं-

इसे भी पढ़ें: बदलते मौसम में लोग ज्यादा बीमार क्यों पड़ते हैं? जानें कारण और बचाव के उपाय

करें यह एरोबिक एक्सरसाइज

एरोबिक व्यायाम आपके शरीर में बड़ी मांसपेशियों को काम करता है, जिससे आपके कार्डियोवैस्क्युलर सिस्टम को लाभ होता है और साथ ही साथ आपका वजन भी मेंटेन होता है। जब इस उम्र में एरोबिक एक्सरसाइज की बात होती है तो पैदल चलना, टहलना, तैरना और डांस करना अच्छी एक्सरसाइज साबित हो सकती हैं। आप सप्ताह में 3 या 4 दिन कम से कम 20 मिनट एरोबिक्स एक्सरसाइज कर सकती हैं।

करें स्ट्रेन्थ ट्रेनिंग 

स्ट्रेन्थ ट्रेनिंग से आपका बॉडी पॉश्चर सही बना रहता है। साथ ही साथ इससे हड्डियों की ताकत बनी रहती है और पीठ के निचले हिस्से में चोट लगने का खतरा कम होता है। इतना ही नहीं, यह आपकी बॉडी को टोन करने में भी मदद करती है। इसके लिए पहले आप एक हाथ से शुरूआत करें और इतना वजन उठाएं, जिसे आप बेहद आसानी से कम से कम आठ बार रिपीट कर पाएं। अब आप धीरे-धीरे इसे बढ़ाते हुए 10-12 तक करें।

इसे भी पढ़ें: स्वाद ही नहीं सेहत का भी खजाना है जामुन का सिरका, रोजाना सेवन से मिलते हैं कई चमत्कारी लाभ

जरूर करें स्ट्रेचिंग

स्ट्रेचिंग आपकी बॉडी की फ्लेक्सिबिलिटी को बनाए रखने में मदद करती है। जिससे चोट लगने और मांसपेशियों में दर्द के जोखिम को भी कम करते हैं। योग और पिलेट्स स्ट्रेचिंग व्यायाम के अच्छे रूप हैं, जिन्हें आप अपनी एक्सरसाइज रूटीन में शामिल कर सकती हैं।

मिताली जैन





डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।