भोलेनाथ की होगी भरपूर कृपा, व्रत में भी बनाए रखें उत्साह

भोलेनाथ की होगी भरपूर कृपा, व्रत में भी बनाए रखें उत्साह

व्रत के दिन हमेशा फाइबर युक्त भोजन करें। आप हमेशा ऐसा फलाहार चुनें जो फाइबर से भरपूर हो और पचने में अधिक समय ले। इससे आपको लम्बे समय तक ऊर्जा मिलेगी और आप स्वस्थ्य रहेंगे। ऐसे में आप खाने में आप राजगीर, सिंघाड़ा और कद्दू शामिल करें।

महाशिवरात्रि आने वाला है, ऐसे में आप भगवान शिव को प्रसन्न कर उनका आर्शीवाद पाने के लिए व्रत जरूर करेंगे, लेकिन व्रत के दिन आपको अपनी सेहत को लेकर सचेत और सजग रहने की जरूरत है। 

हमारे यहां महाशिवरात्रि उपवास और उत्सव का अवसर माना जाता है, ऐसे में आप एक तरफ तो व्रत रख धार्मिक अनुष्ठान करती हैं वहीं दूसरी तरफ त्यौहार मनाने की भी तैयारियां धूमधाम से करती हैं। इस खास अवसर पर खानपान से जुड़ी सावधानी बरतना जरूरी है क्योंकि इससे न केवल आप स्वस्थ्य रहेगी बल्कि त्यौहार का उत्साह भी बढ़ जाएगा। 

इसे भी पढ़ें: Mahashivratri 2022: शिवजी को अतिप्रिय है बेलपत्र, इसके सेवन से दूर हो सकती हैं कई गंभीर बीमारियाँ, ऐसे करें इस्तेमाल

उपवास में इन बातों का रखें ख्याल 

व्रत में फाइबर युक्त फलाहार खाएं

व्रत के दिन हमेशा फाइबर युक्त भोजन करें। आप हमेशा ऐसा फलाहार चुनें जो फाइबर से भरपूर हो और पचने में अधिक समय ले। इससे आपको लम्बे समय तक ऊर्जा मिलेगी और आप स्वस्थ्य रहेंगे। ऐसे में आप खाने में आप राजगीर, सिंघाड़ा और कद्दू शामिल करें। व्रत के दौरान हमारा शरीर डिटॉक्स से गुजर रहा होता है , ऐसे में हमें आराम की जरूरत होती है। इसलिए आप रोज 7-8 घंटे की नींद जरूर लें। साथ ही अपने शरीर को पूरी तरह से डिटॉक्सिफाई करने के लिए योग भी कर सकते हैं। 

पानी खूब पीएं

उत्सव के दौरान अगर आप व्रत रखते हैं तो आप डिहाइड्रेशन से बचें। अपने शरीर में जल का आवश्यक स्तर बनाए रखने के लिए पानी पीते रहें। खूब पानी पीने के साथ ही आप नारियल पानी, दूध और ताजे फलों का रस भी ले सकते हैं जो न केवल थकान से बचाएगा बल्कि रोगों से भी दूर रखेगा। व्रत के दिन हमें भूख ज्यादा लगती है। लेकिन जरूरत से ज्यादा खाने से पहले एक बार जरूर सोचें। खाने की गलत आदतें न केवल आपको उपवास के उद्देश्य से दूर ले जाएगी बल्कि पाचन तंत्र पर बुरा असर डालेगी। ऐसे में आप चिकने और तैलीय भोजन से दूर रहकर आहार में ताजे फल और सब्जियों को शामिल करें। 

इसे भी पढ़ें: स्वाद ही नहीं सेहत का भी खजाना है जामुन का सिरका, रोजाना सेवन से मिलते हैं कई चमत्कारी लाभ

व्रत में मीठा खाने से करें परहेज

व्रत में कभी भी स्नैक्स खाने की इच्छा होती है। ऐसे में कभी भी आलू के तले हुए चिप्स न खाएं। इस तरह की हल्की भूख के लिए आप मखाना भून कर रख सकती हैं। मखाना विटामिन डी का अच्छा स्रोत होता है। साथ ही आप घर में ड्राई फ्रूट्स की नमकीन बना लें और शकरकंद के स्नैक्स भी आपकी सेहत के लिए लाभदायी साबित होंगे। बाजार में व्रत के दौरान मीठा खाने के लिए बहुत से पैकेट फूड उपलब्ध होते हैं। ये डिब्बा बंद स्नैक्स प्रोसेस्ड चीनी और रिफाइंड से बने होते हैं जो सेहत के लिए हानिकारक होते हैं। इसलिए आप उपवास के दौरान मीठा खाने के लिए घर में बनी मिठाई या गुड़ का इस्तेमाल करें। 

व्रत में बाजार के स्नैक्स से परहेज करें

बाजार में महाशिवरात्रि के दौरान खाने के लिए आसानी से नमकीन और चिप्स के पैकेट मिल जाते हैं लेकिन आप हमेशा इनसे बचें क्योंकि ये आपके व्रत के उद्देश्य को कम करते हैं। महाशिवरात्रि व्रत के दौरान आप पूजा-पाठ में बहुत व्यस्त रहती हैं, ऐसे में अपने शरीर का खास ख्याल रखें। काम का अधिक दबाव आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है। ऐसे में कुछ समय के अंतराल में खाते रहें और आराम करें।

महाशिवरात्रि व्रत में ये न खाएं

शिवरात्रि के व्रत में मांसाहार और भारी भोजन खाने से पूरी तरह परहेज करना चाहिए और प्याज -लहसुन का इस्तेमाल न करें। जिन लोगों को गैस या एसिडिटी की समस्या होती हो वो व्रत के दिन चाय और कॉफी कम पीएं। उपवास के दिन साधारण नमक का इस्तेमाल बिल्कुल न करें, इसकी जगह पर सेंधा नमक डालें। मदिरा पान से बचें और ब्रह्मचर्य का पालन करें।

महाशिवरात्रि व्रत में इनका सेवन जरूर करें

शिवरात्रि के व्रत में आप अनार या संतरे का जूस पी सकते हैं। ऐसा करने से शरीर में पानी की कमी नहीं होती और एनर्जी भी बनी रहती है। ज्यादा से ज्यादा से पानी पीएं, ताकि आपको डिहाड्रेशन जैसी समस्या का सामना न करना पड़े। इस दिन आप मखाने और मूंगफली को हल्के घी में फ्राई कर इसमें सेंधा नमक मिलकर भी खा सकते हैं। व्रत में मीठी चीजें खा सकते हैं जिसमें गाजर या लौकी की खीर बनाकर खा सकते हैं।

- प्रज्ञा पाण्डेय





डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।