जानिए क्या होता है विडाल टेस्ट और क्यों पड़ती है इसकी जरूरत

जानिए क्या होता है विडाल टेस्ट और क्यों पड़ती है इसकी जरूरत

विडाल टेस्ट करवाने का मुख्य उद्देश्य व्यक्ति के भीतर होने वाले टाइफाइड बुखार के बारे में पता लगाना है। वे बताते हैं कि टाइफाइड बुखार साल्मोनेला एंटरिका सेरोटाइप टाइफी बैक्टीरिया से टाइफाइड बुखार होता है। संक्रमण दूषित भोजन और पानी के सेवन से होता है।

जब किसी व्यक्ति को तेज बुखार, थकान, दस्त, कब्ज, पेट दर्द, गुलाब के धब्बे, सूखी खांसी और सिरदर्द की शिकायत रहती है तो ऐसे में डॉक्टरों द्वारा विडाल टेस्ट करवाने की सलाह दी जाती है, क्योंकि इस स्थिति में व्यक्ति को टाइफाइड बुखार होने की संभावना है। टाइफाइड के परीक्षण के लिए भी विडाल टेस्ट करवाया जाता है। विडाल टेस्ट का अर्थ है एग्लूटिनेशन बायोकेमिकल टेस्ट के जरिए मरीज के रक्तप्रवाह में टाइफाइड पैदा करने वाले बैक्टीरिया का पता लगाना। तो चलिए जानते हैं विस्तारपूर्वक इस टेस्ट के बारे में−

इसे भी पढ़ें: क्विनोआ खाने से मिलते हैं यह गजब के फायदे, जानिए इस लेख में

क्यों होता है विडाल टेस्ट

हेल्थ एक्सपर्ट बताते हैं कि विडाल टेस्ट करवाने का मुख्य उद्देश्य व्यक्ति के भीतर होने वाले टाइफाइड बुखार के बारे में पता लगाना है। वे बताते हैं कि टाइफाइड बुखार साल्मोनेला एंटरिका सेरोटाइप टाइफी बैक्टीरिया से टाइफाइड बुखार होता है। संक्रमण दूषित भोजन और पानी के सेवन से होता है। बता दें कि जॉर्जेस फर्डिनेंड विडाल ने इस परीक्षण को विकसित किया, और इसलिए परीक्षण का नाम उसके बाद विडाल परीक्षण कहा जाता है। रोगी के सीरम में एच और ओ सीरम एग्लूटीनिन की उपस्थिति की जांच के लिए एक विडाल परीक्षण का उपयोग किया जाता है।

ऐसे करता है काम

डॉक्टर्स के अनुसार, विडाल टेस्ट प्रक्रिया में टाइफाइड बुखार का पता लगाने के लिए सीरम एग्लूटिनेशन टेस्ट शामिल है। जो रोगी एंटरिक बुखार से पीडि़त हैं, वे सीरम में होमोलॉगस एंटीबॉडी ले जाएंगे। स्लाइड विधि और ट्यूब विधि दो प्रकार की विडाल परीक्षण प्रक्रियाएं हैं। यदि सीरम संबंधित एंटीजन के साथ प्रतिकि्रया करता है, तो एग्लूटीनेशन होगा। यह टाइफाइड का पता लगाने के लिए एक रैपिड टेस्ट है, जिसका रिजल्ट उसी दिन पता चल जाता है।

इसे भी पढ़ें: फेफड़ों को नेचुरली साफ करने के लिए अपनाएं यह आसान उपाय

यूं होती है पहचान

एक विडाल टेस्ट रिपोर्ट को आमतौर पर टाइफाइड टेस्ट रिपोर्ट के रूप में जाना जाता है। यदि एंटीजन ओ और एंटीजन एच के लिए विडाल टेस्ट रेंज 1:160 टाइटेनियम से अधिक या बराबर है, तो यह टाइफाइड संक्रमण का संकेत देता है। विडाल ब्लड टेस्ट के निदान के लिए टाइफाइड टेस्ट रिपोर्ट प्राप्त करने के लिए 1:20, 1:40, 1:60, 1:80, 1:160, और 1:200 टिट्स को डायग्नोसिस में शामिल करना होगा।  जब परीक्षण रिपोर्ट विडाल टेस्ट नॉर्मल रेंज चार्ट में निहित होती है, तो यह टाइफाइड बुखार के नेगेटिव है। यदि टेस्ट रिपोर्ट में टाइट्रे वैल्यू 1:20, 1:40, 1:80 और 1:160 से कम या बराबर है, तो टाइफाइड टेस्ट का परिणाम विडाल टेस्ट नार्मल वैल्यू है।

विडाल टेस्ट की कीमत

विडाल टेस्ट करवाने के लिए आपको बहुत अधिक पैसे खर्च करने की आवश्यकता नहीं है। आमतौर पर इसकी कीमत 250 से 300 रूपए के बीच होती है।

मिताली जैन





डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।