हाथों से खाना खाने से मिलते हैं गजब के लाभ, जानिए

हाथों से खाना खाने से मिलते हैं गजब के लाभ, जानिए

हाथों से भोजन करके हम अपने पाचन को बेहतर बना सकते हैं। दरअसल, जिस मिनट हम अपने भोजन को अपनी उंगलियों से स्पर्श करते हैं, उंगलियों में मौजूद तंत्रिका मस्तिष्क को संकेत देते हैं कि हम खाने वाले हैं। यही संदेश को आगे पेट में प्रेषित किया जाता है जो उचित पाचन के लिए आवश्यक एंजाइम और पाचन रस जारी करके पाचन की तैयारी शुरू करता है।

पुराने समय में लोग जमीन पर बैठकर हाथों से भोजन किया करते थे। लेकिन बदलते वक्त में जमीन की जगह डाइनिंग टेबल ने ले ली और लोग हाथों की चम्मच व कांटे का इस्तेमाल करने लगे। आपको भले ही यह मेनर्स लगते हों, लेकिन हाथों से भोजन करने से स्वास्थ्य को गजब के लाभ प्राप्त होते हैं। इतना ही नहीं, जब आप हाथों से भोजन करते हैं तो इससे सिर्फ आपका पेट ही नहीं भरता, बल्कि आपकी आत्मा और मन की भी तृप्ति होती है। तो चलिए जानते हैं हाथों से भोजन करने से होने वाले कुछ फायदों के बारे में−

पाचन में सुधार 

हाथों से भोजन करके हम अपने पाचन को बेहतर बना सकते हैं। दरअसल, जिस मिनट हम अपने भोजन को अपनी उंगलियों से स्पर्श करते हैं, उंगलियों में मौजूद तंत्रिका मस्तिष्क को संकेत देते हैं कि हम खाने वाले हैं। यही संदेश को आगे पेट में प्रेषित किया जाता है जो उचित पाचन के लिए आवश्यक एंजाइम और पाचन रस जारी करके पाचन की तैयारी शुरू करता है। जिससे भोजन का पाचन बेहतर होता है।

इसे भी पढ़ें: जल्दी वजन कम करना भी सेहत के लिए हो सकता है नुकसानदायक, जानिए कैसे

माइंडफुल ईटिंग

हाथों से भोजन करना माइंडफुल ईटिंग को भी बढ़ावा देता है। चम्मच की बजाय हाथों से भोजन करने से आप अपने भोजन से अधिक बेहतर तरीके से जुड़ते हैं। इतना ही नहीं, इस तरह भोजन करते हुए आप अधिक शांत व कॉन्शियस होते हैं। जिससे भोजन करने का अधिकतम लाभ आपको प्राप्त होता है।

नहीं जलती जीभ

जब आप हाथों से भोजन करते हैं तो आपकी उंगलियां पहले ही भोजन को स्पर्श कर लेती हैं और आपको खाने के तापमान के बारे में पता चल जाता है। हाथों से भोजन करने वाले व्यक्ति की जीभ कभी नहीं जलती। जबकि चम्मच से भोजन करने पर आपको खाना कितना गर्म है, इसका अंदाजा ही नहीं होता और आप अपनी जीभ जला बैठते हैं।

इसे भी पढ़ें: डेंगू के इस मौसम में बच कर रहें, जानिये बीमारी के लक्षण और बचाव के उपाय

चक्रों को लाभ

जब उंगलियां भोजन को मुंह में रखती हैं, तब यह एक यौगिक मुद्रा होती है, जो संवेदी अंगों को उत्तेजित करती है, जो प्राण संतुलन बनाए रखते हैं। वेदों के अनुसार, उंगलियों को तीसरी आंख, हृदय, गले,यौन, जड़ चक्रों से संबंधित किया जाता है। इसलिए, जब हम हाथों से भोजन ग्रहण करते हैं, तो यह स्पर्श और क्रिया चक्रों को टि्रगर करते हैं। जिसके कारण हमें बहुत अधिक लाभ प्राप्त होता है।


ओवरइटिंग से बचाव

जब हम हाथों से भोजन करते हैं तो बेहद आराम व शांत चित्त से ऐसा करते हैं। जिसके कारण कम भोजन में ही व्यक्ति का पेट भर जाता है। ऐसे में वह ओवरइटिंग से बच जाता है। इतना ही नहीं, हाथों से भोजन करने से व्यक्ति को सेटिफेक्शन का अहसास होता है, जिसके कारण एक बार पेट भर जाने के कुछ देर बाद उसे दोबारा जल्दी से भूख नहीं लगती। इस तरह ओवरइटिंग से बचकर आप आप वजन बढ़ने व अन्य कई तरह की समस्याओं को खुद से दूर रख सकते हैं।

मिताली जैन





डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।